दीदी बनी मेरी रानी

हैल्लो दोस्तों, में आपको अपना पहला सेक्स अनुभव शेयर करने जा रहा हूँ और में आशा करता हूँ कि ये कहानी आपको बहुत पसंद आयेगी. मेरा नाम आशु है और मेरे लंड का साईज 7 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा है. यह घटना उज्जैन की है. में उज्जैन का रहने वाला हूँ और मेरी दीदी भी वहीं रहती है. उनका साईज 34-32-36 है और में तो सबसे ज़्यादा उनकी गांड का दीवाना हूँ. में उनको बचपन से मेरी बहन मानता था, मैंने उन्हें कभी ग़लत नज़रो से नहीं देखा, लेकिन जैसे ही मैंने अपनी जवानी कि उम्र में कदम रखा तो में बिगड़ना शुरू हो गया. अब में लड़कीयों को देखता और उनके बारे में सोचता था. अब में अपने दोस्तों में सबसे ज़्यादा बिगड़ा हुआ लड़का हूँ और में सेक्स के बारे में हर चीज़ जानता हूँ.

फिर मेरी एक उम्र आई जब में सेक्स के लिए तड़पने लगा और मुठ मारता था और सोचता था कि में कब किसी लड़की को चोद पाऊंगा? और फिर जब में 19 साल का हुआ तो मैंने मेरी दीदी को नहाते हुए देख लिया और तब से सोच लिया कि मेरी प्यास यही बुझायेगी. दीदी तलाकशुदा थी और उनके पति उनको मारते थे तो उन्होंने उसको तलाक दे दिया. मेरी दीदी मामा की लड़की थी और मामा के घर पर ही रहती थी और मेरे मामा का घर ठीक मेरे घर के पीछे है तो हमने पीछे की दिवार को तोड़कर वहां गेट लगवा लिया था. वो दिन मुझे अच्छे से याद है जब मैंने दीदी को नहाते हुए देखा था. दीदी को शाम को नहाने की आदत थी और उस दिन मामा और मामी घर पर नहीं थे. वो बाज़ार गये हुए थे और मेरी मम्मी ने बोला कि शायद मेरी किताब मामा के घर पर रह गई है तो तू लेकर आ जा. फिर मैंने बोला ठीक है मम्मी और में चला गया. में पीछे का दरवाज़ा खोलकर अंदर गया और फिर ड्रॉइग रूम से आवाज़ लगाई मामा, मामी? तो किसी ने जवाब नहीं दिया.

फिर में थोड़ा और दीदी के रूम के पास चला गया तो हल्का सा दरवाजा खुला हुआ था और नहाने की आवाज़ आ रही थी. फिर मैंने सोचा कि दीदी नहा रही होगी तो मेरे अंदर का शैतान जाग गया और मैंने सोचा कि अगर में उनको नहाते हुए देख लूँ. फिर मेरे दिमाग़ ने मना कर दिया कि वो मेरी दीदी है, पागल है क्या? फिर मैंने उनके रूम के बाहर से ही आवाज़ लगाई कि दीदी आप अंदर हो क्या? आशु तुम हो क्या? हाँ दीदी, 5 मिनट रुको में आ रही हूँ, तू अन्दर रूम में बैठ जा. फिर में जाकर वहां बेड पर बैठ गया और मैंने ध्यान से देखा तो बाथरूम के दरवाज़े में छेद थे, जैसे नॉर्मल पुराने दरवाज़ों में होते है.

अब मुझसे रहा नहीं गया और में दरवाज़े के छेद में से झाँकने लगा और जो मैंने देखा उससे मेरा लंड एक मिनट में टाईट हो गया. दीदी पूरी नंगी थी और क्या सेक्सी बॉडी थी उनकी? उनकी पूरी बॉडी पर पानी फ्लो कर रहा था, उनके चेहरे से, गर्दन से और क्या बूब्स थे? ब्राउन निप्पल वाले. फिर उनके पेट से होते हुए पानी उनकी क्लीन शेव चूत पर से नीचे जा रहा था. अब में देखकर वही खड़ा रहा और मेरा लंड तो ऐसा हो रहा था कि अभी मेरी जीन्स फाड़कर बाहर आ जायेगा.

मैंने उसको बाहर निकालकर मुठ मारना शुरू कर दिया और वहीं बाथरूम के दरवाज़े पर झड़ गया और जैसे ही दीदी बाहर आने वाली थी तो मैंने ज़िप बंद की और सब साफ करके बेड पर जा कर बैठ गया. फिर दीदी बाहर आई, बोली क्या हुआ? कुछ काम था क्या? हाँ वो मम्मी कोई किताब यहीं पर ही भूल गई थी, वो लेने भेजा है. ओह हाँ, रुक दो मिनट में लाती हूँ. उन्होने टॉप पहना हुआ था और केफ्री और उनका टॉप देखकर मुझे अलग ही पता चल रहा था कि उन्होंने अन्दर कुछ नहीं पहना है. फिर दीदी ने वो किताब दी और में लेकर वापस घर आ गया.

फिर हर रोज़ मेरा रुटीन हो गया. में हर रोज़ किसी बहाने से जाता और मौका मिलता तो दीदी की बॉडी देखकर मज़े लेता, नहीं तो मामा के साथ बाहर बैठकर बात करता और वापस घर आ जाता. फिर अब मैंने मन में सोच लिया था कि अब मुझे दीदी को चोदना है, लेकिन में सोच रहा था कैसे? फिर मुझे मौका मिला. जब हमारी फेमिली में किसी की मौत हो गई तो मम्मी-पापा और मामा-मामी 3 दिन के लिए बाहर गये हुए थे और जब सर्दी का मौसम चल रहा था और पापा-मम्मी मुझे दीदी के हवाले करके चले गये. तब मैंने सुबह दीदी को नहाते हुए देखा और मुठ मारी. उसके बाद हमने ब्रेकफास्ट किया और टी.वी देखने लगे. फिर हमने थोड़ी देर इधर उधर की बातें की और अब दीदी फ्रेंकली बात कर रही थी. फिर उन्होंने मेरी गर्लफ्रेंड्स के बारे में पूछा तो मैंने बोला अभी तो एक भी नहीं है, लेकिन भविष्य में बहुत बनाऊंगा, तो दीदी बोली तू बहुत बिगड़ रहा है.

फिर उसके बाद हमने लंच किया और हम मेरे घर पर कंप्यूटर गेम खेलने चले गये और उन्होंने पूछा कि तेरे पास अच्छी मूवी है क्या? तो मैंने बोला हाँ है आप सर्च कर लो. फिर में बाहर चला गया कोई मेहमान आए थे, तो मैंने उनसे बोला कि अभी घर पर कोई नहीं है और वो चले गये. फिर जैसे ही में वापस अंदर आया तो मैंने देखा कि दीदी ने मेरी पॉर्न मूवी का फोल्डर खोल रखा था और में पकड़ा गया था.

उन्होने बोला यह सब क्या है आशु? दीदी, वो तो, वो तो क्या? अभी यह सब डीलीट करो और फिर कभी ऐसी चीज़े मत देखना, नहीं तो में बुआ को सब बता दूँगी. में बोला नहीं दीदी आप कुछ मत बताना, में सब डिलीट करता हूँ और मैंने सबको रिसाइकल बिन में शिफ्ट कर दिया और बाद में मैंने फिर से रिस्टोर भी कर लिया था. फिर वापस हम उनके घर गये और वो उनके लेपटॉप पर फाइल्स कॉपी कर रही थी, जो वो मेरे कंप्यूटर से लाई थी.

फिर में बाहर जाकर टी.वी देखने लगा और फिर आधे घंटे के बाद दीदी ने मुझे आवाज़ लगाई और कहा कि आशु इधर आओ यह गेम इनस्टॉल नहीं हो रहा है. फिर में गया और उस गेम को इनस्टॉल करने लग गया और दीदी बाथरूम में चली गई. फिर में गेम इनस्टॉल करने के लिए ऐसे ही उनका लेपटॉप देख रहा था तो मैंने देखा कि मेरा पॉर्न मूवी का फोल्डर दीदी के लेपटॉप में कैसे आया? तब मुझे समझ में आया कि दीदी ने सारी पॉर्न मूवी कॉपी कर ली थी.

फिर रात हो गई और हम डिनर करके टी.वी देख रहे थे और रात के लगभग 11 बज रहे थे. फिर मैंने दीदी से पूछा कि वो मेरा पॉर्न मूवी का फोल्डर आपके लेपटॉप में क्या कर रहा है? तो दीदी घबरा गई और नाटक करके पूछने लगी कौन सा फोल्डर? ओह अच्छा तो वो वीडियो आपके लेपटॉप में क्या कर रहे है? अब दीदी पकड़ी गई थी. वो रोने लगी और फिर उन्होंने बताया कि वो सेक्स के लिए बहुत ज़्यादा परेशान है और उन्हें उनके पति ने भी कभी प्यार नहीं किया था.

फिर में धीरे से उनके पास सोफे पर बैठ गया और उन्हें हग किया. मैंने बहुत कोशिश की, लेकिन दीदी ने रोना बंद नहीं किया. फिर मैंने धीरे से उनके लिप पर किस किया और दूर हट गया. फिर दीदी ने मेरा सिर उनकी तरफ खींचा और हम स्मूच करने लगे और फिर हम 15-20 मिनट तक स्मूच करते रहे और एक दूसरे में खो गये. फिर मैंने दीदी का टॉप उतार दिया और उन्होने मेरी टी-शर्ट उतार दी. फिर मैंने उनकी ब्रा भी उतार दी और फिर में उन्हें उठाकर अंदर ले गया और बेड पर लेटा दिया और किस करने लगा. फिर मैंने उनके पूरे शरीर पर किस करना स्टार्ट कर दिया, गर्दन पर, नाभि पर और फिर में उनके बूब्स चूसने लगा. अब दीदी मौन कर रही थी और मैंने फिर दीदी का पजामा पेंटी के साथ उतार दिया और अब में भी नंगा हो गया. अब हम दोनों एक दूसरे को किस कर रहे थे और फिर दीदी मेरे लंड को मसलने लगी और ऊपर नीचे हिलाने लगी. अब मेरा लंड एकदम टाईट हो गया था.

फिर दीदी ने मेरे लंड को पकड़कर मुँह में ले लिया और चूसने लगी. वाह्ह पहली बार कोई मेरे लंड को चूस रहा था और मुझे बहुत मजा आ रहा था. ओह दीदी और चूसो अपने भाई का लंड और चूसो यसस्स, फिर में उनके मुँह में ही झड़ गया और दीदी मेरा पूरा वीर्य पी गई. अब मैंने दीदी को नीचे लेटा दिया और उनकी चूत चाटने लगा. अब दीदी बहुत आवाज़ निकाल रही थी, ह्म्‍म्म्ममममममममममम ओह यसस्स्स म्‍म्म्ममममममम. फिर थोड़ी देर के बाद दीदी मेरे मुँह में ही झड़ गई और में भी उनका पूरा पानी पी गया. अब मेरा लंड अभी तक फुल टाईट हो चुका था और फिर मैंने दीदी की चूत पर अपना लंड सेट करके धक्का लगाया तो लंड थोड़ा अंदर गया और अब दीदी को बहुत दर्द हो रहा था. फिर भी वो बोली कि रुक मत मेरे भाई, आज मेरी प्यास बुझा दे. फिर मैंने एक और धक्का लगाया तो अब मेरा पूरा लंड अंदर था. फिर मैंने धीरे-धीरे शॉट मारने शुरू कर दिए.

अब दीदी को भी मजा आने लगा और अब वो मेरा साथ दे रही थी और फिर 20-25 मिनट के बाद हम दोनों एक साथ झड़ गये और में 10 मिनट तक ऐसे ही उनके ऊपर पड़ा रहा और हम दोनों रजाई ओढ़ कर नंगे ही सो गये. फिर सुबह दीदी ने मुझे किस करके उठाया और हम उसके बाद से जब भी मौका मिलता है तब सेक्स करते है.

Updated: January 27, 2016 — 8:44 am
Meri Gandi Kahani - Desi Hindi sex stories © 2017 Frontier Theme