गीतू की गुलाबी चूत का नशा-2

अब उसके मुँह से अजीब-अजीब सी आवाज़े आ रही थी तो मैंने सोचा कि कही पड़ोसी सुन लेगें तो प्रोब्लम हो जाएगी इसलिए मैंने उसके बूब्स सक करते हुए सी.डी का बटन ऑन कर दिया। अब म्यूज़िक ज़ोर से बजने लगा था और किसी को कुछ सुनाई देने का तो नाम ही नहीं था। फिर मैंने उसकी सलवार धीरे-धीरे उतारनी शुरू कर दी, अब उसकी सलवार उतरने के बाद में उसकी चूत को उसकी ब्लेक पेंटी के ऊपर से सक करने लगा था, तो वो और आवाजे निकालने लगी। फिर मैंने धीरे-धीरे उसकी पेंटी को भी उतार दिया और उसकी चूत को सक करने लगा। अब वो मेरे सामने बिल्कुल नंगी पड़ी हुई थी और कुछ बोल भी नहीं रही थी। फिर मैंने लगभग 10 मिनट तक उसकी चूत को सक किया और जैसे ही उसकी चूत झड़ने वाली थी, तो में सक करने से हट गया, तो वो बिना पानी की मछली की तरह तड़प उठी और फिंगर फुक्किंग करने लगी।

फिर मैंने उसके दोनों हाथ कसकर पकड़ लिए तो वो मेरे आगे गिड़गिडाने लगी की प्लीज़ मेरी चूत को सक करो। तो मैंने कहा कि साली पहले तो बहुत अकड़ती थी, तो आज क्यों नहीं अकड़ रही है? तो वो फिर से गिड़गिडाने लगी। तो मैंने उससे कहा कि में तुम्हारी चूत एक शर्त पर ही सक करूँगा, पहले तुम्हें मेरे लंड को सक करना होगा। तो वो मान गई और मैंने उसे मेरे कपड़े उतारने को कहा, तो उसने जल्दी- जल्दी मेरे पूरे कपड़े उतार दिए। अब मेरे 7 इंच लम्बे और 3 इंच मोटे लंड को देखकर बोली कि ये मेरे मुँह में कैसे आएगा? तो मैंने कहा कि साली में बताता हूँ और फिर मैंने अपना लंड उसके मुँह में थोड़ा सा डाल दिया। तो उसके बाद वो धीरे-धीरे अपनी सिसकियाँ बढ़ाती गई और मेरे पूरे लंड को अपने मुँह में डालकर सक करने लगी। अब उसका एक हाथ मेरे बॉल्स के साथ खेल रहा था और में उसके बूब्स के साथ खेल रहा था।

फिर थोड़ी देर तक सक करने के बाद वो बोली कि अब तुम मेरी चूत सक करो। तो मैंने कहा कि चलो 69 की पोजिशन में हो जाओ, तो वो बोली कि वो क्या होती है? तो मैंने उसे बताया कि 69 क्या होती है? और इस तरह हम दोनों 69 की पोजिशन में आ गये और एक दूसरे को सक करने लगे। अब में धीरे-धीरे उसकी चूत में उंगली भी डाल रहा था, तो वो कह रही थी कि बहुत दर्द होता है और 10 मिनट के बाद उसकी चूत झड़ गई और में उसके पूरे जूस को पी गया। अब मुझे उसकी चूत का जूस अच्छा लगा, तो में उसकी चूत को सक करता रहा। तो उसके बाद वो फिर से गर्म हो गई और जैसे ही मैंने सक करना बंद किया, तो वो फिर से गिड़गिडाने लगी कि सक करो। तो मैंने कहा कि अब में सक नहीं करूँगा बल्कि तुम्हारी चूत में अपना लंड डालूँगा। तो वो कहने लगी कि इतना बड़ा लंड मेरी चूत में कैसे जाएगा? मुझे तो तुम्हारी उंगली से भी दर्द होता है, तो में ये कैसे सहन करूँगी? तो मैंने उससे कहा कि तुम्हें डरने की ज़रूरत नहीं है थोड़ी देर दर्द होगा, लेकिन बाद में तुम भी इन्जॉय करोगी और कहा कि औरतों की चूत का छेद बहुत बड़ा होता है क्योंकि यहाँ से इतना बड़ा बच्चा निकल जाता है, तो मेरा लंड तो आराम से आएगा।

फिर उसके बाद मैंने तेल लेकर थोड़ा सा अपने लंड पर और बाकी उसकी चूत के लिप्स हटाकर वहाँ पर लगा दिया और अपना लंड उसकी चूत में अंदर डालने की बजाए लिप्स पर ही रगड़ने लगा। तो वो थोड़ी देर में ही चिल्ला उठी प्लीज़ अंदर करो, तो उसके बाद मैंने अपना लंड थोड़ा सा अंदर किया, तो वो दर्द से चिल्लाने लगी। तो मैंने उसके होंठो पर अपने होंठ रख दिए और अपने लंड को वही पर रखकर थोड़ा सा हिलने लगा। अब वो भी इन्जॉय करने लगी थी, तो मैंने एक ज़ोर से झटका दिया तो मेरा पूरा लंड उसकी चूत में चला गया और वो दर्द से तड़पने लगी, लेकिन अब मेरे सब्र का बांध टूट चुका था तो में उसकी परवाह नहीं करते हुये अपने लंड को अंदर बाहर करने लगा। तो वो थोड़ी देर तक दर्द महसूस करती रही, लेकिन अब बाद में वो भी इन्जॉय करने लगी थी।

अब उसके मुँह से आआआआआआ, ऊऊओ ऊऊऊऊऊऊहह और ज़ोर से चोदो राज और ज़ोर से और अंदर करो की आवाजे आने लगी। तो मैंने कहा कि क्या ये सब तो तुझको अच्छा नहीं लगता था ना, साली अब लंड का स्वाद आ रहा है ना, तेरी तो आज में पूरी फाड़ दूँगा और अब लगभग 15 मिनट की चुदाई के बाद मेरा लंड झड़ने वाला था और इस बीच वो दो बार झड़ चुकी थी। तो मैंने उससे कहा कि मेरा पानी निकलने वाला है और उससे पूछा कि अंदर छोड़ दूँ, या बाहर। तो उसने बोला कि बाहर ही छोड़ना में प्रेग्नेंट नहीं होना चाहती हूँ। तो मैंने उसकी चूत में से अपना लंड बाहर निकालकर उसके मुँह में डाल दिया और उसके मुँह को फुक करने लगा, तो थोड़ी देर में मेरा पानी निकल गया। अब उसका मुँह मेरे लंड के पानी से पूरा भर गया था, तो कुछ तो उसने निगल लिया और बाकी बाहर उसके चेहरे से होता हुआ उसकी नाभि पर गिर गया। फिर उसके बाद में थोड़ी देर तक उसके ऊपर लेट गया और उसको किस करता रहा और अपने लंड के पानी को उसके बूब्स पर मलता रहा। फिर लगभग 15 मिनट तक आराम करने के बाद हम दोनों उठे और अब शाम होने लगी थी और उसे घर भी जाना था, तो हम दोनों ने अपने आपको फ्रेश किया और उसको उसके घर के पास छोड़कर आ गया। फिर मैंने घर आकर उसके खून और हम दोनों के पानी से खराब हुई बेडशीट को साफ़ किया और सो गया ।।

धन्यवाद …

Updated: October 20, 2018 — 9:00 pm
Meri Gandi Kahani - Desi Hindi sex stories © 2017 Frontier Theme
error: