चूत के छेद पर लंड का सुपाड़ा-2

Antarvasna: तो मैंने झट से उसको अपनी बाहों में पकड़ा और किस करने लगा और साथ साथ इस तरह में उसके बूब्स भी दबाने लगा.. यार क्या होंठ थे उसके एकदम रसीले मेरा तो मन कर रहा था कि बस उसका रस ही पीता जाऊँ। फिर वो बोली कि थोड़ा रुको चलो बेडरूम में चलते है और फिर हम बेडरूम में गये.. मैंने उसको बेड पर लेटा दिया और फिर से किस करने लगा और में उसकी मेक्सी के अंदर हाथ डालकर बूब्स दबाने लगा और मैंने मेरी टीशर्ट को भी उतार दिया था। में उसकी नाक पर किस करने लगा और धीरे से उसकी मेक्सी उतारने लगा.. दोस्तों में तो पागल हो गया था। क्या गोरा बदन था उसका.. दोस्तों में उसको चाटने लगा और वो भी बहुत खुश होकर जवाब दे रही थी। फिर मैंने उसकी मेक्सी को उतार दिया दोस्तों क्या बूब्स थे उसके एकदम गोरे गोरे? और अभी उसके निप्पल भी बाहर नहीं आए थे और में तो देखकर चूसने लगा। तभी वो बोलने लगी कि जानू चूसो इसे और चूसो और सिसकियाँ भरने लगी अह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ जानू और ज़ोर से दबाओ सीईईउउ आह। फिर मैंने उसकी ब्रा उतार दी और काली पेंटी में क्या दिख रही थी? दोस्तों में तो देखता ही रह गया और फिर वो बोली कि क्या देख रहे हो? जल्दी से मेरी प्यास बुझाओ में मरी जा रही हूँ। तो में उसकी पेंटी के ऊपर से ही चूत को चाटने लगा और वो मना करने लगी.. लेकिन में नहीं माना.. क्योंकि मुझे चूत चाटने का बहुत शौक है और मुझे उसमे बहुत मज़ा आता है। फिर वो सिसकियाँ लेती ही जा रही थी और वो बोले जा रही थी और ज़ोर से ओह उफ्फ्फ और ज़ोर से करो और वो मेरे मुहं को उसकी चूत पर दबाने लगी। तो मैंने उसकी पेंटी को भी उतार दिया..

वाह क्या चूत थी उसकी? एकदम सफेद और उसका साईड का हिस्सा बिल्कुल लाल लाल था और उस पर एकदम छोटे छोटे बाल थे.. मुझे ऐसा लग रहा था जैसे 3-4 दिन पहले ही उसने बालों को साफ किया था। फिर मैंने बिना देर किए उसकी चूत पर मुहं लगा दिया और चूत को चाटने लगा। वाह क्या टेस्ट था? उसकी चूत का.. में तो जन्नत में था और उससे रहा नहीं जा रहा था.. वो बिन पानी की मछली की तरह मचल रही थी और सिसकियाँ ले रही थी। सीईई आहह्ह्ह और ज़ोर से करो मेरे राज और ज़ोर से.. तुमने मेरी लाईफ को रंगीन बना दिया.. में तुमसे बहुत प्यार करती हूँ। में तो बिना कुछ देखे बस चूत चाटे ही जा रहा था। तो वो बोली कि जानू और अब बस में आह्ह्ह मर ही जाउंगी.. प्लीज़ मेरी चूत को आज फाड़ दो.. बना दो उसका भोसड़ा। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

तो मैंने कहा कि रूको जानू.. अभी तो मैंने शुरु ही किया है थोड़ा इंतजार करो। तो वो ज़ोर ज़ोर से मेरे मुहं को उसकी चूत पर दबाने लगी और कुछ देर बाद उसने अपनी चूत का पानी मेरे मुहं पर छोड़ दिया। तो मैंने उसका सारा पानी पी लिया फिर मैंने अपनी पेंट को उतार दिया और वो मेरे लंड को अंडरवियर के ऊपर से देखकर पागल हो गयी और उसको धीरे धीरे मसलने लगी और थोड़ा घबरा भी गयी। तो मैंने पूछा कि क्या हुआ? उतार दो इसे.. तो उसने जल्दी से मेरा अंडरवियर उतार दिया और फिर एकदम पीछे हट गई.. तो मैंने पूछा कि क्या हुआ जानू?
सीमा : यह तो बहुत बड़ा है और में इसे नहीं ले पाउँगी.. यह मेरे पति से दुगना बड़ा है और मोटा भी कितना है? नहीं मुझसे यह सब नहीं होगा।
तो में बोला कि जानू तुम फिक्र मत करो.. में बहुत धीरे धीरे से करूंगा और तुम्हे पता भी नहीं चलेगा। फिर वो मेरे बहुत समझाने पर मान गई और मेरे लंड को हाथ में पकड़कर बहुत ध्यान से देखने लगी और उसके इस तरह करने से जैसे मेरा लंड करंट के झटके मारने लगा और मेरा लंड उसके हाथ में भी नहीं आ रहा था और फिर उसने लंड को दोनों हाथों में पकड़ा और ऊपर नीचे करने लगी। फिर मैंने कहा कि इसको मुहं में भी लो.. लेकिन वो तो मना करने लगी।
सीमा : प्लीज़ राज.. मैंने पहले कभी नहीं लिया है।
में : इसलिए बोल रहा था कि आज बहुत मज़ा आएगा।

फिर भी वो नहीं मानी.. लेकिन फिर मैंने कहा कि ठीक है सिर्फ़ आगे का सुपाड़ा ही मुहं में अंदर डालना। तो सीमा ने दोनों हाथ से पकड़कर लंड का सुपड़ा आगे किया और अपने मुहं को खोला और थोड़ा सा लंड को अन्दर ले लिया और मैंने उससे कहा कि थोड़ा और लो और जैसे ही उसने लंड को थोड़ा और अंदर लिया और अपने हाथ हटाए और वैसे ही मैंने उसका सर पकड़कर पूरा लंड उसके मुहं में डाल दिया.. सीमा ने ज़ोर से मेरी जांघे पकड़ ली और मैंने कसकर उसका सर और लंड अंदर बाहर करने लगा। तभी थोड़ी देर बाद सीमा ने इशारे से कहा कि बेड पर लेट जाओ.. तो में लेट गया और वो मेरी जांघो की तरफ मुहं करके बैठ गयी और उसकी गांड मेरे मुहं की तरफ थी और सीमा ने मेरा काला लंड हाथ में पकड़ा और मुहं में लोलीपोप की तरह चूसने लगी और में सीमा की गांड के साथ खेल जा रहा था। वो कभी हाथ घुमाती तो कभी कसकर गांड को दबाती और तभी थोड़ी देर बाद मैंने इशारे से सीमा से कहा कि उसके ऊपर आ जाए। तो वो मेरी छाती पर बैठ गयी और लंड चूसने लगी। फिर मैंने उसकी गांड बिल्कुल अपने मुहं पर रख दी और नीच से उसकी चूत चाटने लगा और वो मेरे लंड को इस कदर चूस रही थी जैसे उसने ब्लूफ़िल्मो में देखा था और में तो दंग ही रह गया कि यह सब क्या हो रहा है?

Updated: December 4, 2019 — 5:29 pm
Meri Gandi Kahani - Desi Hindi sex stories © 2020 Frontier Theme
error: