छवि ने अपनी बहन को चुदवाया

हैल्लो दोस्तों,  मेरा नाम अभय है, में 24 साल का हूँ और मैंने कभी सेक्स नहीं किया था, लेकिन मेरे एक दोस्त ने जब से मुझे ब्लू फिल्म दिखाई है तब से मेरी ये कोशिश रहती थी कि कोई ऐसा मिले जिसके साथ में सेक्स कर सकूँ.

मेरी यह कहानी लंबी है, लेकिन आप लोग इस कहानी को ध्यान और प्यार से पढ़ना. फिर एक दिन दोपहर के डेढ़ बजे मुझे छवि का फोन आया, आज घर पर कोई नहीं है सब 4-5 घंटे के लिए बाहर गये है, कुछ करो आज बहुत खुजली हो रही है, तो मैंने कहा कि ठीक है में आ रहा हूँ और फिर में 20-25 मिनट में उसके घर पर पहुँचा, तो छवि ने गेट खोला और फिर उसने मुझे बैठाया और बातें करने लगी. अब हमेशा की तरह उस दिन भी वो बहुत सेक्सी लग रही थी, उसकी उम्र 25 साल थी और और उसकी फिगर तो ऐसा था कि पूछो मत, उसका नाम छवि था, अब मुझे तो वो औरत नहीं लड़की ही लग रही थी.

फिर मैंने कहा कि तुम तो बहुत मस्त लग रही हो, उसकी आवाज बहुत सेक्सी थी और वो बहुत ही सुंदर है, एकदम गोरी, लम्बे-लम्बे काले बाल, हाईट करीब 5 फुट 5 इंच और फिगर साईज 38-24-38 था, उसका फिगर बहुत मस्त था. उस वक्त छवि ने सिर्फ़ सफ़ेद रंग की पारदर्शी नाइटी पहनी थी और अंदर कुछ नहीं पहना था. फिर मेरे अंदर आते ही वो मुझसे लिपट गयी और अब वो पूरी गर्म थी और अब उसका बदन भी सिकुड़ रहा था. अब उसने मुझे कसकर जकड़ लिया था. अब में भी उसकी पीठ सहलाने लगा था और सेक्स हमारे लिए नया नहीं था, क्योंकि हम बहुत बार चुदाई कर चुके थे, अब उसकी सासें बहुत तेज-तेज चल रही थी. फिर मैंने कहा कि आज बहुत गर्म हो गयी, उंगली डाल रही थी क्या? तो उसने कहा कि नहीं आज तुम्हारा लंड ही अंदर लूँगी इसलिए चाहकर भी उंगली नहीं की है, ज़रा नीचे हाथ लगाकर देखो. अब वो तो एकदम तैयार थी और फिर मैंने अपना हाथ लगाया तो उसकी चूत एकदम गीली थी.

फिर मैंने अपनी एक उंगली उसकी चूत में अंदर डालकर गीली कर ली और उसे सूँघा तो वो बहुत गर्म थी. फिर छवि ने मदभरी आवाज़ में कहा कि अभय मेरी चूत रगड़ो ना, तो मैंने पूछा क्या? तो उसने जवाब नहीं दिया. फिर मैंने उससे फिर से पूछा कि क्या रगडू? तो तब उसने कहा कि तुम्हें सब मालूम है. फिर मैंने कहा कि अगर बताओगी तो चाटूँगा भी, तो फिर उसने कहा कि मेरी चूत रगड़ो. फिर मैंने कहा कि यहीं पर, तो वो बोली कि नहीं मेरे बेड पर मेरे प्यारे सेक्सी राजा. फिर में उसके साथ रूम में जाने लगा, तो वो बोली कि सर्प्राइज़ है चुपचाप कमरे में धीरे से आना.

फिर वो रूम में गयी, तो थोड़ी देर में में भी उसके पीछे से चला गया तो मुझे एकदम से देखकर शॉक लगा, क्योंकि वो अंदर एक लड़की के ऊपर पड़ी थी. फिर वो अचानक से उठी, तो वो लड़की घबरा गयी. फिर छवि ने कहा कि ये मेरी कज़िन है, ये यहाँ आई हुई है और हम दोनों कई सालों से लेस्बियन है और आज में चाहती हूँ कि तुम इसे भी वही प्यार दो जो तुम मुझे देते हो. उसकी कज़िन का नाम लीना था और उसे मेरे और छवि के बारे में कुछ पता नहीं था.

लीना भी बहुत सुंदर थी और छवि से भी ज़्यादा सेक्सी थी, वो एकदम गोरी, लम्बे-लम्बे काले बाल, हाईट करीब 5 फुट 4 इंच और फिगर साईज 38-24-38 था. में उनकी चूची पर फिदा था और हमेशा उनकी एक झलक पाने के लिए बेताब रहता था. फिर छवि ने कहा कि इसका पति इसे खुश तो करता है, लेकिन फिर भी ये तड़पति रहती है, आज तुम इसे असली मजा दे दो. फिर मैंने लीना की तरफ देखा, तो वो शरमा गयी, तो मैंने कहा कि लीना मेरे साथ शरमाओ मत में भी नंगा तुम भी नंगी, तो शर्म कैसी? सभी सेक्स चाहते है तो क्या शर्माना?

फिर मैंने उसे बेड पर धकेल दिया तो वो अपनी पीठ के बल पर गिरी. फिर में बेड के नीचे बैठ गया और अब उसकी चूत से कुछ पानी भी निकल रहा था, उसमें एक अलग ही स्मेल का मजा था. अब मेरी उंगली उसके दाने को रगड़ रही थी और अब वो उछल रही थी, अब उसका मुँह खुला और आँखे बंद थी. अब जब-जब में उसके दाने को रगड़ता तो उसे एक झटका लगता.

उसकी चूत पर काले बालों का जंगल था और उसके पति को झाटें पसंद है इसलिए वो झांटे नहीं काटती थी, अब उसके बदन की गंध मुझे पागल कर रही थी और उसका पसीना, उसकी चूत की स्मेल मेरे अंदर का जानवर जगा रही थी. फिर उसे चोदने में मुझे और उसे भी बहुत मज़ा आता है. फिर में ऐसे ही 15-20 मिनट तक उसकी चूत में उंगली करता रहा.

फिर जब मैंने एकदम से उसकी चूत के दाने को अपनी उंगली से मसला तो वो एकदम बेड से उठी और फिर उसकी चूत से जैसे एक झरना फूट पड़ा. अब वो हल्के-हल्के धक्के दे रही थी और मानो मेरे हाथ को चोद रही थी और फिर वो धीरे-धीरे शांत होती रही. अब मुझे ऐसा लगा कि ये अब यहीं मूतना शुरू करेगी, क्योंकि उसकी आदत है और उसे चुदवाने के बाद जोर से पेशाब आता है. फिर कुछ देर के बाद उसकी जकड़न ढीली होती गयी और वो बेड पर पीठ के बल लेट गयी. अब उसकी आँखे बंद थी और अब तक मैंने उसके अंदर अपना लंड नहीं डाला था, अब मुझे चढ़ना था, लेकिन वो शांत हो चुकी थी.

फिर उसने अपनी आँखे खोल दी और अब में उसके चेहरे पर खुशी देख रहा था. फिर वो बैठ गयी और मुझसे लिपट गयी. फिर मैंने उसे 2 मिनट तक ऐसे ही जकड़े रखा और फिर अपनी पूरी ताकत से उसे बेड पर गिरा दिया.

फिर मैंने उसके दोनों पैरो में कुछ जगह बनाई और अब मेरा लंड खड़ा ही था और मैंने उसको पूरी तरह मेरे नीचे दबोच रखा था. अब वो छूटने की पूरी कोशिश कर रही थी, लेकिन अब में उस पर पूरी तरह से हावी था और मेरा लंड उसकी चूत का अंदाज़ा ले रहा था. फिर 1 मिनट में मेरे लंड ने उसकी चूत की दरार ढूंढ निकाली और कुछ जगह बनाई और फिर मैंने धीरे, लेकिन पक्की एंट्री की और फिर मैंने उसको चोदना चालू किया और अपने लिप लॉक कर दिए और उसकी लार को चाटने लगा. अब मैंने उसके बूब्स मेरे नीचे पूरे दबा दिए थे और मेरी सिर्फ कमर हिल रही थी, अब मेरा लंड उसे चोद रहा था.

फिर मैंने 20-22 मिनट तक उसकी चुदाई चालू रखी और उसे हिलने का एक भी मौका नहीं दिया. अब मुझे बदलाव चाहिए था तो मैंने उससे कहा कि अब तू मेरे ऊपर चढ़. अब मेरा लंड पूरा गीला था और उसकी चूत पूरी गीली थी.

फिर उसने अपने थूक से मेरे लंड को गीला किया और मेरे दोनों तरफ अपने पैर रखे और मेरे लंड पर बैठती चली गयी और मेरा पूरा लंड उसकी चूत के अंदर चला गया. फिर मैंने अपने दोनों हाथों में उसके बूब्स पकड़ लिए और मसलना चालू किया और बीच-बीच में उसकी चूची भी अपनी उँगलियों में लेकर दबाता रहा. फिर वो बहुत गर्म हो गयी और बोली कि धीरे दबाओ अभय बहुत दर्द हो रहा है, ले दबा और दबा और अपने दांत दबाकर उछलने लगी. अब उसकी आँखों में बहुत मस्त थी, अब वो मुझे घूर-घूरकर चोद रही थी.

अब में भी मेरा पूरा दबाव उसके बूब्स पर बढ़ा रहा था. अब वो और गर्म होकर चुदाई कर रही थी, अब उसकी आँखों में साफ दिख रहा था कि अब वो झड़ेगी और फिर वो बोली कि शर्मकर औरत से चुदवा रहा है नामर्द हरामी, आज में तेरा उखाड़ दूँगी. अब वो मुझे उकसा रही थी. फिर मैंने उसको उठाकर उसका साथ देना चालू किया और अब में भी नीचे से हरकते कर रहा था और वो आह आआआआआ किस मी अभय, किस मी बड़बड़ा रही थी, अब वो किसी भी सेकेंड झड़ने वाली थी.

फिर मैंने उसको उठाकर उसके लिप पर मेरे लिप लॉक कर दिए तो वो सिहर उठी और अब आधे घंटे में वो दूसरी बार झड़ रही थी. फिर 2-3 मिनट तक किस करने के बाद मैंने उसकी फैलती चूत को देखकर अपनी पोज़िशन ली. अब लीना इन सबसे अंजान थी, फिर मैंने अपना निशाना साधा और एक ही झटके में अपना पूरा लंड उसकी चूत में उतार दिया तो वो आआआआआआआआआआ कराह के दर्द को सहने लगी और कुछ ना करने के लिए समझाने लगी.

अब उसमें दर्द सहने की जान नहीं बची थी. फिर मैंने अपना पूरा लंड उसके अंदर डाल दिया और उस पर काबू कर लिया और 2 मिनिट तक ऐसे ही अपना लंड उसकी चूत में डाले रखा. अब उसकी सिकुड़ती फैलती चूत का मज़ा मेरा लंड लेने लगा था. फिर 2 मिनट के बाद मैंने चोदने की शुरुआत की और अब अगले 30-35 मिनट मेरे थे. में लगातार उसको चोदता रहा और वो सहती रही.

फिर 10-15 मिनट के बाद उसने भी थोड़ा रेस्पोंस दिया, लेकिन वो मेरा वक़्त था, मेरी स्पीड बढ़ती रही और फिर एक वक़्त ऐसा आया कि मेरा लंड पूरा अंदर बाहर होने लगा. अब उसकी चूत और मेरा लंड, मेरे अंडे, झाटें पूरी गीली हो गई थी. उस एक अजीब मिश्रण में लीना की चूत का पानी, मेरा थूक और मेरा पानी सब था.

फिर मैंने अपने आखरी 3 झटके ऐसे लगाए कि लीना अगले 2 दिन तक अपने पैर फैलाकर चल रही थी और फिर में मेरा पूरा चिकना, चिपचिपा सफेद और गाढ़े पानी की 6-7 पिचकारियां 2-3 मिनट तक उसके गर्भ तक पहुँचता रहा. फिर मैंने उसी अवस्था में उसकी चूत को मेरा वीर्य पिलाया. अगर उस दिन वो फ्री स्टाइल होती तो यक़ीनन वो आज प्रेग्नेंट होती. फिर में उसके ऊपर पड़ा रहा और वो मुझे सहलाती रही. फिर जब मैंने अपना लंड बाहर निकाला तो सीधा उसके मुँह के पास ले गया और उसने बहुत प्यार से उसे चाटा. फिर मैंने उसकी चूत देखी तो वो सूज़ी हुई थी.

फिर मैंने उससे पूछा कि मज़ा आया? तो लीना ने कहा कि बहुत मज़ा आया और तभी वो बोली कि तुम्हारा लंड तो अभी भी टाईट है, क्यों? तो मैंने कहा कि ये अभी भी भूखा लगता है. फिर उसने कहा कि तो फिर चलो शुरू हो जाओ. अब ये सुनकर तो में ख़ुशी के मारे उछल पड़ा और अब हम दोनों फिर से तैयार थे. फिर छवि बोली कि में भी हूँ, मुझे मत भूल जाना. फिर दूसरी बार सेक्स करने के बाद मैंने और छवि ने सेक्स किया और फिर मैंने छवि और लीना ने अगले 4 दिन तक खूब मजे लिए और बड़े प्यार दुलार से कई बार लीना और छवि को चोदा.

admin