भाई ने चोद ही दिया

sex stories in hindi हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम आसिफा है, मैंने बहुत सी सेक्सी स्टोरी पढ़ी तो सोचा कि में भी आप लोगों के साथ अपना एक्सपीरियन्स शेयर करूँ। आज जो कहानी में आप लोगों को बताउंगी, वो 100% सच है सिवाए मेरे कज़िन के नाम के। अब में सीधी स्टोरी पर आती हूँ। में कराची के शहर लियाक़ुतबाद में रहती हूँ, मेरी उम्र 23 साल, रंग गोरा, हाईट क़रीब 5 फुट 6 इंच है। मेरा फिगर बहुत हॉट है, कोई भी मुझे देखकर अपने लंड को कंट्रोल में नहीं रख सकता। में ज्यादातर स्किन फिट ड्रेस पहनती हूँ, मेरे निपल्स पिंक है जो किसी के भी होश उड़ाने के लिए काफ़ी है, मेरा फिगर साईज 34-28-34 है।

अब में स्टोरी पर आती हूँ ये कहानी मेरी और मेरे कजिन औबेद की है। वो मुझसे 1 साल बड़ा है। हम बचपन से ही साथ रहे, एक साथ बड़े हुए इसलिए हम एक दूसरे के बहुत क़रीब है और एक दूसरे की हर एक बात जानते है। अब 2 हफ्ते पहले मेरे घरवाले मेरे मामा की शादी में हैदराबाद गए हुए थे और में पढाई की वजह से नहीं गई और अकेली ही घर पर रुक गई। अब मेरे सब घरवाले चले गए थे। फिर अगले दिन मेरा और मेरे कज़िन का बाहर जाने का प्रोग्राम बन गया, फिर हम सुबह 10 बजे घूमने निकल गए। फिर हम हवकसबाय गए, वो भी बाइक पर आई लव बाइक राइडिंग क्योंकि वो बहुत अच्छी बाइक चलाता है। फिर 12 बजे हम वहाँ पहुँचे और हमने पूरा दिन वहाँ गुज़ारा, हमने बहुत इन्जॉय किया और डिनर करके वापस आ गए।

अब वापस आते समय वो जानबूझ कर ब्रेक लगा रहा था, जिससे मेरे ब्रेस्ट बार-बार उसके कंधो पर लग रहे थे। अब वो पूरे रास्ते यही करता रहा। अब में भी चुपचाप मज़े लेती रही। फिर वापस आते समय उसने अपनी बाइक एक मेडिकल स्टोर पर रोकी और कुछ लिया। तो मैंने पूछा तो उसने कहा कि पेन किलर है। अब रात बहुत हो गई थी तो मैंने उसे अपने पास ही रोक लिया और उसके घर कॉल कर दी कि आबेद 1-2 दिन यही रहकर मेरी पढाई में मदद करेगा, तो उसके पापा भी मान गए और कहा कि ओके बेटा। अब में बहुत खुश हो गई थी, क्योंकि आज मेरी बरसो से प्यासी चूत की ओपनिंग होने वाली थी। फिर रात के 3 बजे आबेद मेरे रूम में आया, में गर्मी की वजह से नंगी हो कर सोती थी और मैंने चादर भी नहीं ओढ़ रखा था। अब में पूरी नंगी आबेद के सामने थी, उसे नहीं मालूम था कि में जाग रही हूँ। अब वो दरवाजे पर खड़ा हो कर नाईट बल्ब की रोशनी में मेरी नंगी जवानी के मज़े ले रहा था और अपने लंड को सहला रहा था।

फिर वो मेरे पास आ कर लेट गया और मेरे बूब्स से खेलने लगा। उफफफ्फ़ अब उसके हाथ लगते ही में तो गर्म हो गई थी, अब मेरी चूत की आग और बड़ गई थी। फिर उसने मेरे निपल्स को अपने मुँह में लेकर चूसना शुरू कर दिया। अब में पागल हो रही थी, अब मुझे बर्दाश्त नहीं हो रहा था, अब मैंने करवट लेकर अपनी पीठ उसकी तरफ़ कर ली। अब वो अपने कपड़े उतार चुका था, अब मुझे उसका हार्ड लंड मेरी गांड पर महसूस हो रहा था, अब में फुल मदहोश थी। फिर उसने मुझे सीधा किया और मेरे ऊपर आ गया और मेरे होंठो पर अपने होंठ रखकर लेट गया। अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था, फिर मैंने भी बुरी तरह से उसके होंठो को चूसना शुरू कर दिया। अब 20 मिनट की किसिंग के बाद जब उसने अपने होंठ हटाए, तो उसने मुझसे कहा कि में जानता था तुम भी यही चाहती हो। अब ये कहते ही वो मुझ पर टूट पड़ा और दीवानो की तरह मेरा पूरा जिस्म चाटने और चूसने लगा।

अब में बुरी तरह सिसक रही थी, अब वो मेरी टांगो के बीच में था और मेरी चूत को अपनी उंगली से रब कर रहा था। अब में पूरी पागल हो गई थी, फिर जब उसने अपना मुँह मेरी चूत पर रखा तो मुझे कुछ होश नहीं रहा। अब वो बहुत मस्त सकिंग कर रहा था और में आअहह ऊओह ऊओह्ह्ह्ह आअहह यययूउहह आहह कर रही थी कि अचानक मेरा जिस्म अकड़ने लगा और 2 मिनट के बाद में झड़ गई। फिर वो उठकर खड़ा हो गया, अब में नीचे हो कर उसके 8 इंच लंबे लंड से खेल रही थी और उसे लॉलीपोप की तरह चूस रही थी। अब वो आहह आहह आसिफ़ा मेरी रानी खा ले इस लंड को आहह कर रहा था। फिर 30 मिनट के बाद उसने मुझे कुतिया बनाकर एक ही झटके में अपना पूरा लंड मेरी चूत में अंदर डाल दिया, तो में बुरी तरह से चिल्लाई आहह ऊओबाइइड प्लीज निकाल लो, में मर गइइइईई ऊईईईई, लेकिन वो नहीं रुका और लगातार झटके लगाता रहा।

अब मेरा दर्द कम होने लगा था और अब मुझे भी मजा आने लगा था, अब में भी अपनी गांड को पीछे धक्का लगाकर उसका पूरा साथ दे रही थी। फिर 1 घंटे के बाद वो मेरे बूब्स पर झड़ गया, इस दौरान में 5 बार झड़ी थी। अब में हैरान थी कि वो इतनी देर तक कैसे नहीं झड़ा? तो मैंने उससे पूछा, तो उसने कहा कि ये राज़ है। तो मैंने कहा कि क्या कोई मुझे बतायेगा कि वो इतना लंबा कैसे चोद पाया बिना झड़े? ख़ैर उस रात उसने मुझे 4 बार और चोदा और मेरी गांड भी मारी। अब सुबह मुझसे चला भी नहीं जा रहा था, फिर सुबह वो मुझे उठाकर वॉशरूम में ले गया। फिर उसने मुझे अपने हाथों से नहलाया, फिर उसने मुझे ब्रा पेंटी और बाकी ड्रेस पहनाई जो 10 मिनट के बाद ही उसने खुद उतार दी थी और एक बार फिर से जमकर मेरी चूत मारी। अब मेरी चूत बहुत बुरी तरह से सूज गई थी। फिर वो दिनभर थोड़ी-थोड़ी देर के बाद मेरी चूत को चूस-चूसकर मुझे डिसचार्ज करता रहा। अब मेरी हालत बहुत खराब हो गई थी, अब में उठ भी नहीं पा रही थी। अब इस दिन के बाद से तो सेक्स हमारा रोज़ का काम बन गया है। अब में कम से कम दिन में एक बार आबेद से लाज़मी चुदवाती हूँ और खूब मजे लेती हूँ ।।

धन्यवाद …

Updated: October 30, 2018 — 11:14 pm
Meri Gandi Kahani - Desi Hindi sex stories © 2017 Frontier Theme
error: