मेरी फ़ेसबुक फ्रेंड कनिष्का-1

desi kahani: हाय फ्रेंड्स में वैभव गाज़ियाबाद से फिर से एक न्यू स्टोरी लेकर आया हूँ. आप लोगो ने मेरी पुरानी स्टोरी को पढ़ा इसके लिये थैंक्स. तो में अपने नये रिडर्स को अपना परिचय दे देता हूँ में 23 साल का लड़का हूँ. मेरी हाइट 5.9 है वजन 65 किलो है भरा पूरा शरीर, कलर गोरा. में सेल्स ऑफीसर हूँ. तो बिना लेट हुये अपनी स्टोरी पर आता हूँ.

यह स्टोरी मेरी फ़ेसबुक फ्रेंड कनिष्का फ्रॉम सहारनपुर (नाम चेंज) उम्र 19, हाइट 5’5 वजन 70 किलो हे और उसका फेसकट बहुत अच्छा है, और उसके बड़े बड़े बूब्स 40 की साइज के होगे. यह बात पिछले 1 साल पहले की है. में उससे फेसबुक पर चेटिंग करता था. वो मेरी सबसे अच्छी दोस्त है. लेकिन वो अभी अभी जवान हुई थी तो उस पर जवानी का नशा चढ़ा था. में सिर्फ उससे ही बात किया करता था.

 

एक बार मे किसी काम की वजह से उससे कुछ दिनो तक चेट नही कर पाया. तो वो गुस्सा करने लगी फिर मेने उसे समझाया की काम में बिज़ी था इसलिये बात नही कर सका. तो उसने मुझसे मेरा कॉन्टेक्ट नम्बर माँगा तो मेने दे दिया. उसके बाद वो मुझे फ़ोन करने लगी ओर हमारी फोन पर भी बाते होने लगी. कुछ टाइम नॉर्मल बात होने के बाद उसने मुझे प्रपोज कर दिया तो मेने भी एक्सेप्ट कर लिया. फिर फोन पर हम घंटो बाते करते कुछ टाइम के बाद वो मुझे डबल मीनिंग मेसेज भेजने लगी. ओर इस तरह हम फोन पर सेक्स की बाते करने लगे. एक बार मेने उससे मिलने को कहा तो में सहारनपुर चला गया. 

फिर हम मिले ओर हमने मूवी देखने का प्लान बनाया. मूवी में जैसे ही रोमान्टिक सीन आया मेने धीरे से उसका हाथ पकड़ा ओर सहलाने लगा. जब उसने कुछ नही कहा तो मेने अपना हाथ उसके बूब्स पर रख दिया क्या फीलिंग थी यार मस्त मोटे मोटे बूब्स थे उसके. मेने धीरे धीरे बूब्स पर हाथ फेरना स्टार्ट कर दिया. जिससे वो गर्म होने लगी ओर सिसकारियां लेने लगी उम्म्म्म हह. मेने अपना हाथ उसकी टी-शर्ट मे डाल कर उसके बूब्स दबा रहा था. 

फिर मेने अपने होंठ उसके कापते हुये होंठो पर रख दिये क्या रसीले होंठ थे उसके. मेने उसका हाथ पकड़ कर अपने लंड पर रख दिया जो इस समय मेरी पेन्ट को फाड़ कर बाहर निकलने की कोशिश कर रहा था. मूवी ख़त्म होने के बाद मेने उसे एक किस की ओर वापस आ गया पर उसकी प्यास भड़क चुकी थी ओर वो उसे शांत करना चाहती थी. फिर से हमारा फोन सेक्स शुरू हो गया अब में उसे चोदने के लिये मनाने की कोशिश करने लगा. लेकिन कही पर भी जगह नही थी उसे चोदने की क्योकि वो यहा नही आ सकती थी ओर उसकी फेमिली वालो की वजह से में उसके घर नही जा सकता था. तो फिर एक दिन उसके ऊपर रहने वाली लड़की ने यह बात सुन ली ओर उसके पेरेंट्स को एक शादी में जाना पड़ा वो अपनी परीक्षा की वजह से नही जा सकी. तो जैसे ही उसने मुझे बताया मेने उसके घर जाने का प्लान बना लिया, उसने भी हाँ कह दिया क्योकि वो भी मुझसे चुदना चाहती थी. 

में शाम को 7 बजे उसके घर पहुच गया ओर रास्ते से मेने आते हुये एक वोट्का की बोतल ले ली. फिर में जैसे ही घर में अन्दर गया मेने उसे अपनी बाहो मे ले लिया ओर किस करने लगा 10 मिनिट तक किस करने के बाद मेने उसे छोड़ा तो वो हाफ़ रही थी. फिर हम अलग हुये मेने उसे ग्लास ओर पानी लाने को कहा तो वो लेकर आ गयी अब मेने जैसे ही बोतल खोली वो कहने लगी मेने कभी नही पी तो में नहीं पीउंगी तो मेने उसे बड़ी मुश्किल से समझाया तो वो मान गयी. अब हमने पीना शुरू कर दिया, 2 पेग लेने के बाद उसे काफ़ी नशा हो गया था तो मेने अपना एक पेक ओर लेकर बोतल बंद कर दी.  

अब वो पूरे नशे मे थी तो मेने म्यूज़िक चला दिया ओर उसे मेरे साथ डांस करने के लिये बोला. नशे में उससे डांस भी नही हो रहा था तो वो मेरी बाहो मे झूलने लगी मे भी उसकी कमर से हाथ फेरता हुआ उसकी मस्त गोल गोल गांड पर हाथ रख कर धीरे धीरे दबा रहा था अब नशे के साथ साथ उसे मस्ती भी चड़ने लगी थी. फिर मेने उसे बेड पर लेटा दिया ओर रज़ाई डाल ली सर्दी चल रही थी ना. अब मेने उसे किस करना स्टार्ट कर दिया. कभी कान पर गर्दन पर ओर फिर स्मूच करने लगा धीरे से मेने अपना हाथ उसके बूब्स पर रख कर दबाने लगा फिर मेने धीरे धीरे अपने हाथ उसकी टी-शर्ट मे अंदर डाल कर उसके बूब्स दबाने लगा वो मस्त होने लगी जिससे वो अपनी आँखे बंद करके ह्म्‍म्म्मम आआआ कर रही थी. 

फिर मेने उसकी टी-शर्ट को निकाल दिया माई गॉड क्या बूब्स थे उसके मोटे गोल शेप मे ओर बीच मे पिंक निपल. मे उन्हे देख कर पागल हो गया ओर अपने मुँह मे भर कर चूसने लगा. वो मस्त हुये जा रही थी मे एक हाथ से उसके लेफ्ट बूब्स को दबा रहा था ओर राइट बूब्स को मुँह मे ले कर चूस रहा था. फिर मेने अपना हाथ उसके पजामे मे डाल दिया ओर उसकी चूत पर रख दिया उसकी चूत पूरी भीग चुकी थी. पजामा टाइट होने की वजह से मेरा हाथ उसकी चूत पर सही से नही था तो मेने उसे पजामा उतारने को कहा तो उसने पजामा ओर पेंटी एक साथ उतार दिये. अब उसकी चूत मेरे सामने थी. क्या मस्त चूत थी फूली हुई ओर उसके दोनो किनारे आपस मे ऐसे चिपके हुये थे जैसे कभी अलग नही होंगे.  

मे चूत को धीरे धीरे सहलाने लगा तो वो मचल उठी. मेने चूत के होंठ खोलकर देखा तो मे चोंक गया वो एकदम टाइट ओर लाल रंग की थी. तो मेने पूछा की तुमने इससे पहले सेक्स किया है तो उसने मना कर दिया. दोस्तो वो बिना चुदी थी, ये सुन कर में बड़ा खुश हुआ की बड़े दिनो बाद सील तोड़ने को मिल रही है. अब मुझसे ओर नही रहा जा रहा था मेने अपने कपड़े निकाल दिये ओर उसका हाथ अपने खड़े लंड पर रख दिया. ओर झुक कर उसकी चूत पर अपना मुँह रख दिया, जैसे ही मेने उसकी चूत पर अपनी जीभ लगाई वो तुरन्त उठी ओर मेरा लंड कस के पकड़ के हिलाने लगी. 

Updated: August 6, 2019 — 9:10 pm
Meri Gandi Kahani - Desi Hindi sex stories © 2017 Frontier Theme
error: