मस्त चूत की चुदाई का मजा

desi sex stories हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम विवेक है, में चंडीगढ़ का रहने वाला हूँ, मेरी यह पहली स्टोरी है। मेरी यह स्टोरी बिल्कुल रियल है, में आशा करता हूँ कि आपको मेरी यह स्टोरी बहुत पसंद आएगी। अब में आपको मेरे बारे में बता दूँ, मैंने अपनी ग्रेजुयेशन बीएससी हॉस्पिटलिटी में कंप्लीट की है, में सामान्य दिखता हूँ, मेरा रंग गोरा है और मैंने अपने लंड का साईज़ कभी नापा नहीं है, बस इतना है कि मेरा लंड किसी को भी संतुष्ट कर दे। तो अब में सीधा मेरी स्टोरी पर आता हूँ, ये स्टोरी एक महीने पहले की है मैंने अपनी ग्रेजुयशन कंप्लीट की और अब जॉब की तलाश में हूँ। उसी बीच मेरे पड़ोस में मेरा दोस्त रहता है, वो उम्र में मुझसे बड़ा है और जॉब करता है। उसकी फेमिली में उसकी माँ और एक बहन है, उसकी बहन का नाम डिम्पी है, उम्र 28 साल, फिगर साईज़ 34-30-34 है, रंग गोरा, जब वो चलती है तो सब उसकी गांड को देखते है, उसकी गांड को एक बार कोई भी देख ले तो उसका दिल उस पर आ जाए। मेरा उनके घर बहुत आना जाना था, मेरी डिम्पी से अच्छी बनती थी तो एक दिन हम फ़ेसबुक पर बात कर रहे थे। तो उसने मुझसे पूछा कि तेरी गर्लफ्रेंड का क्या हाल है? तो मैंने मना कर दिया कि मेरे कोई गर्लफ्रेंड नहीं है, तो उसने कहा कि।

डिम्पी : इतना सुंदर है कोई तो होगी, मुझसे क्यों छुपा रहा है?

में : अगर कोई होगी तो बता दूँगा, मुझे मेरे पसंद की अभी तक कोई नहीं मिली।

डिम्पी : तुझे कैसी लड़की चाहिए? में तेरे लिए ढूंढ दूँगी।

में : मुझको तो आप जैसी लड़की चाहिए केरिंग हो, ब्यूटिफुल हो, ड्रेसिंग सेन्स अच्छा हो।

डिम्पी : अच्छा, में तुझे अच्छी लगती हूँ।

में : हाँ तुम मुझे बहुत अच्छी लगती हो।

डिम्पी : तो वो बोली कि ये ग़लत है में तेरे दोस्त की बहन हूँ।

में : मैंने कौन सा ग़लत कहा है, में कौन सा कुछ कर रहा हूँ जो दिल में था, बस वो बोल दिया।

डिम्पी : आज तो तूने ये कह दिया, लेकिन आज के बाद मत कहना।

फिर मैंने उससे कुछ दिन बात नहीं की। फिर एक दिन में पार्क में बैठा हुआ था, तो वो मेरे पास आई और यू ही बातें करने लगी।

डिम्पी : तुम मुझसे नाराज़ हो क्या?

में : नहीं। (अपनी शक्ल दूसरी साईड करके)

डिम्पी : तो इतने दिन से बात क्यों नहीं की?

में : मुझे लगा तुम गुस्सा होगी।

डिम्पी : नहीं में गुस्सा नहीं हूँ में भी तुम्हें पसंद करती हूँ, लेकिन घरवालों की वजह से तुम्हें नहीं बताती हूँ, तो मैंने मौका ना गवाते हुए कहा।

में : आई लव यू डिम्पी।

तो वो अपना सिर नीचे करके स्माइल पास करने लगी और जाने लगी, तो मैंने उसे रोक लिया और बोला कि जवाब तो दो।

डिम्पी : मेरा जवाब भी यही है।

अब में तो सातवें आसमान पर पहुँच गया था। फिर वो जाने लगी और बोली कि में रात को तुम्हें फोन करूँगी। फिर रात को 12 बजे उसका फोन आया और मैंने उसे आई लव यू बोला, तो वो बोली कि आई लव यू टू।

में : मुआआह।

डिम्पी : मुआआह।

में : यार मिल लो कही बाहर चलते है।

डिम्पी : ठीक है, कल 11 बजे मार्केट से मुझको पिक कर लेना।

में : ओके लव यू।

फिर अगले दिन में उसे अपनी बाइक पर पिक करने गया, वो सूट में बहुत सेक्सी लग रही थी। फिर हम थिएटर में चले गए, वहाँ पर हमने वेलकम बैक मूवी देखी। फिर वहाँ मैंने उसे किस की और उसे बहुत गर्म कर दिया, तो वो बोली कि चलो कहीं और चलते है यहाँ कोई देख लेगा। तो फिर हम वहाँ से निकले, फिर में उसे 51 सेक्टर में अपने फ्रेंड के फ्लेट पर ले आया। मेरा फ्रेंड अब दिल्ली चला गया था और वो फ्लेट पूरा खाली था और मेरे पास उसकी चाबी भी थी। फिर हम अंदर गए और मैंने डोर लॉक किया और फिर मैंने उसे हग करके किस करना शुरू कर दिया। तो अब वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी, फिर में उसे बेडरूम में ले गया, फिर मैंने वहाँ उसका सूट उतारा, तो उसने नीचे रेड ब्रा और पेंटी पहनी थी। फिर वो मेरे कपड़े उतारने लगी, अब में पूरा नंगा हो गया था, अब में उसके बूब्स को दबा रहा था और वो मेरे लंड पर अपना हाथ फैर रही थी।

फिर मैंने उसकी ब्रा खोल दी और उसके बूब्स को सक करने लगा। फिर 10 मिनट के बाद वो भूखी शेरनी की तरह मेरा लंड चूसने लगी। फिर मैंने उसकी पेंटी उतारी और हम 69 पोज़िशन में आ गए और फिर मैंने उसकी चूत को चूसा, तो वो बिल्कुल पागल हो गई थी। अब हम 15 मिनट तक ऐसे ही रहे थे। फिर वो बोलने लगी कि अब ज्यादा देर ना करो मुझे चोदो। फिर मैंने उसकी चूत पर अपना लंड रखा और अपने लंड को उसकी चूत के ऊपर रगड़ने लगा, तो वो पागल हो गई और बोलने लगी कि डाल दो अंदर अब मत तड़पाओ। तो फिर मैंने एक धक्का दिया और मेरा लंड आधा उसकी चूत के अंदर चला गया, वो पहले भी चुदी हुई थी और उसकी चूत खुली हुई थी। तो मैंने एक और धक्का मारा तो मेरा पूरा लंड उसकी चूत के अंदर चला गया और वो मौन करने लगी। फिर में जोर-जोर से धक्के देने लगा, फिर थोड़ी देर के बाद मैंने अपनी पोज़िशन चेंज की और उसे अपने ऊपर लेकर आया। तो अब वो मेरे ऊपर उछल रही थी और में उसके बूब्स चूसे जा रहा था।

अब जब वो उछलती तो उसके बूब्स ऊपर नीचे होते हुए बड़े मस्त लग रहे थे। फिर मैंने उसे डॉगी स्टाइल में चोदा, तब तक वो एक बार झड़ चुकी थी। फिर मैंने अपनी स्पीड तेज़ की और ज़ोर-ज़ोर धक्के लगाने लगा और साथ में उसकी गांड पर जोर-जोर से थप्पड़ लगाने लगा, जिससे उसकी गांड लाल हो गई थी। फिर मैंने अपना लंड बाहर निकाला और उसके बूब्स पर अपना वीर्य छोड़ दिया, फिर में उसके साथ लेट गया। फिर हम बाथरूम में जा कर फ्रेश हुए, अब हम फिर से गर्म हो गए थे, तो अब मुझे उसकी गांड दिख रही थी। तो मैंने उससे कहा कि में तेरी गांड मारना चाहता हूँ, तो वो बोली कि मार लो अब से में तुम्हारी हूँ जो करना है कर लो। फिर हम बेडरूम में आए और फिर मैंने उसकी गांड में मेरा लंड डाला, तो मेरा लंड पूरा उसकी गांड के अंदर चला गया। तो मैंने उससे बोला कि साली तू पहले भी अपनी गांड मरवा चुकी है, आज में इसे फाड़ दूँगा।

फिर मैंने उसकी गांड मारी और उसकी गांड में अपना माल छोड़ दिया। फिर हमने सब साफ करके अपने-अपने कपड़े पहने और फिर मैंने उसे उसके घर ड्रॉप किया। फिर रात को उसका मैसेज आया कि आज की चुदाई मेरी सबसे बेस्ट चुदाई थी, उसके बाद भी जब हमें मौका मिलता है तो में उसे चोदता रहता हूँ ।।

Updated: October 30, 2018 — 10:46 pm
Meri Gandi Kahani - Desi Hindi sex stories © 2017 Frontier Theme
error: