पल्लवी की कातिल जवानी

हैल्लो दोस्तों मेरा नाम मिकी है और में इंदौर का रहने वाल हूँ में इस साईट का शुरू से रीडर हूँ और अब में पार्ट टाईम काम करता हूँ लेकिन आज में अपना पहला सेक्स अनुभव आप सभी से शेयर करने जा रहा हूँ। दोस्तों यह बात मेरे कॉलेज के दिनों की है जब में सिर्फ़ 19 साल का था और मेरी क्लास में वैसे तो कई लड़कियाँ थी लेकिन एक लड़की पर कॉलेज में सभी का दिल आता था और उसका नाम था पल्लवी। पल्लवी एक बहुत अच्छे स्वभाव की लड़की थी और उसका फिगर भी बहुत सेक्सी था। फिर उस पर कॉलेज के अधिकतर सभी लड़के मरते थे। फिर मेरी कुछ लडकियाँ दोस्त क्लास में होने से में उनसे ज़्यादा मिलता था और इसी तरह पल्लवी से मेरी बात शुरू हुई लेकिन पल्लवी बहुत डरी हुई सी लगती थी और वो बात करने में बहुत घबराती थी।

में उसके गालों पर मरता था.. उसकी आँखें जैसे मुझे एक मदहोशी का नशा देती थी। मेरा बहुत अच्छा व्यहवार होने की वजह से वो मुझसे बात करना पसंद करती थी और फिर हम एक दूसरे के बहुत करीब आ चुके थे। फिर एक दिन मैंने मौका देखकर उसे प्रपोज़ किया और फिर 7 दिन बाद उसने मुझे हाँ में अपना जवाब दिया और में उसके इस जवाब से बहुत ही ज्यादा खुश हुआ। क्योंकि में उससे बहुत प्यार करने लगा था और हम दोनों जितना टाईम हो सके साथ गुज़ारते थे और फिर उसके घर में बहुत ज्यादा समस्या होने की वजह से हम ज़्यादा नहीं घूमते थे लेकिन हम हमारे एक दोस्त के रूम पर जाकर साथ बैठा करते थे।

फिर में उसे वहाँ पर बहुत किस दिया करता था गालो पर, गर्दन पर और वो भी मुझे जवाब में किस देती। फिर कुछ दिनों तक ऐसे ही चलता रहा। फिर एक दिन मैंने उसे हग कर लिया और फिर वो अचानक थम सी गई थी। मैंने उसे बहुत किस किये लेकिन वो डर गई और उसने कुछ नहीं बोला और वो चली गई.. क्योंकि दूसरे रूम में मेरा एक दोस्त और उसकी गर्लफ्रेड रहते थे.. इसलिए हम कुछ भी करने से डरते थे। फिर वो दूसरे दिन आई और हम लोग कॉलेज बंक करके उस रूम पर पहुँच गए। फिर उसने मुझसे कहा कि कल जो भी हुआ ठीक नहीं था। फिर मुझे भी ग़लत लगा क्योंकि में भी उसके बारे में कभी भी ग़लत नहीं सोचता था। फिर मुझे भी लगा और मैंने उससे सॉरी बोला। फिर वो मान गई लेकिन मेरे मन में उसका वो मुलायम और सेक्सी तरीके से छूना नहीं जा रहा था। उसका फिगर 34-24-36 था और ना उसके बदन से उसके चिपके हुए कपड़े शामत ढाते थे।

फिर उस दिन हम एक दूसरे की बाहों में बाहें डालकर बैठे हुए थे। तभी अचानक से वो बोली कि कल जैसे फिर से करो लेकिन यह आज हमारा आखरी बार होगा। तभी मैंने हाँ कर दी और उसे कसकर हग कर लिया और उसने भी कर लिया। फिर हम दोनों ने एक दूसरे को पहली बार स्मूच किया था वो भी 15 मिनट तक। फिर वो मदहोश हो रही थी और मेरे हाथ उसकी पीठ को सहला रहे थे। तभी उसने मुझे अचानक से अलग किया और फिर हम दोनों दोबारा से इधर उधर की बातें करने लगे लेकिन उसकी दीवानगी अब उसके कंट्रोल से बाहर निकल रही थी और मेरा भी कुछ यही हाल था और मैंने सोच लिया था कि मुझे अब कैसे भी करके इसके साथ सेक्स करना ही है। फिर मैंने ब्लू फिल्म बहुत देखी थी इसलिए मुझे थोड़ा बहुत अनुभव भी था।

फिर मैंने उसे तीन दिन के लिये कहीं बाहर जाने के लिए कहा। तभी उसने कहा कि उसे घर वालोँ की सहमती नहीं मिलेगी लेकिन फिर भी वो जाना चाहती है। फिर हमने हमारी एक बहुत अच्छी दोस्त को अपनी सारी बात बताई और हमारी उस दोस्त ने बहाना बनाकर उसके घर वालोँ को समझा दिया। अब हम दोनों बाईक पर उज्जैन चले गए और वो बहुत खुश थी और उसे भी मुझ पर विश्वास था। फिर हमने एक रूम बुक किया और फिर उसमे चले गए और फ्रेश होकर हम दोनों ने ब्रेकफास्ट किया थोड़ा घूमने के बाद हम वापस रूम में आए।

फिर मैंने घर के कपड़े पहने और उसने भी घर के कपड़े पहन लिए उसके खुले बाल और टाईट टी-शर्ट पर उभरे हुए बूब्स कयामत ढा रहे थे.. उसके पैर एकदम चिकने थे और वो बहुत ही सुंदर और हद से भी ज़्यादा सेक्सी लग रही थी। फिर बिना रुके मैंने उसे अपनी बाहों में भर लिया और हम दोनों एक दूसरे से लिपट गए हम दोनों का बदन एक दूसरे से पूरी तरह से चिपका हुआ था और फिर हमने स्मूच करना शुरू कर दिया। तभी वो बोली कि कोई आ जाएगा। फिर मैंने उससे कहा कि हम घर से दूर सिर्फ़ एक दूसरे के लिए यहाँ आए है और यहाँ पर कोई नहीं आ सकता। तभी वो खुश होकर मुझे पागलो की तरह किस करने लगी। फिर उसने मुझे 2-3 बार काट लिया था मेरे होंठो पर।

फिर मैंने उसकी गर्दन पर किस करना शुरू किया.. वो उत्तेजित हो रही थी। फिर बदन एक दूसरे से चिपके होने की वजह से वो मेरा खड़ा हुआ टाईट लंड महसूस कर सकती थी जो की 7 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है। फिर उसकी भी टी-शर्ट गहरे गले की होने के कारण उसके बूब्स बहुत ही अच्छे और बाहर की और निकले हुए थे और उसने बिकिनी ब्रा पहनी थी वो कातिल लग रही थी। फिर मैंने उससे कहा कि में तुमसे बहुत प्यार करता हूँ और फिर उसने मुझे और ज़ोर से जकड़ कर कहा कि में भी तुमसे बहुत प्यार करती हूँ। फिर मैंने उसकी कमर पर एक हाथ रख दिया। फिर वो ज़ोर ज़ोर से साँसे लेने लगी आह्ह्ह्हह। फिर वो पागलों की तरह बार बार किस कर रही थी। तभी मैंने एक हाथ उसकी जांघ पर रख दिया और फिर उसके बदन में जैसे करंट सा दौड़ गया और कुछ ऐसा ही मेरे साथ भी हुआ में अपना हाथ धीरे धीरे में उसके बूब्स तक ले आया और धीरे से उसके बूब्स सहलाए उसने मुझे मेरी गर्दन पर काट लिया लेकिन में अपने आप को रोक नहीं पा रहा था और ना ही वो।

फिर हमारी जवानी पूरे जोरो पर थी। तभी मैंने धीरे से मेरी टीशर्ट उतार फेंकी और उसे जकड़ लिया मौका पाते ही मैंने उसकी टीशर्ट भी उतार दी वाह क्या नज़ारा था.. उसके बूब्स के दाने उभर आए थे और वो एकदम सेक्सी लग रही थी लेकिन मैंने वैसे बूब्स किसी पॉर्न फिल्म में भी नहीं देखे थे.. वो बहुत खूबसूरत थे। फिर मैंने उन पर ब्रा के ऊपर से ही किस करना शुरू कर दिया.. वो कुछ नहीं बोल पा रही थी लेकिन उसके बदन में एक अजीब सा करंट दौड़ रहा था। फिर मैंने उसकी जिन्स खोल दी। तभी मुझे जैसे हार्ट अटेक सा आ गया था.. उससे खूबसूरत कोई लड़की नहीं थी। फिर में जन्नत में था और में उसकी जांघ पर किस करने लगा और वो मोन कर रही थी ओह एसस्स ओह आआहह।

तभी  उसकी पेंटी गीली हो चुकी थी। फिर मैंने उसे हग करते हुए उसके ब्रा की लेस खोल दी.. तभी एक जन्नत की परी मेरे सामने थी उसके निप्पल को में पागलों की तरह चूस रहा था और मैंने उसके निप्पल चूस चूसकर लाल कर दिए थे। तभी वो धीरे से बोली.. आज तुम मुझे मार डालोगे मेरे राज़ा.. में तुमसे बहुत प्यार करती हूँ जानू आज में तुम्हारी हूँ सिर्फ़ तुम्हारी.. प्लीज इसे मेरी सबसे खूबसूरत याद बना दो.. फिर क्या था रास्ता बिलकुल साफ हो चुका था मुझे उसकी तरफ से अब जवाब मिल चुका था जिसका मुझे बड़ी बेसब्री से इन्तजार था और तभी मैंने उसकी पेंटी भी खोल दी और वो एकदम नंगी थी लेकिन थोड़ी शरमा रही थी।

फिर मैंने भी अपने सारे कपड़े उतार दिए उसकी चूत एकदम, चिकनी गुलाबी थी और चूत पर एक भी बाल नहीं था जैसे वो सोने की चूत हो। तभी उसने मेरा लंड देखा और फिर अचानक से वो डर गई और फिर कहने लगी कि क्या ये अन्दर चला जाएगा? उसके माथे पर एक चिंता की लकीर थी फिर मैंने कहा कि हाँ तुम चिंता मत करो। फिर उसने कहा कि मैंने सुना है पहली बार बहुत ही दर्द होता है.. क्या ये बात सही है? तभी मैंने उसे बेफिक्र रहने को कहा और बोला कि क्या तुम मुझसे प्यार करती हो? फिर वो बोली कि हाँ अपने से भी ज्यादा। तभी मैंने उसे कहा कि बस तुम मुझ पर विश्वास रखो तुम्हे कुछ नहीं होगा।

फिर धीरे से उसे एक किस करके में उसकी चूत चाटने लगा और वो पागल हो रही थी और ज़ोर ज़ोर से मोन कर रही थी आह्ह्ह ऊऊऊऊओ माँ मरी में खा जाओ ये तुम्हारी है खा जाओ इसे। फिर उसकी चूत बहुत ही रसीली थी। वर्जिन चूत वैसे भी बहुत पानी छोड़ती है। फिर में बहुत देर तक उसकी चूत चूसता रहा और एक हाथ से उसके बूब्स को दबाता रहा और फिर करीब 20 मिनट के बाद वो झड़ गई। फिर में उसका सारा पानी पी गया और मैंने उसकी चूत को चाट चाटकर चुदने के लिये तैयार कर दिया। तभी मैंने उसे मेरा लंड चूसने को कहा और उसने बिना रुके मेरे एक बार कहने पर ही मेरे लंड पर किस किया और वो उसे बड़ी मुश्किल से मुहं में लेकर चूसने लगी लेकिन अब भी लंड उसके मुहं से थोड़ा बाहर था क्योंकि लंड और मुहं का साईंज मेल नहीं खा रह रहा था।

फिर भी उसने जितना मुहं में आ सकता था उतना मुहं में लेकर लंड चूस चूसकर लाल कर दिया था। फिर में भी झड़ने के अंतिम छोर पर था तभी मैंने उसका सर पकड़ कर जोर जोर से धक्के देने शुरू किये। फिर करीब 10 मिनट बाद में भी झड़ गया और वो मेरा सारा वीर्य पी गई लेकिन उसका गोरा और सेक्सी बदन बड़े बड़े बूब्स चकनी चूत देखकर मेरा लंड शांत ही नहीं हो रहा था और होता भी कैसे? पहली बार नंगी लड़की जो सामने थी। फिर मैंने ऊपर से नीचें तक एक बार फिर से चूमा और उसे बेड पर लेटाया और फिर धीरे से उसके दोनों पैर चौड़े कर दिये। फिर मैंने उससे कहा कि क्या तुम तैयार हो? तभी उसने बोला कि हाँ अब डाल दो.. में तुम्हारी हूँ अब मत तड़पाओ मुझे। क्योंकि वो वर्जिन थी.. फिर मैंने मेरा लंड उसकी चूत पर घिसना शुरू किया..  उसकी चूत और गीली हो गई और वो ज़ोर ज़ोर से मोन कर रही थी आआहहहह माअअअआ मरी में जानू।

फिर बहुत देर तक घिसने के बाद मैंने मेरा लंड धीरे से एक धक्के के साथ थोड़ा अंदर डाला। तभी वो चिल्ला उठी.. फिर मैंने उसके गुलाबी होंठ मेरे होठों से दबा दिए। फिर वो कहने लगी प्लीज़ निकाल दो। तभी मैंने कहा कि रुक जाओ रानी अभी 10 मिनट में तुम खुद ही बाहर निकालने से मना करोगी। तभी मैंने एक और झटका लगाया और करीब आधा लंड अंदर डाल दिया लेकिन वो दर्द से चिल्ला उठी और उसकी चूत में से खून निकल आया। फिर मैंने उसे फिर से हग करके स्मूच किया.. उसने अपने बड़े बड़े नाखुनो से मेरी पूरी पीठ नोच डाली थी और में पूरा लाल हो चुका था और वो तो टमाटर हो गई थी। तभी उसके शरीर के हर एक हिस्से से पसीना बहने लगा.. वो ऊपर से नीचे तक पूरी लाल हो चुकी थी।

फिर मैंने उसके बूब्स पर धीरे से हाथ फेरा और करीब दो मिनट बाद मैंने अपना पूरा लंड उसकी वर्जिन चूत में जोर के धक्को के साथ उतार दिया। तभी वो अब तड़पने लगी… अह्ह्हआ मरी में फाड़ दी मेरी चूत तुमने अहह माँ मार डाला अह्ह्ह। फिर करीब 5 मिनट बाद मैंने लंड हिलाना शुरू किया और फिर वो भी थोड़ी देर बाद मेरा पूरा पूरा साथ देने लगी। फिर पूरे कमरे में फच फच की आवाजें आ रही थी और करीब 10 मिनट उसे लगातार चोदने के बाद वो एक बार फिर से झड़ गई और वो ज़ोर ज़ोर से मोन कर रही थी.. मेरी पीठ नोच रही थी और चिल्ला रही थी कि चोदो मुझे चोदो मुझे तेज और जोर से और अंदर पूरा अंदर आह्ह्ह्ह अहहमाँ जानू आज ये रानी तुम्हारी है.. जितना मर्ज़ी चोदो अह्ह्ह और ज़ोर से अया और फिर में भी मेरी ट्रेन अपनी सही पटरी पर लगातार चलाता रहा।

फिर उसे करीब 25 मिनट लगातार चोदने के बाद में भी उसकी चूत में ही झड़ गया और सारा वीर्य उसकी चूत में ही छोड़ दिया। फिर में उसके ऊपर ही पड़ा रहा अब हम दोनों इस पहली चुदाई से बहुत थक गये थे। फिर हम दोनों 10 मिनट तक ऐसे ही लेटे रहे फिर उसने मेरे लंड को चाट चाट कर साफ किया और मैंने उसकी चूत को। फिर हम दोनों एक साथ नहाए और अपनी पहली बार की चुदाई के कारण हम बहुत तक गए थे इसलिए हम दोनों बाहों में बाहें डालकर सो गए और शाम को जब नींद खुली तो हम दोनों नंगे बदन एक दूसरे से लिपटे पड़े थे। फिर मैंने उसे उठाया और किस किया वो खुश थी फिर वो मेरे ऊपर बैठी और मेरा लंड पकड़कर अपने मुहं में ले लिया और जोर जोर से चूसने लगी शायद उसकी इस पहली चुदाई ने उसे बहुत कुछ सिखा दिया था। फिर उसने लंड को चूस चूस कर एक बार फिर से चुदाई के लिये तैयार कर दिया था। फिर उसने मेरे ऊपर बैठे बैठे ही अपनी चूत में लंड ले लिया और मुझे चुदाई के लिये इशारा किया में उसका इशारा जल्दी ही समझ गया और फिर करीब 1 घंटे तक हम दोनों ने दोबारा सेक्स किया। फिर अबकी बार मैंने उसकी चूत को चोद चोदकर पूरा खोल दिया। फिर उन 3 दिनों में हमने जी भरकर सेक्स किया.. कभी उसकी चूत, तो कभी गांड मारी ।

Updated: December 1, 2014 — 8:03 am

1 Comment

Add a Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Meri Gandi Kahani - Desi Hindi sex stories © 2017 Frontier Theme
error: