आंटी की चूत का भोसड़ा बनाने का मजा-1

hindi sex stories हैल्लो दोस्तों, मेरा मन अपनी माँ और चाची की चूत मार-मारकर अब भर चुका था और में गाँव वाली बुआ की भी चूत का भोसड़ा बना चुका था। हाँ लेकिन उनकी दोनों लड़कियों की प्यास अभी अधूरी ही थी, में चाहता तो बड़े आराम से उन्हें चोद सकता था बल्कि बुआ खुद ही मेरा लंड पकड़कर अपनी दोनों बेटियों की चूत में घुसेड़ती। लेकिन मेरा उनकी बेटियों में कोई इंटरेस्ट नहीं था, लेकिन अब कोई और चूत भी मेरी नजर में नहीं थी और मेरा लंड था की उतावला हो रहा था, अब उसे तो चूत चाहिए ही चाहिए थी।

खैर उस दिन तो मैंने अपनी मम्मी को ही चोदा, लेकिन फिर दूसरे दिन में बिना इरादे के ही सड़क पर टहल रहा था कि अचानक से कोई मुझसे टकराया। तो मैंने नजर उठाकर देखा, तो वो करीब 45-46 साल की लेडी रही होगी, लेकिन वो मैंनटेन बहुत थी। अब में भी ख्यालों में था और वो पता नहीं कैसे मुझसे टकरा गयी? तो मुझे अचानक से होश आया, तो तब मैंने हड़बड़ा कर उनसे सॉरी बोला। अब उनके हैंड बैग में से कुछ सामान नीचे गिर गया था और वो बैठकर अपना सामान उठा रही थी। उनका ब्लाउज काफ़ी टाईट था, जिसके अंदर उनकी बड़ी-बड़ी चूचीयाँ बाहर निकालने को बेताब थी, हालांकि उन्होंने पल्लू डाल रखा था, लेकिन पिंक कलर की पारदर्शी सी साड़ी से सब साफ-साफ नजर आ रहा था। अब में खड़े-खड़े उनके बूब्स का नज़ारा देख रहा था तो तब ही जैसे ही में नींद से जगा और में भी उनका सामान उठाने में मदद करने लगा।

तो तभी मैंने कहा कि सॉरी आंटी मेरी वजह से आपका सामान बिखर गया। तो वो बोली कि कोई बात नहीं बेटा इट्स ओके और फिर सारा सामान रखने के बाद वो मुझसे बोली कि बेटा तुम नयी पीढ़ी की यही एक प्रोब्लम है हर कोई कहीं ना कहीं खोया रहता है। तो में शर्मिंदा होते हुए बोला कि नहीं आंटी ऐसी बात नहीं है, आप गलत सोच रही है। फिर उन्होंने मुझसे पूछा कि बेटा क्या तुम कॉफी पीना पसंद करोगे? तो मैंने तुरंत ही हाँ में जवाब दिया और फिर हम लोग वही पास के कॉफी शॉप पर बैठ गये, वहाँ ज़्यादातर लड़के और लड़कियाँ ही थे, वो उन सबको देख रही थी। फिर उन्होंने अचानक से मेरी तरफ देखकर पूछा कि बेटा आप क्या करते हो? तो मैंने कहा कि आंटी में लॉ कर रहा हूँ। तो वो बोली कि बहुत खूब, लेकिन तुम्हारा ध्यान किधर था? क्या तुम भी इन सब फालतू लड़को की तरह नयी तितलियों को देख रहे थे?

अब उन्होने जिस अंदाज़ में ये बात कही मुझे अज़ीब सा लगा तो मैंने हड़बड़ाते हुए कहा कि नहीं आंटी ऐसी कोई बात नहीं है, खैर आप बताए आप कहाँ से आ रही थी? तो तब वो हँसते हुए बोली कि क्या बेवकूफी भरा सवाल किया है? अरे भाई मार्केटिंग करके आ ही रही थी कि तुमने धक्का मार दिया, अच्छा ये बताओं घर में और कौन-कौन है आपके बेटा? तो मैंने कहा कि मम्मी-पापा और एक छोटी बहन है और आंटी आपके घर में? तो उनका छोटा सा जवाब मिला में और मेरी बेटी। तो मैंने पूछा कि और अंकल? तो वो बोली कि बेटा वो एयरफोर्स में है और मेरा बेटा भी वही ट्रेनिंग कर रहा है। अब उनकी बातों में बहुत उदासी भरी थी, तो तब ही अचानक से मौसम खराब हो गया और बारिश होने लगी। फिर हम लोग बहुत देर तक इधर उधर की बातें करते रहे। फिर करीब 2 घंटे के बाद भी पानी नहीं रुका, तो आंटी कुछ परेशान हो गयी। तो मैंने पूछा कि क्या बात है आंटी? आप कुछ परेशान सी है।

तो तब उन्होंने घड़ी में देखते हुए कहा कि बेटा 8 बज रहे है और पानी रुकने का नाम ही नहीं ले रहा और अब तो कोई टेक्सी भी नहीं मिलेगी। तो तब मैंने कहा कि आंटी मेरा घर पास में ही है, आप चाहे तो चल सकती है। तो तब वो बोली कि बेटा असल में घर पर नेहा अकेली होगी और आजकल का माहौल तो तुम जानते ही हो, जवान लड़की को अकेला नहीं छोड़ना चाहिए। तो तब मैंने कहा कि आंटी आप यही रुके में अभी कार लेकर आता हूँ। तो तब वो बोली कि बेटा तुम भीग जाओगे। तो तब मैंने कहा कि आंटी जवान लोगों पर बारिश का असर नहीं होता है और में भागकर घर गया और मम्मी को बताया कि एक दोस्त के घर जा रहा हूँ कोई ज़रूरी काम है। तो मम्मी मुझे रोकती ही रह गयी की बेटा बारिश हो रही है कल चले जाना, लेकिन में नहीं रुका और कार लेकर कॉफी शॉप पहुँच गया, पानी अभी भी बहुत तेज़ था।

फिर वो जैसे ही शॉप से बाहर मेरी गाड़ी तक आई, तो वो काफ़ी हद तक भीग चुकी थी और में तो पहले ही भीग गया था क्योंकि घर तक जाने में काफ़ी भीग चुका था। खैर फिर थोड़ी ही देर के बाद में एक बड़ी सी कोठी के सामने रुका, तो में कोठी देखकर हैरान रह गया। तो तब ही वो कार से उतरते हुए बोली कि बेटा कार पार्किंग में पार्क करके घर में चले आओ, तुम बहुत भीगे हो चेंज कर लो नहीं तो सर्दी लग जाएंगी। तो मैंने कहा कि नहीं आंटी ऐसी कोई बात नहीं है बस आपको घर तक छोड़ दिया अब मेरा काम ख़त्म अब में चलता हूँ, इजाज़त दीजिए। तो तब आंटी ने थोड़ा डांटकर कहा कि जितना कह रही हूँ उतना करो, आख़िर में तुम्हारी माँ की तरह हूँ, जाओ गाड़ी पार्क करके आओ। तो इतनी देर की बहस में आंटी बिल्कुल भीग चुकी थी। फिर जब में गाड़ी पार्क करने के बाद वापस आया, तो आंटी वही पर खड़ी थी। अब उनकी साड़ी बिल्कुल भीगकर उनके शरीर से चिपक चुकी थी, अब पिंक साड़ी के नीचे उनकी ब्लेक डिज़ाइनर ब्रा साफ नजर आ रही थी। हालांकि मेरे मन में अभी तक उनके लिए कोई गलत विचार नहीं थे, लेकिन आख़िर कब तक मेरे अंदर का शैतान सोया रहता।

अब उनको इस पोजिशन में देखकर मेरे औज़ार में सनसनी होने लगी थी। फिर में कुछ देर तक उनको निहारता रहा। तो तब ही वो मेरी आँखों के आगे चुटकी बजाते हुए बोली कि कहाँ खो गये बेटे? तुम किसी डॉक्टर को दिखाओ, तुम्हारे अंदर कोई बीमारी है और मेरा हाथ पकड़कर अंदर ले जाने लगी। तो अंदर दाखिल होते ही मुझे एक बहुत ही खूबसुरत लड़की नजर आई, जिसकी उम्र करीब 18-19 साल की रही होगी, वो स्कर्ट टॉप पहने हुई थी और सूरत से बहुत परेशान नजर आ रही थी। फिर आंटी को देखते ही वो उनसे लिपट गयी और बोली कि मम्मी आप कहाँ चली गयी थी? में घबरा रही थी। तो आंटी ने उसको अलग करते हुए कहा कि मेरी रानी बेटी बाहर पानी बरसने लगा था इसलिए देर हो गयी और में फोन लगा रही थी तो लग नहीं रहा था, खैर कोई बात नहीं अब तो में आ गयी हूँ मेरी बहादुर बच्ची, तुमने खाना खाया?

फिर उसने कहा कि जी मम्मी अभी थोड़ी ही देर पहले रामू काका खाना देकर अपने घर चले गये है, अब मुझे भी बहुत नींद आ रही है में भी सोने जा रही हूँ। तो अचानक से मुझे देखकर वो थोड़ी संभलते हुए बोली कि मम्मी ये साहब कौन है? तो मम्मी ने कहा कि बेटा आज में कार नहीं ले गयी थी और आज ही पानी को बरसना था, तो इसने ही मुझे लिफ्ट दी है, इनका नाम राजेश है और तब वो मुझे नमस्ते करके अपने रूम में सोने चली गयी और अब रूम में में और आंटी ही रह गये थे। तो तब ही आंटी ने मुझे एक लुंगी देते हुए कहा कि लो ये पहन लो। तो मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिए और लुंगी बांध ली, मैंने अपनी बनियान और अंडरवेयर नहीं उतारी थी। तो तब आंटी बोली कि बेटा सारे कपड़े उतार दो अभी थोड़ी ही देर में सूख जाएँगे, तो तब पहन लेना और बनियान भी उतारकर निचोड़ लो बहुत भीगी है। तो तब मैंने झिझकते हुए अपनी बनियान उतारकर निचोड़कर खूंटी पर टाँक दी और वही वॉशरूम में जाकर अपनी अंडरवेयर भी उतार कर सूखने को डाल दी।

Updated: November 26, 2018 — 11:25 pm
Meri Gandi Kahani - Desi Hindi sex stories © 2017 Frontier Theme
error: