मेरी बहन मेरी गर्लफ्रेंड-4

desi porn kahani अब इस समय वो पक्की रंडी की तरह हरकतें कर रही थी. फिर में भी उसके बेड पर जाकर बैठ गया और उसके पैरों को अपने हाथों में लेकर सहलाते हुए उसे कामुक नजरों से देखने लगा. अब उसकी जी-स्ट्रिंग की पट्टी उसकी कचोरी की तरह फूली हुई चूत में धसी हुई थी, जिस वजह से मुझे उसकी चूत की फांके साफ-साफ़ दिखाई पड़ रही थी और उसमें से उसकी चिकनी, बिना बालों वाली चूत का गुलाबी हिस्सा साफ-साफ झलक रहा था.

अब तो मेरा 1-2 पल बिताना भारी होता जा रहा था, तो तभी उसने झटके से मुझे अपनी तरफ खींचा और मेरे होंठो को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी और अपनी जीभ को मेरे मुँह में घुमाने लगी थी. अब में भी उसकी इस हरकत से जोश में आ गया और उसे पकड़कर उसकी ब्रा को निकाल फेंका. अब उसके मांसल स्तन उसकी ब्रा से बाहर आते ही उसके सीने पर ऐसे तने हुए थे मानों कि किसी सुंदर मीनार के ऊपर डोम बने हो और उन पर तीखी-तीखी गुलाबी निपल्स ग़ज़ब ढा रही थी.

फिर मैंने जैसे ही उसके स्तनों को अपने हाथों के पंजो में लेकर दबाया, तो वो अपनी आँखें बंद करके चीख पड़ी. फिर मैंने उसके कड़क निपल्स को जैसे ही अपने मुँह में लेकर चूसना शुरू किया तो वो पलटकर मेरे लंड को टावल में से बाहर निकालकर अपने मुँह में लेकर चूसने लगी. फिर मैंने अपने एक हाथ की उंगलियाँ उसकी चूत में जैसे ही घुसाई, तो वो चीख पड़ी और मेरी उंगलियाँ उसके मादक रस से भीग गयी. फिर मैंने तत्काल उसकी पेंटी निकाल फेंकी और उसकी चूत को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा. अब इस समय हम दोनों 69 की पोज़िशन में थे और अब मेरे द्वारा उसे लगातार चूसने से वो चीखते हुए झड़ गयी और में उसके मादक रस को पूरा पी गया. अब वो थक चुकी थी, लेकिन अब वो मेरे लंड को अपने मुँह से बाहर निकालना नहीं चाहती थी.

अब मेरे लंड को उसने पूरी तरह से अपने थूक से गीला कर रखा था और उसे अपने गले की गहराई तक ले-लेकर चूस रही थी. फिर तभी अचानक से में भी जोश में आ गया और मैंने उसे अपने लंड को मुँह से बाहर करने को बोला, तो वो नहीं मानी और उसने मेरे लंड को अपने मुँह में ही झड़ने दिया.

अब इतने जोश में होने के कारण बहुत सारा वीर्य उसके मुँह और छाती पर फैल गया था, जिसकी उसने अपने सीने पर मालिश कर ली थी. अब में भी थककर लेट गया था, लेकिन उसने मेरे लंड को सहलाना चालू रखा. फिर मैंने धीरे से उससे पूछा कि यह सब कहाँ से सीखा? तो वो बोली कि मेरी सभी सहेलियाँ किसी ना किसी मर्द से संबंध रखकर मज़े मारती है, वो सालियाँ कोई अपने भाई, बाप, रिश्तेदारो, बॉयफ्रेंड या फिर ड्राईवर, घरेलू नौकर किसी से भी मज़े लूटती है और एक में हूँ जो सालों से तड़प रही हूँ और यह सब तो मैंने अपनी सहेलियों के साथ ब्लू फिल्म देखकर ही सीखा है, साली वो विदेशी लड़कियाँ कैसे अपनी चूत और गांड में लंड लेकर तीसरा मुँह में लिए चूसती रहती है? और एक फिल्म में तो एक चूत में दो-दो लंड घुसते दिखाया गया था.

अब उसकी इस तरह बेबाक बातचीत से मेरा लंड फिर से गर्मा गया था और वो भी यह बात समझ गयी और उसने तत्काल मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर चूसना शुरू कर दिया. फिर जब मैंने कहा कि तू मुझ पर इतनी मेहरबान क्यों हुई? तो वो बोली कि इसके भी दो कारण है पहला तो यह कि बाहर मुँह मारकर काला मुँह करने से अच्छा तो अपने भाई से मज़े लेना ज़्यादा अच्छा है, ना बीमारी लगे ना किसी से मुँह छुपाना पड़े. फिर तभी मैंने पूछा कि दूसरा कारण क्या है?

वो बोली कि वो और बड़ा कारण है, क्योंकि मम्मी भी तुझ पर अपनी निगाहें जमाए हुए है और में जब भी मम्मी के साथ किटी पार्टी में जाती हूँ, तो मम्मी की सभी सहेलियाँ बस एक यही चुदाई की बातें करती है, वो सभी रंडियां किसी ना किसी से मरवाती है इसलिए मम्मी की भी इच्छा बहुत होती है, लेकिन वो घर से बाहर किसी पराए मर्द के साथ संबंध रखने से बचना चाहती है और अब मुझे यह समझ आ चुका था कि वो तेरे ऊपर डोरे डालने लगी है, तभी तो आजकल वो तेरे सामने ज़्यादा से ज़्यादा खुद को दिखाती है.

फिर मैंने भी मौके की नज़ाकत को भापकर तुझे पहले सेट कर लिया, क्योंकि यदि मम्मी मुझसे पहले तुझे सेट कर लेती, तो तू मेरी और इतनी जल्दी ध्यान नहीं देता.

फिर मैंने कहा कि मान गया बहना तेरी राजनीति को, लेकिन हमारे पास कोई कंडोम या बचाव का साधन तो है ही नहीं. फिर वो बोली कि तू चिंता मतकर मैंने पहले से ही गोली खाना शुरू कर दिया है. तब मैंने आश्चर्य से कहा कि मानों तेरी दाल नहीं ग़लती तो तू क्या करती? तो वो बोली कि साला ऐसा हुस्न देखकर तो 70 साल के बूढ़े का भी लंड खड़ा हो जाए, फिर तू तो जवान मर्द है और ऊपर से जिस तरह तू मम्मी के ब्लाउज में अपनी आँखें गाढ़ता था, उससे ही में समझ गयी थी कि तुझे तो में पूरा ही निगल जाउंगी.

फिर उसकी ऐसी बातें सुनकर मैंने तत्काल अपना लपलपाता हुआ लंड उसकी चूत में पेल दिया, तो पहले तो वो थोड़ी बिलबिलाई, तड़पी, लेकिन दूसरे झटके में तो पूरा लंड अंदर डलवाकर ज़ोर-जोर से मचलने लगी.

अब उसकी आवाज सुनकर मैंने अपने धक्को की स्पीड और तेज़ कर दी थी. फिर लगभग आधे घंटे के बाद हम दोनों साथ-साथ ही झड़ गये और वैसे ही नंगे सो गये. फिर सुबह लगभग 5 बजे मेरी बहन ने फिर से मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर चूसना शुरू कर दिया, तो मैंने उसे पकड़कर फिर से एक जोरदार राउंड लगा दिया.

उसके पैरो में आई मोच तो साधारण ही थी, जो कि अगले दिन ठीक हो चुकी थी. अब अगले दो दिनों के बाद उसके कॉलेज में फैशन शो था, तो वहाँ उसने मुझे अपना फोटोग्राफर बताकर एंट्री करवा दी. वो गर्ल्स कॉलेज होने के कारण वहाँ नाम मात्र के ही जेंट्*स थे, फिर वहाँ उसके द्वारा डिज़ाइन किए हुए कपड़ो को सबसे ज़्यादा पसंद किया गया, क्योंकि वो लुक से हटकर मॉडर्न और कम बजट वाले थे. फिर जब वो उन्हें पहनकर रेम्प पर आई तो माहौल गर्मा गया, अब सभी लड़कियाँ ज़ोर-जोर से सिटी बजाने लगी थी और फास्ट म्यूज़िक कि आवाज पर सभी लड़कियाँ नाचने लगी थी.

अब यह सभी लड़कियाँ जब कॉलेज आई थी, तो तब वो अलग कपड़ो में थी, लेकिन शो शुरू होने तक सभी ने मॉडर्न ड्रेस पहन ली थी. फिर मैंने भी अपने नये डिजिटल कैमरे से उन सभी की खूब फोटो खींची. फिर इस प्रोग्राम में मेरी बहन को ड्रेस डिज़ाइनिंग और फैशन शो दोनों में ही फर्स्ट अवॉर्ड मिला और फिर जब मम्मी वापस आई तो तब वो यह सब सुनकर बहुत खुश हुई, लेकिन अभी वो हम दोनों भाई बहनों के बीच के संबंध के बारे में कुछ नहीं जानती है.

Updated: June 20, 2018 — 11:24 pm
Meri Gandi Kahani - Desi Hindi sex stories © 2017 Frontier Theme
error: