दिल्ली की मस्त माल के मजे

desi sex stories हैल्लो दोस्तों, में इस साईट को पिछले 3 साल से पढ़ रहा हूँ और मुझे इस साईट से बहुत सारी जानकारी भी मिली है। मेरा इस साईट से बहुत पुराना रिश्ता है, आज में आप लोगों अपनी सच्ची घटना सुनाने जा रहा हूँ और मुझे उम्मीद है कि आप सभी को मेरी यह कहानी जरुर पसंद आएगी। ये कहानी आज से 3 साल पहले की है, जब में कॉलेज में था, में एक नॉर्मल हाईट का लड़का हूँ विद एवरेज बॉडी, लेकिन ऊपर वाले ने शक्ल थोड़ी अच्छी दे दी है। तो हुआ यह कि उस वक़्त मुझे हमेशा चोदने का मन रहा करता था बस यही इच्छा होती थी कि मेरे भी कोई गर्लफ्रेंड हो जिसके साथ में अपनी सारी इच्छाए पूरी करना चाहता था। मेरी क्लास में दिल्ली की एक लड़की थी, वो बहुत ही गोरी थी मानो जैसे किसी ने उसको दूध से नहला दिया हो। एक साल से हम दोनों उसी क्लास में थे, हमारी थोड़ी बहुत बात हुआ करती थी लेकिन बस उतनी ही। फिर एक दिन रात को वो मुझे फ़ेसबुक पर ऑनलाइन मिली तो बात करते-करते मैंने उससे पूछ लिया।

में – क्या तुम्हारे कोई बॉयफ्रेंड है?

रितिका – कोई नहीं है।

में – क्यों? तुम तो इतनी अच्छी दिखती हो फिर भी।

रितिका – पहले स्कूल टाईम में था फिर कुछ जमा नहीं।

में – अभी कॉलेज में कोई अच्छा नहीं लगता क्या?

रितिका – नहीं यार, यहाँ के लड़को में वो बात नहीं है।

मे – तो फिर तुम्हें किस तरह का लड़का चाहिए?

रितिका – एकदम हॉट, जिसे देखकर सारी खुजली मिट जाए।

अब में तो बिल्कुल शॉक हो गया कि ये इसने क्या कह दिया? फिर लगा कि शायद दिल्ली की है तो मस्ती से लेती होगी।

में – एक बार हमें मौका देकर तो देखो, फिर बताएँगे कि अपने कॉलेज के लड़को में कितना दम है।

रितिका – अच्छा ऐसा है, मुझे तो नहीं लगता।

अब मेरी धड़कन एकदम से तेज़ हो गई थी, अब मुझे बहुत मज़ा आ रहा था। अब उससे गंदी-गंदी बातें करके मेरा लंड भी पूरा तन गया था। फिर मैंने बिना सोचे समझे ही अपने लंड का फोटो उसे सेंड कर दिया, तो 10 मिनट तक उसका कुछ रिप्लाई ही नहीं आया। अब मेरी तो गांड फट गई थी कि कही ये प्रिन्सिपल को शिकायत ना कर दे, अब में उसके मैसेज का इंतजार ही करता रहा।

रितिका – कल शाम को 7 बजे हॉस्टल के बाहर के मिल।

अब मुझे लगा कि वो किसी को शिकायत करेगी, फिर जब में वहाँ पहुँचा तो मैंने देखा कि रितिका तो एक बहुत ही हॉट सी ड्रेस पहनकर वहाँ खड़ी थी। ओह माई गॉड अब मेरा लंड तो उसे वही सलामी देने लगा था, उसका भरा बदन उसमें बहुत अच्छे से झलक रहा था, उसका फिगर 32-30-34 होगा, वो सलवार कमीज़ में वहाँ खड़ी थी और उसमें से उसके बूब्स निकल-निकलकर बाहर आ रहे थे। अब में समझ गया था कि आज तो में जन्नत की सवारी करूँगा। फिर हम एक होटल के रूम में गये और वहाँ जाते ही उसने मुझे पूरी तरह से अपने गले लगा लिया और ज़ोर-ज़ोर से मुझे चूमने लगी। अब में भी जोश में आ गया और उसे कस कर पकड़ लिया और उसे चूमने लगा। अब वो और भी तेज़ हो गई थी, अब में धीरे-धीरे उसकी कमीज के ऊपर से ही उसके बूब्स प्रेस कर रहा था। अब वो और भी मस्त होती जा रही थी, फिर मैंने उसे बेड पर लेटा दिया और उसकी सलवार कमीज उतारने लगा।

अब वो सिर्फ़ अपनी ब्रा और पेंटी में थी, अब उसके बूब्स ब्रा से बाहर निकले जा रहे थे। फिर मैंने जोश में उसकी ब्रा को खींचकर खोल दिया और मस्ती से उसके बूब्स चूसने लगा और अपना एक हाथ उसकी चूत पर रख दिया और धीरे-धीरे उसे सहला रहा था। अब वो और भी ज़्यादा मस्त हो गई थी, अब वो मेरी चड्डी के ऊपर से मेरे लंड को सहला रही थी। अब मुझसे भी रहा नहीं जा रहा था फिर मैंने उसे नीचे बैठाया और अपना लंड उसके मुँह के सामने रख दिया। अब उसने मेरा लंड देखते ही अपने मुँह में ले लिया और मस्ती से चूसने लगी। अब में भी जोश में आ गया और उसके मूँह को आगे पीछे करने लगा। अब वो ऐसे करीब 5 मिनट तक चूसती रही। अब मेरा लंड पूरा 7 इंच का तन कर खड़ा हो गया था, फिर मैंने उसे बेड पर लेटा दिया और उसकी एक टाँग को मेरे कंधे पर रख दिया और ज़ोर से अपना लंड उसकी चूत में घुसा दिया। अब वो ज़ोर-जोर से चिल्लाने लगी उईईई माँ में मर गई साले, लेकिन मैंने उस पर कोई तरस नहीं खाया और अपना लंड ज़ोर-जोर से उसकी चूत के अंदर डालने लगा। फिर मैंने कहा कि ले साली बहुत शौक है ना चुदने का, आज तो में तेरी चूत का भोसड़ा बना दूँगा और वो ज़ोर- ज़ोर से कराहने लगी। अब में जमकर उसकी चुदाई करता रहा ऐसा करीब 10 मिनट तक चला।

अब में झड़ने वाला था तो मैंने अपना लंड उसकी चूत से बाहर निकाल लिया और अपना सारा पानी उसके मुहँ पर छोड़ दिया। अब में थोड़ा शांत हो गया था, लेकिन उसकी चूत में अभी भी खुजली हो रही थी इसलिए अब वो फिर से मेरे लंड को चूसने लगी और उसे खड़ा करने में लग गई। अब मुझे थोड़ा दर्द हो रहा था, लेकिन अब में कुछ नहीं कर सकता था। अब वो करीब 5 मिनट तक मेरे लंड को चूसती रही, तो मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया था। अब में फिर से तैयार हो कर उसकी चुदाई करने के लिए खड़ा हो गया था। फिर में उठा और उसे कुतिया बना दिया और धीरे से अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया। अब उसकी चूत गीली होने के कारण मेरा लंड तुरंत उसके अंदर चला गया, अब मैंने भी अपनी स्पीड पकड़ ली और उसे जमकर चोदने लगा, अब वो भी मस्ती से आगे पीछे होने लगी थी।

अब मैंने उसके बाल पकड़ लिए थे और उसकी जमकर चुदाई करने लगा और अब में उसकी गांड पर ज़ोर-ज़ोर से थप्पड़ भी मार रहा था। अब वो चिल्लाने लगी क्या कर रहा है? तो मैंने बोला कि तू मज़े ले साली ज़्यादा बातें मत कर और फिर ज़ोर-जोर से उसकी चुदाई करने लगा। अब वो भी मस्त हो गई थी और उसने अपना पानी छोड़ दिया था, तो मैंने अपना लंड बाहर निकाला और फिर उसके मुहँ में डाल दिया। अब वो मेरा लंड चूसने लगी और थोड़ी ही देर में में भी झड़ गया, उस रात हमने करीब 3 बार चुदाई की ।।

Updated: October 30, 2018 — 10:57 pm
Meri Gandi Kahani - Desi Hindi sex stories © 2017 Frontier Theme
error: