कुंवारी चूत का मजा ही कुछ और है

desi porn kahani हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम राज है, में बॉडी बिल्डिंग इन्स्ट्रेक्टर हूँ, में कामुकता डॉट कॉम की सभी स्टोरियाँ पढ़ चुका हूँ। मेरी यह कहानी भी काफ़ी इंट्रेस्टिंग है और में वादा करता हूँ कि इसमें कोई मसाला एड नहीं होगा। मेरी हाईट 5 फुट 11 इंच है और मेरा लंड का साईज़ एक नॉर्मल साईज़ है, मेरी उम्र 24 साल है, लेकिन मेरी यह स्टोरी है तब की है जब में 19 साल का था। मैंने कभी किसी लड़की को पटाया नहीं था, मेरे स्कूल में लड़कियाँ मेरे साथ बैठती थी और अपनी टाँगो को मेरे लंड के ऊपर रखती थी। लेकिन एक दिन मेरे अंदर भी एक सेक्स की भूख जागी, जब मेरे पास करिज़्मा बाइक थी। अब में रोज़ अपनी कॉलोनी में एंटर होता, तो मेरे पड़ोस की एक 18 साल की लड़की बाहर आ जाती थी, अब रोज़ ऐसा चलता रहा।

फिर एक दिन उसने मुझे छत पर आने के लिए कहा तो में जब छत पर गया, तो उसने अपना मोबाईल नंबर फैंका और हमारी फोन पर बात हुई। अब में आपको उस लड़की के बारे में बता दूँ उस लड़की की हाईट लगभग 5 फुट 4 इंच होगी और वो दिखने में गोरी थी, उसके बूब्स काफ़ी मिल्की थे और वो जब भी नीचे आती थी, तो मेरा लंड जरुर खड़ा करती थी। फिर एक दिन उसने मुझे मिलने के लिए बुलाया, अब हम दोनों ही नये खिलाड़ी थे तो हम किसी रेस्टोरेंट में गये और वहाँ से खाने का मँगवाया। वो स्कूल से सीधे मुझसे मिलने आई थी तो उसने स्कर्ट पहनी थी। तभी मेरा हाथ उसके बूब्स पर गया और मैंने उसकी स्कर्ट के बटन खोले और मैंने उसके बूब्स को मसलना शुरू कर दिया। अब वो मेरे हाथ को रोकने लगी थी, तभी उसने अपना हाथ मेरे लंड के ऊपर रखा और मेरी पेंट का बटन खोलने की कोशिश की, लेकिन उससे बटन नहीं खुला। अब उसका इरादा राज से चुदाई का था और वो भी अपनी पहली चुदाई का, लेकिन फिर वहाँ कुछ और लोग आ गये और हमें वहाँ से जाना पड़ा।

अब दो दिन तक में उसके मोटे बूब्स की याद में मुठ मारता रहा। फिर एक दिन मेरे घर पर कोई नहीं था तो मैंने उससे आने को कहा तो वो आधे घंटे के लिए मेरे घर आई। अब में उसके टाईट सूट में से उसकी गांड के अंदर अपने लंड को सहलाता रहा। तो तभी उसने कहा कि राज सक मी बूब्स तो मैंने फ्रिज से दूध लिया और उसकी कुर्ती में डालने लगा, तो वो मना करने लगी। फिर थोड़ी देर के बाद मैंने उसकी कुर्ती में अपना हाथ डाला, तो अब उसके बड़े-बड़े बूब्स मेरे हाथ में नहीं आ रहे थे तो मैंने झट से उसकी कुर्ती ही फाड़ दी और उसके बूब्स को उसमें से बाहर निकाल दिया। अब में उसकी ब्रा के ऊपर से ही उन्हें मसलता रहा और फिर उसकी ब्रा भी उतार दी। अब में उसकी पिंक टाईट चूचीयों को देखकर चूसने लगा और उसे ऊपर से पूरा नंगा कर दिया।

फिर तभी उसने मेरी जीन्स की चैन खोली और उसमें से मेरा गोरा लंड बाहर निकाला। अब उसे खड़ा और इतना टाईट देखकर उसने मेरा लंड अपने मुँह में लेकर चूसना शुरू कर दिया और उसे ऐसे चाटा जैसे कि मेरे लंड का पूरा दर्द ख़त्म हो चुका हो। मुझे ऐसी फिलिंग कभी नहीं आई थी, क्योंकि हम दोनों का पहली बार था। फिर तभी उसे घर जाने का होश आया तो उसने अपनी मम्मी को कॉल किया और बोली कि वो 1 घंटे के लिए अपनी फ्रेंड के घर जा रही है। अब जब वो फोन पर बात कर रही थी तो मैंने उसकी सलवार उतार दी और उसकी जांघो, चूत के ऊपर दूध लगाया और उसकी पेंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को चाटने लगा। अब वो खुद पर कंट्रोल नहीं कर पा रही थी और अपने बूब्स को मसल रही थी और अपनी चूचीयों को दबा रही थी और बोल रही थी कि राज यह क्या कर रहे हो? अब मैंने उसके सामने ब्लू फिल्म चला दी थी। तभी मैंने फिर से उसका दूध पिया और पीता रहा, अब उसकी चूत गर्म हो चुकी थी और वो अपना पानी छोड़ने लगी थी।

फिर मैंने उसे साफ किया और उसकी चूत में दूध डाला और उसकी चूत के साथ खेलने लगा। तभी वो अपनी टांगे खोलने लगी और मैंने अपने लंड को उसकी चूत से सहलाया और थोड़ा तेल लगाया। तभी मैंने सोचा कि आज तो अंदर डाल ही दूँ और वो लड़की भी तैयार थी, ऐसा लगता था उसे एक्सपीरियन्स है। लेकिन जब मैंने उसकी चूत में अपना लंड डाला तो इतनी टाईट चूत पूछो मत, बस अब तो वो रोने लगी और बोलने लगी कि राज बाहर निकाल लो। तो मैंने अपना लंड बाहर नहीं निकाला, तभी वो अपने हाथों से मुझे रोकने लगी और में रुक गया। अब मुझे भी काफ़ी दर्द सा हो रहा था और उस दर्द के कारण में भी रुक गया। तभी मैंने देखा कि मेरे लंड की टोपी उतरकर नीचे आ गयी थी और उसे देखकर मैंने सोचा कि आज तो तू गयी। फिर उसने कहा कि राज मेरे हाथों को पकड़ लो, तो मैंने उसके दोनों हाथों को बांध दिया और फिर अपने लंड को उसके मुँह में डाल दिया और उसके मुँह को चोदता रहा।

फिर कुछ देर के बाद मैंने मेरा लंड उसकी चूत में दुबारा डाल दिया। अब उसे इतनी तड़प लगने लग गयी थी कि उसका पानी निकल गया, लेकिन में फिर भी लगा रहा। अब उसने अपने हाथ से अपनी चूत को मसलना शुरू कर दिया था। अभी तक मेरा लंड उसकी चूत के अंदर ही था और फिर अचानक से में स्टॉप हो गया, अब में उसी पोज़िशन में उसकी चूचीयों पर मिल्क क्रीम लगाकर खाने लगा। अब उसके बूब्स पर बहुत निशान पड़ गये थे क्योंकि उसके बूब्स बहुत सॉफ्ट थे जैसे मानो कोई रुई हो, अभी तक मेरा लंड उसकी चूत में ही था। फिर वो मेरे ऊपर आई, लेकिन तब कुछ ढंग से नहीं हो पाया तो फिर मैंने उसे घोड़ी बनाया और उसकी टाँगो को मेरे कंधो पर रखकर उसे चोदता रहा। अब ऐसा कई बार हुआ फिर उसके बाद शेर के मुँह खून लग चुका था ।।

Updated: October 30, 2018 — 11:35 pm
Meri Gandi Kahani - Desi Hindi sex stories © 2017 Frontier Theme
error: