चूत की प्यास आखिर मैंने बुझा ही दी-3

antarvasna दोस्तों नेहा की आवाज इतनी तेज थी कि मुझे डर लगने लगा था कि कहीं उसकी बहन ना सुन लें और वो नींद से जाग ना जाए? तभी मैंने बिना देर किए उसके मुँह के ऊपर अपना एक हाथ रख दिया, लेकिन वो अब भी रो रही थी और बोल रही थी कि तुमने मेरी चूत को फाड़ दिया ऊईईई माँ मेरी चूत फट गयी, बाहर निकालो नहीं तो में मर जाऊंगी। अब में धीरे-धीरे उसके बूब्स को अपने दोनों हाथों से दबाने लगा था और अपने होंठो से मैंने उसके होंठो पर चुम्मा दिया। फिर नेहा दोबारा से मुझसे कहने लगी कि प्लीज़ बाहर निकालो अपना लंड वरना में मर जाऊंगी। अब में उसके दोनों बूब्स को थोड़ा ज़ोर देकर दबाने लगा था और बोला कि में तुम्हे ऐसे मरने नहीं दूंगा, बस थोड़ी देर में सब कुछ ठीक हो जाएगा। फिर नेहा अपना एक हाथ अपनी चूत पर ले गयी और मेरे लंड को पकड़कर वो कहने लगी कि उफ्फ यह तो बहुत मोटा है, इसने मेरी चूत को फाड़ दिया है, ओह्ह्ह मेरी माँ में मर गयी मेरी चूत से तुम अपना लंड जल्दी से बाहर निकालो, लेकिन में उसकी वो बातें कहाँ सुनने वाला था? फिर मैंने अपने होंठो से नेहा के होंठो को दबाते हुए एक बड़ा ही जोरदार धक्का लगा दिया।

अब नेहा चिल्ला तो नहीं सकी, लेकिन मुझे अपने ऊपर से हटाने के लिए मुझे वो पूरा ज़ोर लगाकर अपने हाथों से पीछे धकेलने लगी। फिर मैंने नेहा को अपने दोनों हाथों से कसकर पकड़ रखा था और इसी दौरान मैंने अपनी कमर को उठाकर एक जोरदार धक्का उसकी चूत में और लगा दिया। अब मेरा लंड उसकी चूत में पूरा का पूरा अंदर जा चुका था, उसके बाद में अपना पूरा का पूरा लंड नेहा की चूत में डालकर चुपचाप बिना हिले पड़ा रहा। फिर मैंने उसके बूब्स को कसकर पकड़ लिया और अपना आधा लंड बाहर खीचकर निकाला, तो जैसे ही मेरा आधा लंड उसकी चूत से बाहर निकलकर आया उसके बाद मैंने दोबारा से एक धक्का लगा दिया। अब नेहा ज़ोर से रोने लगी ऊईईईईई आईईईईई नहीं अब रहने दो वरना में मर जाऊंगी मेरी चूत फट चुकी है, प्लीज़ अब अपने लंड को मत हिलाओ बाहर निकालो तुम अब इसको। फिर करीब दस मिनट के बाद नेहा मेरी आँखों में देखती हुई मुस्कुराकर कहने लगी कि तुम्हारा काम बहुत खराब है, इसकी वजह से मेरी चूत फट गयी, क्यों तुम्हारा काम और कितना बाकी है? तब मैंने उसके बूब्स को मसलते हुए पूछा कि मेरी चुदक्कड़ नेहा रानी, लगता है कि तेरी चूत में अब दर्द कम हो गया है और अब वो मेरे लंड के धक्के खाने को तैयार है।

फिर अब क्या में तेरी चूत की चुदाई शुरू करूँ? तब नेहा ने मेरे गाल पर अपने दाँतों से हल्का सा काटा और फिर वो बोली कि मेरे चोदू राजा, में कब से अपनी चूत में तुम्हारे लंड के धक्के खाने के लिए तड़प रही हूँ? और तुम पूछते हो चुदाई शुरू करूँ या नहीं? अबे चूतिये, गांडू, भोसड़ी के जब मुझे चुदवाना नहीं था तो में क्यों तेरे घोड़े जैसे लंड से अपनी चूत फड़वाती? अब जल्दी से चुदाई शुरू कर और मेरी चूत का भोसड़ा बना दे, साला चूत में लंड डालने के बाद पूछता है कि चुदाई शुरू करूँ या नहीं? फिर मैंने नेहा को उसके कहने के मुताबिक चोदना शुरू किया, लेकिन उसको अभी भी दर्द हो रहा था और इसलिए वो बड़बड़ा रही थी बहनचोद, पराई चूत मुफ्त में चोदने को मिल गयी है, इसलिए मेरी चूत को फाड़ रहा है। अब मैंने उसको लगातार धक्के देकर चोदना चालू रखा, थोड़ी देर के बाद नेहा को भी मज़ा आने लगा और अब वो चिल्ला रही थी वाह क्या चुदाई है? और ज़ोर-ज़ोर से मुझे चोदो। अब मेरी चूत में चिटियाँ रेंग रही है, कुछ करो और ज़ोर से मारो तुम्हें मेरी कसम मेरी चूत की तुम बिल्कुल भी फिक्र मत करो, बस ऐसे ही ज़ोर-ज़ोर से अपना लंड मेरी चूत में डालते रहो।

अब में नेहा की वो बात सुनकर खुश हो गया और में उसकी चूत की तरफ देखने लगा, मैंने देखा कि उसकी चूत से बूँद-बूँद कर खून निकल रहा था। फिर में तुरंत समझ गया था कि नेहा की चूत अभी तक किसी से नहीं चुदी है और मैंने ही इस चूत का उद्घाटन किया है। अब में पूरे जोश में आ गया और में अपनी कमर को उठा उठाकर नेहा की चूत में अपना लंड डालने लगा था। फिर नेहा भी नीचे से अपनी कमर को उछाल उछालकर मेरे हर धक्के का जबाब दे रही थी और वो लगातार बड़बड़ा रही थी ऊह्ह्ह वाह मेरे चोदू राजा और ज़ोर से धक्के मारो बहुत मज़ा आ रहा है, अगर में जानती कि चुदाई में इतना मज़ा है तो में बहुत पहले से अपनी चूत में लंड पिलवाती मारो-मारो और ज़ोर से चोदो कुछ मत रखना अपने पास सारा का सारा लंड मेरी चूत में डाल दो। अब में भी ज़ोर-ज़ोर से नेहा की चूत में अपना लंड डाल रहा था और बड़बड़ा रहा था वाह मेरी चुदक्कड़ रानी ले ले अपनी चूत में मेरा लंड ले खाजा अपनी चूत से मेरा पूरा लंड तेरी चूत में तो दाँत नहीं है तो क्या हुआ? अपनी चूत से मेरा लंड चूस-चूसकर इसका सब रस पी जा।

अब नेहा ने अपने दोनों पैरों को मेरी कमर पर रखकर मुझे अपने दोनों हाथों से पकड़ लिया और वो बोल रही थी, बस अब कुछ मत बोलो और ऐसे ही चोदते रहो मुझे में अब तुमसे हमेशा ही चुदवाऊंगी, जब भी तुम्हारा लंड खड़ा हो मुझसे बोलना में अपनी चूत तुम्हारे लंड के लिए खुली रखूँगी। अब हम दोनों इस तरह एक दूसरे से बातें करते हुए बहुत जमकर चुदाई कर रहे थे और नेहा की चूत से अब फच फच की आवाज निकल रही थी। फिर नेहा कहने लगी कि तुम सुन रहे हो, मेरी चूत तुम्हारा लंड खाकर मस्त हो गयी है और वो खुशी का गाना गा रही है। अब में उसको बोला कि मेरी रानी यह आवाज हम दोनों की चुदाई की आवाज है और तुम्हारी चूत जितना पानी छोड़ेगी आवाज़ उतनी ही मधुर होगी, तुम्हें मेरे लंड की चुदाई पसंद आ रही है ना? तब नेहा अपनी कमर को उठाते हुए बोली कि अबे चूतिया अगर मुझे तुम्हारा लंड और तुम्हारे लंड की चुदाई पसंद नहीं होती तो क्या में इस तरह तुम्हारे नीचे नंगी अपने पैरों को उठाए अपनी चूत में तुम्हारा लंड लेती? अब बस बहुत बातें कर चुके तुम अब जरा मन लगाकर जमकर मेरी चूत को चोदो। फिर थोड़ी देर के बाद नेहा कहने लगी कि हाँ और ज़ोर से चोदो मेरा पानी निकलने वाला है, आने दो तुम्हारा लंड मेरी चूत में तुम भी अपना लंड मेरी चूत में झड़ दो।

अब में झड़ने वाली हूँ, बस ऐसे ही अंदर बाहर करके चोदते रहो वाह मुझे बड़ा मज़ा आ रहा है। फिर में भी उसकी बातों से खुश होकर धनाधन नेहा की चूत में अपना लंड डाल रहा था और उसको बोला कि वाह मेरी रानी में भी अब झड़ने वाला हूँ, ले अब ले मेरे लंड का पानी अपनी चूत से पी जा। अब में तेरी चूत में अपने लंड का पानी छोड़ने वाला हूँ, तू अपने दोनों पैरों को और ज्यादा फैला दे, अपने हाथों से अपनी चूत को और भी खोल ले, क्योंकि अब में भी झड़ने वाला हूँ और इतना कहते ही मैंने नेहा की चूत में दो-चार कस कसकर धक्के मारे और फिर में झड़ गया। अब नेहा की चूत भी मेरे लंड के झड़ने के साथ ही झड़ गयी और फिर हम लोग एक दूसरे से लिपटे हुए 10-15 मिनट ऐसे ही पड़े रहे। फिर मैंने अपना लंड नेहा की चूत से बाहर निकाला, मेरा लंड बाहर निकलते ही नेहा की चूत से सफेद पानी की धार निकलने लगी और उसकी गांड से होकर बिस्तर पर गिरने लगी। अब मैंने नेहा से कहा कि नेहा बिस्तर खराब हो जाएगा और यह दाग बहुत ही मुश्किल से जाएगा।

अब तुम उठो और जाकर अपनी चूत और गांड को धो लो, नेहा मुस्कुराते हुए बोली कि में कैसे बाथरूम में जाऊं? तुमने तो मेरा सारा बदन ही तोड़ दिया है, अभी तक मेरे सारे बदन में चुदाई का खुमार छाया हुआ है और फिर बाथरूम मेरी बहन के कमरे से होकर जाना पड़ेगा। फिर मैंने नेहा के पेटीकोट से उसकी चूत और गांड को साफ किया। फिर नेहा उठी और मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर उसको चाटने लगी और फिर नेहा ने मेरे लंड को अपनी जीभ से चाट चाटकर साफ कर दिया। दोस्तों इस तरह से उस दिन हम दोनों ने यह सब चुदाई का बड़ा मस्त मज़ा किया और जमकर चोदकर एक दूसरे के जिस्म की आग को ठंडा किया ।।

Updated: January 26, 2019 — 8:52 pm
Meri Gandi Kahani - Desi Hindi sex stories © 2017 Frontier Theme
error: