कोचिंग वाली लड़की ने सिखाया चुदाई का पाठ-2

sex stories in hindi फिर मैंने उसके दोनों निपल्स को अपनी उंगलियों में लेकर पूछा कि यह क्या है? तो उसने कहा कि यह फैक्टरी की चिमनियाँ है यहाँ फैक्टरी में जो दूध बनता है, वो निकलता है। तो में नीचे झुका और उसका लेफ्ट निपल अपने मुँह में लेकर चूसने लगा। तो वो धीरे से चीख पड़ी और बोली कि देव क्या कर रहे हो? आराम से चूसो ना, तो फिर में बारी-बारी से उसके दोनों निपल्स को चूसने और काटने लगा। तो वो बोली कि काट क्यों रहे हो? मेरी चिमनियाँ टूट जाएँगी। तो में कुछ नहीं बोला और बड़े आराम से चूसता रहा और चूसते-चूसते अपना एक हाथ नीचे उसकी चूत पर ले गया और अपनी एक उंगली उसकी चूत में डाल दी और अंदर बाहर करने लगा। तो उसकी सिसकारी फुट पड़ी आआअहह, सस्स्स्स्सस्स्स्सस्स, उूउउम्म्म्मममम। फिर में उठकर उसके सिर के पास गया और अपना लंड उसके मुँह पर रख दिया, तो उसने अपना मुँह खोलकर मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी और मेरे लंड के टोपे पर अपनी जीभ फैरने लगी।

अब उधर में उसके ज़ोर-जोर से बूब्स दबा रहा था, तो वो 15 मिनट तक लगातार मेरा लंड चूसती रही। फिर मैंने अपना सारा वीर्य उसके मुँह में ही निकाल दिया, अब वो टेबल पर अपनी पीठ के बल लेटी थी इसलिए मेरा वीर्य उसके मुँह से निकलकर उसकी आँख की तरफ जाने लगा। तो मैंने अपनी उंगली से सारा वीर्य साफ किया और अपनी उंगली उसके मुँह में डाल दी, तो वो अपनी जीभ से चाटकर मेरी उंगली पर लगा सारा वीर्य पी गयी। फिर में उसकी जांघो के बीच में गया और उसकी जांघो को अपनी जीभ से चाटने लगा और चाटते-चाटते में उसकी चूत पर अपनी जीभ फैरने लगा और उसका लव जूस पीने लगा। फिर मैंने अपनी जीभ उसकी चूत में डाल दी और अंदर बाहर करने लगा, तो वो मादक आवाजें निकालकर मुझे उत्तेजित करने लगी आआआम्‍म्म, उन उन उन उन्ह, सस्स्सस्स आह, आआ और अंदर देव और फिर थोड़ी देर के बाद वो भी झड़ गयी।

अब इतने में मेरा लंड फिर से जोश में आ चुका था और छुपने के लिए कोई छेद ढूंढ रहा था। फिर में सीधा खड़ा हुआ और अपना लंड उसकी चूत के छेद पर रखकर रगड़ने लगा जैसे बकरा हलाल करने से पहले उसे सहलाया जाता है। पारूल की अभी तक चूत की सील टूटी नहीं हुई थी, अब यह सब देखकर में और भी खुश हो गया था। फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत के छेद पर रखकर धीरे से झटका मारा तो मेरे लंड का टोपा उसकी चूत में चला गया और वो चीख पड़ी आआआअहह, सस्स्स्स्सस्सस्स यार धीरे से डाल ना, मेरी जान निकल रही है। तो फिर मैंने एक झटका और मारा, तो उसकी चूत गीली होने से मेरा लंड और अंदर चला गया। फिर मैंने और ज़ोर से एक झटका मारा तो मेरा लंड आधा और अंदर चला गया और उसकी सील भी टूट गयी।

फिर मैंने कहा कि मुबारक हो जानम तुम्हारी फैक्टरी का उद्घाटन हो गया है। तो वो चीख पड़ी है फाड़ दी साले ने मेरी चूत, हाए बड़ा दर्द हो रहा है। तो मैंने कहा कि रंडी चुपचाप चुदती रह, वरना तुझे आज रेपिस्ट की तरह चोद दूँगा। फिर मैंने एक और झटका मारा तो मेरा पूरा लंड उसकी चूत में चला गया और वो फिर से चीख पड़ी साले हरामी आराम से नहीँ चोद सकता। अब उसकी चूत और मेरा लंड खून से भर चुके थे। फिर मैंने एकदम से उसकी चूत में से अपना लंड बाहर निकाल लिया, तो मेरे लंड के बाहर निकलते ही एकदम से पच की आवाज़ आई ऐसा लगा जैसे किसी बोतल का ढक्कन खुल गया हो। फिर मैंने उसकी पेंटी से अपना लंड और उसकी चूत साफ की और फिर से अपना लंड उसकी चूत में डालने लगा। फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत में एंटर कराया और धीरे-धीरे झटके मारने लगा। अब मुझसे ठीक से झटके नहीं मारे जा रहे थे क्योंकि में पहली बार किसी को चोद रहा था।

फिर 5 मिनट के बाद वो बोली कि अपना लंड बाहर निकाल में तुझे चोदती हूँ, चोदना ना जाने आँगन टेढ़ा। फिर उसने मुझे टेबल पर लेटने को कहा, तो में लेट गया। फिर वो मेरे ऊपर टेबल पर चढ़ गयी और नीचे को बैठकर मेरा लंड पकड़ लिया और अपनी चूत के छेद पर रख दिया और उस पर बैठने लगी। फिर जैसे ही मेरा लंड उसकी चूत में गया, तो में धीरे से चीख पड़ा आ आराम से करना रंडी दर्द हो रहा है। तो वो बोली कि क्यों मेरे दलाल अब पता चला ना दर्द कैसे होता है? चल अब तू चुपचाप लेटा रह नहीं तो में आज तेरा रेप कर दूँगी। फिर वो मेरे लंड को अंदर लेने लगी और थोड़े झटकों के बाद मेरा पूरा लंड उसकी चूत में चला गया। अब मेरा लंड पूरा अंदर जाते ही उसने दर्द के कारण अपनी आँखें बंद कर ली थी। फिर में धीरे-धीरे उसके बूब्स दबाने लगा, फिर थोड़ी देर के बाद हम दोनों का दर्द कुछ कम हो गया और वो धीरे-धीरे ऊपर नीचे होने लगी। तो में भी लेटा-लेटा ऊपर की तरफ धक्के लगाने लगा और उसके बूब्स को ज़ोर-ज़ोर से दबाने लगा। अब हम दोनों की रफ़्तार तेज़ हो गयी थी, फिर 15 मिनट तक हम दोनों एक दूसरे को ऐसे ही चोदते रहे और फिर हम दोनों एक साथ ही झड़ गये।

फिर मैंने अपना सारा वीर्य उसकी चूत में ही निकाल दिया। अब वो बुरी तरह से थक चुकी थी और फिर वो मेरे ऊपर ही लेट गयी। अब हम दोनों एक दूसरे को किस करने लगे थे। फिर हम दोनों खड़े हो गये तो मैंने उससे कहा कि आज से तुम्हारी फेक्टरी में एक्सपेरिमेंट शुरू। तो उसने कहा कि नहीं हमने प्रेक्टिकल सेफ पीरियड में किया है और फिर हम दोनों हँसने लगे और अपने-अपने कपड़े पहन लिए। फिर इसके बाद में अपनी इंजिनियरिंग की पढाई में लग गया और मुझे फिर कभी दुबारा किसी को चोदने का मौका नहीं मिला।

Updated: December 3, 2018 — 1:09 am
Meri Gandi Kahani - Desi Hindi sex stories © 2017 Frontier Theme
error: