चूत की प्यास आखिर मैंने बुझा ही दी-2

hindi sex stories अब नेहा मेरे लंड को मसलते हुए बोली कि हाँ अब मुझसे भी रहा नहीं जाता और तुम अपने खड़े लंड से जल्दी से मेरी चूत की कसकर चुदाई करो और मेरी चूत को चोद चोदकर उसका भोसड़ा बना दो, देखो मेरी चूत अब पानी छोड़ रही है, ऊह्ह्ह्ह मेरी पेंटी मेरी चूत के रस से भीग रही है। फिर नेहा मेरे लंड को मसलते हुए बोली कि मेरी बहन दोपहर को खाने के बाद टी.वी देखते हुए दो-तीन घंटे के लिए सो जाती है, उस समय हम दोनों बिना टेंशन के मज़े मस्ती कर सकते है। अब मैंने उसको पूछा कि कैसी मस्ती? तब नेहा मुस्कुराकर बोली कि इतने भोले मत बनो, तुम मेरी चूत में आग लगाकर पूछते हो कि कैसी मस्ती? अरे मस्ती का मतलब जब मेरी बहन खाने के बाद सो जाएगी, तब तुम अपने मस्त लंड से मेरी चूत की जमकर चुदाई करना, क्यों अब समझे मेरे चोदू राजा? अब में उसके मुहं से इस तरह की खुल्लमखुल्लु बात को सुनकर और भी गरम हो गया था और फिर में उसके बूब्स को उसके ब्लाउज के बाहर निकालकर उसकी निप्पल को मुहं में भरकर चूसने लगा। अब नेहा भी मेरे लंड को मेरी पेंट से बाहर निकालकर ज़ोर-ज़ोर से बड़े मज़े जोश के साथ मसलने लगी थी। तभी हमें बाहर का दरवाजा खुलने की आवाज आई, उसकी बहन दुकान से सामान लेकर वापस आ चुकी थी।

फिर हम दोनों जल्दी से अपने कपड़े ठीकठाक करके बैठक वाले कमरे में जाकर बैठ गये और हम दोनों इधर उधर की बातें करने लगे। फिर कुछ देर बाद नेहा रसोई में जाकर चिली चिकन और रोटी ले आई और हम तीनों ने टी.वी देखते हुए उसके मज़े लिए। अब खाना खाने के बाद मैंने नेहा को आंख मारकर उसको पूछा कि क्या में अब ऑफिस वापस जाऊंगा? और मैंने नेहा को उस स्वादिष्ट खाने के धन्यवाद दिया और आँख मारकर कहा कि हाँ में अब ऑफिस वापस जाऊंगा। फिर नेहा मेरे साथ आकर मुझे बाहर के दरवाजे तक छोड़ने आई और मेरे लंड को सहलाते हुए उसने कहा कि तुम 10-15 मिनट के बाद मेरे घर वापस आ जाओ, तब तक मेरी बहन सो जाएगी में तुम्हारे लिए दरवाजा खुला रखूँगी और तुम बिना किसी आवाज के चुपचाप चले आना। अब में नेहा के घर से बाहर जाकर उसकी कॉलोनी के बाहर तक गया और एक पान वाले से मैंने पान लेकर खाया और एक मीठा पान मैंने नेहा के लिए भी ले लिया। फिर करीब 15 मिनट के बाद में नेहा के घर चला गया, मैंने देखा कि बाहर का दरवाजा खुला ही था, में चुपचाप उसके घर में घुस गया और मैंने दरवाजा वापस धीरे से बंद कर दिया। फिर वो मेरे पास आई और धीरे से बोली कि प्लीज़ दस मिनट और इंतजार करो, मेरी बहन अभी जाकर सोई है उसको गहरी नींद में सो जाने दो।

अब मैंने उसी समय नेहा को वो मीठा पान अपने हाथों से खिला दिया, नेहा करीब दस मिनट के बाद मेरे पास आई और दोनों कमरों के बीच का दरवाजा उसने धीरे से बंद कर दिया। फिर जैसे ही नेहा ने दरवाजा बंद किया, में उसके पास पहुँच गया और मैंने उसको अपनी बाहों में भर लिया और वो भी मुझसे लिपट गयी, मेरे होंठो को चूमने लगी। अब मैंने भी उसको ज़ोर से लिपटा लिया था, में भी उसके मखमली रसभरे होंठो को चूमने लगा और फिर में धीरे से अपना एक हाथ आगे बढ़ाकर उसके गोल-गोल बूब्स को अपने हाथ में लेकर धीरे-धीरे मसलने लगा। अब नेहा के बूब्स को मसलने से वो ओह्ह्हहह आह्ह्ह ऊफ्फ्फ की आवाज करने लगी और मेरे लंड को पेंट के ऊपर से पकड़कर सहलाने लगी। फिर में अपना एक हाथ उसके ब्लाउज के अंदर ले गया और में उसके उठे हुए नुकीले निप्पलको अपनी उंगली के बीच में लेकर मसलने लगा। अब मैंने नेहा के ब्लाउज को खोल दिया और में उसके बूब्स को उसकी ब्रा के ऊपर से ही दबाने लगा था। फिर नेहा मुझसे लिपटी हुई बोली हाँ और ज़ोर-ज़ोर से तुम मेरे बूब्स को मसलो मुझे बहुत मज़ा आ रहा है, तुम्हारे हाथों में जादू है, तुम मेरे बूब्स को दबा रहे हो तो मेरी चूत पानी छोड़ रही है।

अब मैंने उसकी ब्रा के हुक को खोलते हुए कहा कि अभी तुमने मेरे हाथों का जादू ही देखा है, में अभी तुमको अपने लंड का जादू भी दिखाऊंगा और फिर में इतना कहकर उसके एक बूब्स को मेरे मुँह में भरकर चूसने लगा। अब नेहा मुझसे अपने बूब्स को चुसवाकर बहुत गरम हो चुकी थी और वो ज़ोर-ज़ोर से बड़बड़ाने लगी ऊह्ह्ह्हह स्सीईईईइ हाँ और ज़ोर से मेरे बूब्स को मसलो इनको ज़ोर से दबाओ और दबा दबाकर तुम आज इनका पूरा सारा रस पी जाओ मुझे बहुत मज़ा आ रहा है, मेरे पूरे जिस्म में कुछ-कुछ हो रहा है, आह्ह्ह्ह मुझे इतना मज़ा पहले कभी नहीं मिला और मेरे बूब्स को दबाओ। अब मैंने नेहा के कपड़े उतार दिए थे, उसके बाद मैंने उसके बूब्स को चूसते हुए उसके पेटीकोट का नाड़ा भी खोल दिया, जो कि उसकी चिकनी जांघो से सरकता हुआ नीचे आ गया था। दोस्तों नेहा अब मेरे सामने सिर्फ़ अपनी पेंटी पहने खड़ी हुई थी, में नेहा की पेंटी के ऊपर से उसकी चूत को अपने हाथों में लेकर मसलने लगा और अपनी एक उंगली से उसकी चूत के छेद को खोदने लगा। अब नेहा की गरमी अपनी बढ़ गई थी कि वो बिल्कुल पागल हो चुकी थी, उसने तुरंत ही पहले मेरी पेंट और फिर मेरी अंडरवियर को भी खोल दिया। अब में नेहा के सामने बिल्कुल नंगा खड़ा था, मुझे नंगा करके नेहा मुझसे थोड़ी दूर जाकर खड़ी हो गयी, वो मुझे घूरने लगी।

फिर कुछ देर बाद वो हंसते हुए बोली कि वाह तुम नंगे बहुत सुंदर दिखते हो, तुम्हारा खड़ा हुआ लंड देखने में बहुत ही अच्छा बलशाली लगता है और कोई भी लड़की या औरत इसको अपनी चूत में लेकर एक बार अपनी चुदाई जरुर करवाना चाहेगी। अब में नेहा के पास गया और मैंने उसको अपनी बाहों में लेकर पूछा कि मुझे कोई और लड़की या औरत से कोई मतलब नहीं, क्या तुम मेरे लंड को अपनी चूत के अंदर लेना चाहती हो कि नहीं? तब वो बोली कि अरे तुम अभी भी नहीं समझे, में तो कब से तुम्हारे लंड से अपनी चूत की झिल्ली को फड़वाना चाहती हूँ? अब जल्दी से तुम मुझे चोदो देखो मेरी चूत में कैसे चुदाई की आग लगी है? इतना सुनते ही मैंने नेहा की पेंटी को उसके कूल्हों के ऊपर से निकाल दिया और फिर उसकी पेंटी को उसके पैरों से अलग कर दिया। अब नेहा झुककर मेरे लंड को ध्यान से देखने लगी थी और देखते-देखते ही उसने मेरे टोपे पर चुम्मा दे दिया और फिर उसको अपने मुँह में लेकर चूमने लगी। फिर में गरम होकर उसको बोला कि लंड को सिर्फ़ छुओ मत उसको अपनी जीभ से चाटो और ज़ोर-ज़ोर से चूसो तुम्हे ज्यादा मज़ा आएगा। अब नेहा कहने लगी कि तुम चुप करो, मुझे अपना काम करना आता है और में वैसे ही अपना काम पूरी इमानदारी मेहनत से कर रही हूँ।

फिर नेहा मेरे लंड के टोपे को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी और कभी-कभी उसको अपनी जीभ से चाटने लगी। अब मुझे भी अपनी लंड चुसाई से रहा नहीं गया, मैंने अपना लंड नेहा के मुँह में पूरा अंदर डाल दिया, उस समय नेहा मेरे लंड को अपने मुँह के अंदर लेते हुए बोली कि वाह मेरे राजा अभी और डालो अपने लंड को मेरे मुँह में, बाद में इसको मेरी चूत में डालना। फिर मैंने कुछ देर बाद नेहा को बिस्तर पर लेटा दिया और फिर उसके दोनों पैरों को फैला दिया। अब मेरी आँखों के सामने उसकी साफ चिकनी कामुक चूत पूरी तरह से खुली हुई थी और मेरे लंड को खाने के लिए वो बिल्कुल तैयार थी। फिर में अपनी उंगली को उसकी चूत में डालकर अंदर-बाहर करने लगा था, तब नेहा ज़ोर से बोली कि क्यों समय बर्बाद कर रहे हो? मेरी चूत को उंगली नहीं चाहिए, वो लंड खाने के लिए तरस रही है, उसको अब तुम अपना लंड खिलाओ और उस प्यास को बुझा दो।

फिर मैंने उसको कहा कि तुम क्यों फ़िक्र कर रही हो? में अभी तुम्हारी चूत और मेरे लंड का मिलन करवा देता हूँ, पहले में तुम्हारी चूत का रस तो चख लूँ, सुना है कि सुंदर और सेक्सी लड़कियों की चूत का रस बहुत मीठा होता है। अब नेहा कहने लगी कि हाँ ठीक है तुम पहले मेरी चूत को चाटो तब तक में तुम्हारा लंड चूसती हूँ और फिर हम दोनों 69 आसन में आकर बिस्तर पर लेट गये। अब नेहा की चूत बिल्कुल मेरी आँखों के सामने थी, मैंने देखा कि उसकी चूत लंड खाने के लिए अपनी लार छोड़ रही थी और उसकी चूत बाहर और अंदर से रस से भीगी हुई थी। फिर मैंने जैसे ही नेहा की चूत में अपनी जीभ को डाला, तब वो चिल्लाने लगी ऊह्ह्ह हाँ चूसो-चूसो और ज़ोर से चूसो मेरी चूत को और अंदर तक अपनी जीभ को डालो आह्ह्ह मेरी चूत की घुंडी को भी चाटो मुझे बहुत मज़ा आ रहा है, स्सीईई अब में झड़ने वाली हूँ और इतना कहते ही नेहा की चूत ने गरम-गरम मीठा रस छोड़ दिया, जिसको में अपनी जीभ से चाटकर पूरा का पूरा पी गया। अब उधर नेहा भी अपने मुँह में मेरा लंड लेकर उसको बहुत मज़े लेकर ज़ोर-ज़ोर से चूस रही थी, नेहा का चेहरा चमक रहा था और वो खुश होकर मुस्कुराने लगी।

फिर वो मुझसे कहने लगी कि मुझे चूत चुसाई में बहुत मज़ा आया, लेकिन अब में चूत की चुदाई का मज़ा लेना चाहती हूँ, तुम जल्दी से अपना लंड मेरी चूत में डालो, क्योंकि अब मुझसे रहा नहीं जाता। अब में भी नहीं रुकना चाहता था, मैंने अपने हाथों से नेहा के दोनों पैरों को घुटने से मोड़कर उठा दिया और उनको पूरा फैला दिया। फिर मैंने नेहा से कहा कि जान तुम अब अपने हाथों से मेरे लंड को पकड़कर अपनी चूत के छेद पर रखो। अब नेहा ने मेरे कहने के मुताबिक अपने नाज़ुक मुलायम हाथों से मेरा तना हुआ लंड पकड़कर अपनी चूत के छेद के ऊपर रख दिया और फिर वो बोली कि हाँ अब जल्दी से डालो मुझसे अब रहा नहीं जाता, आज तुम मेरी चूत को चोद-चोदकर इसका भोसड़ा बना दो, क्या तुम देखते नहीं हो कैसे मेरी चूत लंड खाने के लिए लार टपका रही है? तब मैंने उसके होंठो पर चुम्मा लेते हुए धीरे से अपने लंड का टोपा नेहा की चूत में डाला। फिर उसी समय वो मेरा लंड अपनी चूत में लेने के लिए अपनी कमर को उठा रही थी और जैसे ही मेरा लंड करीब दो-तीन इंच नेहा की चूत में गया, नेहा दर्द की वजह से चिल्लाने लगी हाए राम मेरी चूत फट गई ऊऊईईईई ओह्ह्ह्ह आईईईईई माँ में मर गयी ऊफ्फ्फ्फ़ मेरी चूत फट गयी।

Updated: January 26, 2019 — 8:52 pm
Meri Gandi Kahani - Desi Hindi sex stories © 2017 Frontier Theme
error: