भाभी को दिखाई नई ब्लू फिल्म

में इस वेबसाइट पर कहानियां बहुत दिनों से पढ़ रहा हूँ। तो मैंने सोचा कि मुझे भी अपनी कहानी भेजनी चाहिए। ये मेरी पहली कहानी है कोई गलती हो तो मुझे माफ़ करना। अब में आप को अपना परिचय देता हूँ। मेरा नाम है सोनू ( बदला हुआ नाम) में BSC कर रहा हूँ और मेरी उम्र 19 है। किसी भी लड़की को संतुष्ट कर सके उतनी मेरे लण्ड की लम्बाई है। मेरे घर के सामने एक विवाहित पति-पत्नी रहते थे। में उनको भैया भाभी बोलता था। भाभी बहुत ही सेक्सी टाइप की थी। उनकी गांड बहुत ही गोल और मोटी थी और उनके बूब्स का आकार ज्यादा बड़ा नहीं पर बहुत कामुक था। में तो बस उनकी गांड और चूत का दीवाना था।

बात उन दिनों की है जब में 12वीं कक्षा में पढता था। भैया हमेशा काम के सिलसिले में बाहर रहते थे और भाभी घर पर अकेली रहती थी। वो मुझे कुछ ना कुछ सामान लाने के लिए हमेशा बुलाती रहती थी। तो में उनके ही घर पर ज्यादा रहता था। एक दिन मैंने उनसे पूछा कि..

में : क्या में आप के घर पर एक ब्लू फिल्म देख सकता हूँ?

तभी भाभी चोंक गई और कुछ देर बाद मुस्कुराने कहने लगी और बोली..

भाभी : ठीक है जब तुम्हारे भैया चले जायंगे तब तुम देख सकते हो और साथ में मेरा काम भी करते रहना।

में : ठीक है।

फिर में घर जाकर भाभी की चुदाई के सपने देखने लगा और मैंने 3 बार मुठ मारी और अपने आप को शांत किया।

कल फिर जब भैया चले गए तब में भाभी के घर गया ब्लू फिल्म की सीडी ले कर। वो सीडी मैंने अपने दोस्त से मंगवाई थी। जब में गया तब भाभी कपड़ो को अलमारी में रख रही थी।

में : भाभी में लेकर आ गया ब्लू फिल्म की सीडी ।

भाभी : मेरे पास भी थी। तुम मुझे ही बोल देते में दे देती।

में : चलो कोई बात नहीं ये नई वाली फिल्म है। आप ने नहीं देखी होगी। आज आप इसको देखो।

भाभी : ठीक है।

मैंने सीडी डीवीडी में डाल कर चला दी। भाभी ने थोड़ी देर फिल्म देखी । और बोली..

भाभी : मुझे नींद आ रही है में सो रही हूँ।

में : ठीक है ।

भाभी : जब तुम जाओ तो मुझे उठा देना।

फिर भाभी सो गई और थोड़ी देर बाद मुझे सेक्स का नशा चढ़ने लगा और मैंने भाभी के कान में बोला कि ‘भाभी क्या में आपको चोद सकता हूँ।’ शायद भाभी सो नहीं रही थी तो उन्होंने बोला ‘जो करना है वो कर ले’ और वो सीधी होकर सो गई और सबसे पहले मैंने उनके होंठो को चूमना शुरू कर दिया और उन्होंने भी मेरा साथ दिया। मैंने उनके बूब्स दबाने शुरू कर दिए और उनकी सिसकियाँ निकलनी शुरू हो गई।

भाभी : आआहह्ह्ह्ह्ह्हाआआह्ह्ह्ह्ह्ह ऒर तेतेतेज्ज्ज

में : हां भाभी आज आप को में जमकर चोदूंगा।

भाभी : आई लव यू सोनू.. मुझे जम कर चोदना में बहुत दिनों से प्यासी हूँ।

में : हां रंडी साली तुझे तो आज में अपनी गुलाम बनाउंगा।

भाभी : में आज से तेरी गुलाम हूँ। तू जब कहेगा में तब चुदने के लिए तैयार हूँ।

फिर भाभी मुझे बुरी तरह से चूमने लगी और में भी उनको चूमता रहा। 10-15 मिनट में उनकी चूत को चूसने लगा और वो तेज तेज सिसकियाँ लेने लगी। में उनकी चूत को चूसता ही जा रहा था। और वो बोल रही थी कि मादरचोद चूस साले आज इसको पूरा खा जा.. बहुत दिनों से परेशान कर रखा है इसने और ये बोलते बोलते उन्होंने मेरा सर अपनी चूत पर दबा दिया और तेज आवाज के साथ झड़ गई। फिर उन्होंने मुझे अपने पास बुलाया और मेरे होटों को चूम लिया और बोली..

भाभी : आज पहली बार किसी ने मेरी चूत को इतनी अच्छी तरह से चूसा है।

में : क्यों ? भैया नहीं चाटते थे?

भाभी : उनको ये सब पसंद नहीं है वो सिर्फ मेरी चूत में अपना लण्ड डालते है और 2 मिनट में झड़ जाते है और सो जाते है और में प्यासी ही रह जाती हूँ।

फिर मैंने भाभी से बोला कि आप मेरा लण्ड कब चूसोगी। फिर भाभी ने अपने कपडे और मेरे कपड़े उतारे। फिर मेरा लण्ड पकड़ कर उसको अपने मुहं में भर लिया और जोर जोर से चूसने लगी। मेरे मुहं में से सिसकियाँ निकलने लगी ” आअह्ह्ह भाभाभाभाभीभीभी और तेज और तेज में झड़ने वाला हूँ।” फिर में उनके मुहं में ही झड़ गया। वो मेरा पूरा वीर्य एक झटके में गटक गई। फिर हमने थोड़ी देर तक एक दूसरे के शरीर को सहलाया। थोड़ी देर बाद मेरा लण्ड उठने लगा और भाभी बोली कि इसको मेरे अंदर तक डाल दो में बहुत प्यासी हूँ।

फिर मैंने अपना लण्ड भाभी की चूत पर लगाया और एक जोर का झटका दिया और लण्ड भाभी की चूत में आधा अन्दर घुस गया। भाभी के मुहं से बहुत तेज चीख निकल गई। मैंने उनके मुहं पर हाथ रख दिया। फिर एक और झटका मारा और भाभी की आखों से आंसू निकल गए। में थोड़ी देर रुक गया। थोड़ी देर बाद भाभी ने कहा कि अब दर्द थोडा कम है और धीरे-धीरे करो। फिर मैंने धीरे-धीरे धक्के लगाने चालू किए।

भाभी : तेज-तेज करो।

में : हाँ भाभी (हाफ़ते हुए बोला)

10-12 मिनट चोदने के बाद मुझे लगा कि में झड़ने वाला हूँ तो मैंने भाभी को अपने ऊपर बिठा दिया और भाभी मेरे ऊपर जोर जोर से कूदने लगी।

में : में झड़ने वाला हूँ।

भाभी : कोई बात नहीं तुम मेरे अन्दर ही झड़ जाओ और जोर-जोर से कूदने लगी। आज में तुमको नहीं छोडूंगी चाहे तुम मर जाओ।

में : भाभी आप धीरे धीरे कूदो।

भाभी : ठीक है ।

थोड़ी देर बाद में झड़ गया और भाभी से बोला कि आप धीरे धीरे कूदो। 4-5 मिनट बाद मेरा लंण्ड फिर से खड़ा हो गया। मैंने उनको अपनी गोद में उठा लिया और खड़े-खड़े उनको चोदने लगा। वो जोर-जोर से चिल्लाने लगी और झड़ गई। में एक बार झड़ चुका था इसलिए मेरे झड़ने में बहुत समय बाकी था। फिर मैंने तेज-तेज झटके देने शुरू कर दिए और भाभी को बुरी तरह से चोदने लगा। करीब 15 मिनट बाद मैंने कहा : में झड़ रहा हूँ।

भाभी बोली : मेरे अन्दर ही झड़ जाओ क्योंकि मुझे तुम्हारा बच्चा चाहिए।

में 5-6 तेज झटको के बाद उनके अन्दर ही झड़ गया। भाभी भी अपने अन्दर मेरा गरम-गरम वीर्य महसूस करके झड़ गयी। हम दोनों 5 मिनत तक बिस्तर पर पड़े रहे। फिर भाभी ने मुझे चूमा और बाथरूम में चली गई। थोड़ी देर बाद भाभी ने कपडे पहन कर कहा..

भाभी : आई लव यू.. तुमने आज मुझे बहुत सुख दिया और आज से में तुम्हारी हूँ। अब तुम मुझे कभी भी चोद सकते हो।

में : आई लव यू टू भाभी।

फिर मैंने अपने कपड़े पहने और घर चला गया। उस दिन के बाद मैंने बहुत बार भाभी को चोदा और आज वो मेरे बच्चे की माँ बन चुकी है ।।

Updated: November 21, 2014 — 7:32 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Meri Gandi Kahani - Desi Hindi sex stories © 2017 Frontier Theme