अपनी छोटी बहन जस्सी को चोदा

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम युवराज है और मैं फिर से आपके लिए एक नई स्टोरी लेकर आया हूँ. जैसा कि मैंने मेरी पिछली स्टोरी मे आपको बताया था कि कैसे मैंने अपनी बहन हरप्रीत को चोदा था? और अब मैं आपको बताऊंगा कि मैंने कैसे अपनी छोटी बहन जसप्रीत को चोदा? जस्सी भी हैप्पी की तरह बहुत सेक्सी है, अभी उसकी उम्र 21 साल है, लेकिन जब मैंने उसे पहली बार चोदा था तो वो 18 साल की थी.

उसका साईज 32-26-32 है, गोरा रंग, हाईट 5 फुट 9 इंच, कोई भी उसे एक बार देख ले तो पागल हो जाए. अब हैप्पी को चोदने के बाद मेरा मन था कि मैं जस्सी को भी चोदूं, जब वो घर पर इधर उधर घूमती या काम करती तो उसके आधे नंगे बूब्स और ठुमकती हुई उसकी गांड देखकर तो मैं पागल ही हो जाता था. कभी-कभी तो मेरा मन किया कि मैं हैप्पी को बोलूं कि वो अब जस्सी को भी मेरे लिए तैयार करे, लेकिन फिर मैंने सोचा कि नहीं जस्सी को भी मैं खुद ही तैयार करूँगा.

अब जब भी वो नहाने के लिए जाती तो मेरा मन करता कि मैं उसे नहाते हुए देखूं इसलिए मैंने बाथरूम के दरवाजे मे एक छोटा सा छेद कर दिया. फिर एक दिन जब घर पर कोई नहीं था, तो मैं इंतज़ार कर रहा था कि कब जस्सी नहाने के लिए जाएगी?

फिर 1 बजे के करीब वो नहाने के लिए गयी तो मैं भी उसके पीछे से फटाफट दरवाजे के उस छेद पर अपनी आँखे टिकाकर बैठ गया. फिर पहले मेरी बहन ने अपनी जीन्स उतारी. उसकी गोरी टाँगे बहुत सेक्सी थी और जस्सी ने ब्लेक कलर की पारदर्शी पेंटी पहन रखी थी जिसे उसने अब उतार दिया था. अब वो नीचे से पूरी नंगी थी, उसकी चूत पर छोटे-छोटे बाल थे और उसे देखकर तो जैसे मेरे बदन मे बिजली सी मचल गयी थी. फिर जस्सी ने अपना टॉप उतारा और अब वो सिर्फ एक ब्लेक कलर की पारदर्शी ब्रा मे थी और फिर कुछ देर बाद वो भी नीचे उतर गयी.

अब जस्सी पूरी नंगी थी और मैं बाहर अपना लंड पकड़कर बैठा सब देख रहा था. अब जस्सी के मोटे- मोटे बूब्स देखकर तो मैं पागल ही हो गया था. अब मेरा मन किया कि मैं दरवाजा तोड़कर अंदर चला जाऊं, फिर मैं वहाँ से उठकर अंदर अपने कमरे मे आ गया.

अब जस्सी को नंगा देखने के बाद मैं पागल हो चुका था. फिर कुछ देर सोचने के बाद मैं वापस वहाँ गया और बाथरूम का दरवाजा नॉक किया, तो अंदर से जस्सी बोली कि क्या हुआ भैया? तो मैंने बोला कि साबुन चाहिए. तो वो बोली कि अच्छा 1 मिनट रुको, तो फिर उसने हल्का सा दरवाजा खोला और अपना हाथ बाहर निकालकर साबुन मेरी ओर बढ़ा दिया, लेकिन मुझे साबुन नहीं जस्सी की चूत चाहिए थी तो मैंने दरवाजे को थोड़ा धकेला और दरवाजा पूरा खुल गया और मैं अंदर आ गया.

अब मुझे देखकर जस्सी फटाफट अपने आपको छुपाने लगी और बोली कि भैया ये क्या बत्तमीज़ी है? तू पागल हो गया है. अब उसने अपने एक हाथ से अपने बूब्स और एक हाथ से अपनी चूत छुपा रखी थी, अब वो टावल नहीं ले सकती थी क्योंकि टावल मेरे पास लटका हुआ था.

फिर मैं बोला कि हाँ में पागल हो चुका हूँ, तेरी चूत के लिए पागल हूँ, अब वो पानी मे भीगी हुई ओर भी सेक्सी लग रही थी. अब वो डर गयी और डरी हुई आवाज़ मे बोली कि भैया तू ऐसा नहीं कर सकता, मैं तेरी बहन हूँ, ये हमारे रिश्ते को शोभा नहीं देता, प्लीज भैया तू बाहर चला जा मैं ये बात पापा, मम्मी को नहीं बताउंगी. फिर मैं बोला कि गुड ऐसी बातें पापा, मम्मी को नहीं बतानी चाहिए.

अब वो रोने लगी थी, तो मैं उसके पास गया और बोला कि तू रो मत मैं तेरा भाई हूँ और तू अगर रोएगी तो मैं भी रो दूंगा और इसमें हर्ज ही क्या है? हम क़िसी को थोड़े ना पता चलने देंगे कि हमने ये सब किया है, ये बात हम दोनों के बीच में ही रहेगी. फिर वो रोती-रोती अपने घुटनों के बल नीचे बैठ गयी और मैंने अपने कपड़े उतारने शुरू कर दिए और पूरा नंगा होने के बाद मैं भी उसके साथ नीचे बैठ गया और बोला कि देख अब मैं भी नंगा हो गया हूँ.

अब उसने शर्म से अपना सिर नीचे झुका रखा था. फिर मैंने उसका सिर ऊपर उठाया और एक ज़ोर से किस कर दी, तो वो ओर तेज रोने लगी. फिर मैंने उसे फिर से किस किया और तब तक नहीं छोड़ा जब तक वो चुप नहीं हुई. फिर मैंने उसके हाथ उसके बूब्स और चूत से हटाए और उसके बूब्स को मसलने लगा, तो वो जोर-जोर से आहें भरने लगी और बोली कि भैया आराम से करो दर्द हो रहा है. अब जैसे ही उसने ये बोला तो मैं ओर जोर-जोर से शुरू हो गया.

अब मैं उसके बूब्स को चूसने लगा था, अब वो मदहोश सी हो चुकी थी और अब उसे तो ऐसा लग रहा था कि जैसे वो किसी जन्नत में है. फिर उसके बूब्स चूसने के बाद मैंने अपना लंड उसके मुँह मे डाल दिया और बोला कि इसे चूस. तो पहले तो उसने मना कर दिया, लेकिन फिर बाद मे वो मान गयी. फिर करीब 10 मिनट तक मैंने अपना लंड उसे चुसवाया और उसके मुँह मे ही अपने लंड का अमृत निकाल दिया और बोला कि इसे पी जा और वो मेरा पूरा अमृत अपने अंदर निगल गयी.

फिर मैंने उससे बोला कि अब तू मेरा लंड चाटकर साफ कर. अब मेरे ये बोलते ही वो एक रांड की तरह मेरे लंड को चूसने लगी. फिर मैंने उससे बोला कि अब मैं तेरी चूत मारूँगा, फिर मैंने उसकी चूत पर अपना लंड रखा और एक झटका दिया. तो वो दर्द से चिल्ला उठी और बोली कि नहीं भैया प्लीज ये मत करो बहुत दर्द हो रहा है.

मैंने बोला कि अब एक दो शॉट्स की बात है, फिर बाद मे तुझे भी बहुत मज़ा आएगा और ये बोलते हुए मैंने एक झटका और मारा और फिर मैंने अपनी बहन की सील तोड़ दी. अब 3-4 झटकों मे ही मेरा 9 इंच लंबा लंड मेरी बहन की चूत में था, अब वो दर्द से चिल्ला रही थी. फिर मैंने उसकी चुदाई के साथ-साथ उसे किस करना शुरू कर दिया और धीरे-धीरे झटके मारने लगा.

तो वो आहह उफफफ्फ़ उफफफ्फ़, नहीं, प्लीज कर करके चिल्ला रही थी, लेकिन कुछ ही देर के बाद वो भी मेरे झटको के मज़े लेने लगी और बोल रही थी कि फक मी, तुम दुनियाँ के सबसे अच्छे भाई हो, फक मी हार्ड. फिर करीब 15 मिनट के बाद मैंने अपनी बहन की चूत मे ही अपना अमृत छोड़ दिया और उसे कसकर गले लगा लिया.

फिर उसने मुझे किस करना शुरू कर दिया और बोली कि मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि में कभी अपने भाई के साथ ये सब करुँगी, लेकिन आज जब ये हो गया तो मुझे बहुत शर्म आ रही है. फिर मैंने उसे किस करते हुए बोला कि इसमें कोई हर्ज़ नहीं है, तू ये मत सोच कि मैं तेरा भाई हूँ बस तू ये सोच कि मैं तेरा बॉयफ्रेंड हूँ और बॉयफ्रेंड के साथ ये सब करना चाहिए.

फिर उसने मुझे कसकर गले लगाया और किस करती हुई बोली कि हाँ अब मेरा भाई ही मेरा बॉयफ्रेंड है और फिर हम एक साथ नहाए. फिर बाहर आने के बाद भी हमने 5 बार सेक्स किया, फिर जब रात को मम्मी, पापा और मेरी दूसरी बहन हैप्पी आई, तो हम अपने-अपने रूम में जाकर बैठ गये. अब जब भी मुझे कोई मौका मिलता है तो मैं अपनी दोनों बहनों को चोदता हूँ, लेकिन वो दोनों ही इस रिश्ते को एक दूसरे से छुपाती है.

Updated: December 6, 2016 — 5:27 am
Meri Gandi Kahani - Desi Hindi sex stories © 2017 Frontier Theme