ज़ोर ज़ोर से चोदो ना मुझे-2

antarvasna: अब आंटी टायलेट के फ्लोर पर बैठ गयी ओर पास पड़ा टायलेट साफ करने का ब्रश उठाया ओर अपनी प्यारी सी चूत मे डाल लिया ओर ज़ोर ज़ोर से अंदर बाहर करने लगी मुझे ये देख कर जोश चड रहा था मे अपना 7 इंच का लंड ओर ज़ोर से हिलाने लगा आंटी अब झड़ने वाली थी उनके मुँह से ज़ोर ज़ोर से आवाज़े आ रही थी अहाहाआ ऑश उउउ ईईइ अहहहहाअ ओर इसी के साथ उनकी चूत से पानी निकलने लगा अब मे भी झड़ने वाला था मे अपने रूम मे आया ओर एक पेपर नीचे लगाकर ज़ोर से अपना वीर्य निकाल दिया अब मेरी आंटी के लिये तड़प ओर बढ़ गयी ओर तब मुझे ये सपना साकार होता नज़र आया जब मेरे अंकल बीमार हो गये ओर उन्हे हॉस्पिटल मे एड्मिट कराया गया तब मेरी आंटी ने कहा की उन्हे अकेले सोने मे डर लगता है इसलिये मे उनके रूम मे सो जाऊं ये बात सुनकर मेरी ख़ुशी का ठिकाना नही रहा ओर मेने तुरंत हाँ कर दी अब मुझे रात का इंतजार था मेने रात के लिये सब कुछ डिसाइड कर लिया था रात को हम सब खाना ख़ाके सोने के लिये चले गये रूम मे एक ही बेड था मुझे जल्दी सोने की आदत नही है सो मैने लेपटॉप ओंन कर लिया रूम की लाइट जल रही थी.

तभी आंटी ने मुझसे कहा की तुम थोड़ी देर के लिये बाहर जाओ मे ज़रा चेंज कर लेती हूँ मे बाहर चला गया लेकिन मे उन्हे छुप कर देखने लगा उन्होने अपने कपड़े उतारे ग़ज़ब की बात ये थी की उन्होने नीचे कुछ नही पहना था लेकिन मेरे लिये ये बुरा वक़्त था उन्होने मुझे सामने वाले कांच मे से देख लिया था मे डर गया ओर बाहर जाने लगा थोड़ी देर बाद आंटी बाहर आई उन्होने ब्लू कलर की नाइटी पहनी हुई थी उसमे वो हिरोइन से भी सुन्दर लग रही थी उन्हे देखकर मैने नज़रे झुका ली तब वो मेरे पास आकर बेठी ओर मुझे समझाने लगी की मे तुम्हारी माँ जैसी हूँ उसे ऐसे काम नही करने चाहिये मैने उन्हे सॉरी बोला तब वो सोने के लिये चली गयी ओर मे उनके कंप्यूटर को चेक करने लगा.

मेरी उनको देख कर बैचेनी बढ़ रही थी मे खुद को रोक नही पा रहा था तो मैने नेट पर साइट खोली ओर सेक्सी कहनियाँ पढ़ने लगा मेरा लंड धीरे-धीरे खड़ा होने लगा दो तीन हॉट स्टोरी पढ़ने के बाद मैने अपना लंड बाहर निकाल लिया ओर मूठ मारने लगा अब मैने खड़े होकर लाइट बंद कर दी ओर मे जाकर आंटी के साथ मे बैठ गया मै एक हाथ से उनके बूब्स को मसलने लगा ओर दूसरे हाथ से अपना लंड हिलाता रहा थोड़ी देर बाद मेरा जोश बढ़ गया ओर मैने उनके बूब्स ज़ोर से दबा दिये उनकी चीख निकल गयी और वो उठ गयी मुझे इस हालत मे देखकर वो बहुत ही गुस्से मे आ गयी मुझे डाँटने लगी.
मैने उनकी एक ना सुनी ओर उन्हे बेड पर लेटा कर उनके उपर आ गया ओर उनके होठ पर अपने होठ रख दिये लेकिन वो तैयार नही थी ओर मुझे दूसरी तरफ धक्का दे कर उठ गयी.
आंटी : मे अभी तुम्हारे मम्मी पापा को बताती हूँ.
मे : अगर तुम उन्हे बताओगी तो मे भी तुम्हारा राज सबके सामने खोल दूँगा.
आंटी : कोंन सा राज.
मे : वही तुम्हारी अंकल के दोस्त के साथ चुदाई का राज़ अब आंटी के शॉक होने की बारी थी वो डर गयी ओर मेरे पास आकर बैठ गयी.
मे : मुझे तुम्हारी अंकल के दोस्त के साथ चुदाई का सब पता है तुम्हे इस राज़ को राज़ रखने के लिये मेरे साथ सेक्स करना होगा.
आंटी : नही तुम मेरे बेटे जैसे हो मे तुम्हारे साथ कैसे कर सकती हूँ.
मे : मे अब एक लड़का हूँ ओर तुम एक लड़की हो अब हमारे बीच कोई रिश्ता नही है अब आंटी चुप बैठी थी उनकी गर्दन नीचे थी.
मे समझ गया की अब वो मजबूर है मैने उनका हाथ पकड़ कर अपनी तरफ खीचा वो बिना कुछ बोले मेरे पास लेट गयी अब मैने उनके मुँह पर मुँह रखा ओर एक जोरदार स्मूच जड़ दिया मैने दोनो हाथ उसके दोनो बूब्स पर रख दिये ओर मसलने लगा हमारा किस 10 मिनिट चलता रहा अब वो भी गर्म होने लगी ओर मेरा नीचे से साथ देने लगी मैने अब उनकी नाइटी ब्रेस्ट से हटा दी मे उसके चूचे को इतनी पास से देखकर खुद को रोक नही पाया ओर लेफ्ट बूब्स को मुँह मे दबाने लगा बूब्स बड़ा था वो आधा ही मेरे मुँह मे आ रहा था अब मेरी आंटी के मुँह से आवाज़े आनी शुरू हो गयी अहहहहाहहा वो मेरा पूरा साथ देने लगी उसने अपने दोनो हाथो से अपने चूचे को मेरे मुँह मे धकेलने लगी अब मे इतना सहन नही कर सका क्योंकी मेरा पहली बार किसी लेडी के साथ ये एक्सपीरियन्स था ओर मे झड़ने लगा आहह आहह आंटी मे गया आहहह इसी के साथ मेरा वीर्य आंटी के बूब्स पर गिर गया मैने कपड़े से उसे साफ किया अब थोड़ी देर के लिये में फ्री हो गया लेकिन आंटी एक्सपीरियन्स्ड थी उन्होने मुझे नीचे लेटाया ओर मेरे उपर चड गयी जैसे कोई घोड़े पर सवारी के लिये चड़ता है.

Updated: October 6, 2019 — 11:29 pm
Meri Gandi Kahani - Desi Hindi sex stories © 2017 Frontier Theme
error: