पुणे में अपनी कॉलेज दोस्त की ठुकाई

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम जीवन है और में एक बार फिर से आप सभी को अपना एक सेक्स अनुभव बताने जा रहा हूँ, जिसको पढ़कर आप सभी को बहुत मज़ा आएगा. दोस्तों यह करीब एक साल पहले की बात है जब मैंने पुणे में एक बहुत अच्छे कॉलेज में अपना एडमिशन ले लिया था.

तब मैंने पहली बार जाकर देखा कि मेरी क्लास में एक बहुत मस्त लड़की थी, जिसको देखकर में उसकी तरफ पूरी तरह से आकर्षित हो चुका था, क्योंकि दोस्तों वो दिखने में एकदम मस्त सेक्सी माल थी, उसकी हाईट 5.3, लम्बे काले बाल, काली आखें, वो एकदम गोरी, उसके गुलाबी रसीले होंठ, उसकी वो पतली कमर और उसके बूब्स तो एकदम उभरे हुए थे, जिनको देखकर मेरा मन करता कि अभी पकड़कर उनको चूस लूँ और अपनी प्यास बुझा लूँ, वो बहुत सुंदर थी और उसका नाम मनीषा था.

दोस्तों मेरे कॉलेज के सभी लड़के उस पर लाईन मारा करते थे, लेकिन में तो उस समय थोड़ा सा शर्मीले स्वभाव का था, इसलिए में बिल्कुल चुप रहता था, लेकिन में अपनी चोर नजर से हमेशा बस उसी को देखा करता था और हमारे कॉलेज के पहले सेमेस्टर तक कुछ ही महीनों में हमारी एक दूसरे से बहुत अच्छी जान पहचान और उसके बाद बहुत अच्छी दोस्ती भी हो गई थी.

हम अब एक दूसरे से हर एक बात करने लगे थे और हम दोनों के बीच अब कुछ भी छुपा हुआ नहीं था, वो मुझसे बहुत खुलकर बातें करने लगी थी और इसलिए में भी उससे कभी कभी दो मतलब वाली बातें कह दिया करता था, जिनका मतलब वो बहुत आसानी से समझ जाने के बाद भी जानबूझ कर मेरे सामने बिल्कुल अंजान बनी रहती थी.

एक दिन उससे बातें करने पर मुझे पता पता चला कि उसका एक बॉयफ्रेंड है, जो इस समय मुंबई में रहता है और वो बहुत मजबूरी में अपनी पढ़ाई को पूरा करने के लिए यहाँ पर पूना में रहने आ गई है, वो बार बार अपने उस बॉयफ्रेंड को याद करती और मुझे उसकी बातें, उसके साथ बिताए वो पल अपनी आप बीती घटनाए सुनाती, तो में भी कभी कभी तुरंत उसकी बात को बीच में काटकर उससे मजाक ही मजाक में कह देता कि कोई बात नहीं में भी किसी के बॉयफ्रेंड से कम हूँ क्या? और वो मेरी यह बात सुनकर तुरंत हंस जाती और फिर ऐसे ही दिन बितने के साथ साथ धीरे धीरे उसे पता चल गया था कि में भी उस पर लाईन मार रहा हूँ, क्योंकि में हर कभी मौके मिलते ही उसके गदराए बदन, सुंदर चेहरे और फिगर की उसके सामने तारीफ करता और उसे छूने की नाकाम कोशिश करता और फिर में उससे कहता था कि उसके बॉयफ्रेंड को उसकी जरा सी भी परवाह नहीं है, उसकी जगह अगर में होता तो में उससे मिलने हमेशा मुंबई से यहाँ पर आ जाता.

दोस्तों में दिखने में बिल्कुल ठीक-ठाक मेरी हाईट 5.8 और में एकदम अच्छा दिखने वाला बंदा हूँ कि किसी भी लड़की का मुझ पर दिल आ ही जाएगा. अब वो भी मेरी बातें, हंसी मजाक करने की आदत, मेरे चेहरे को देखकर मेरी तरफ आकर्षित होकर वो भी मुझ पर लाईन मारने लगी थी, क्योंकि उसे भी अब किसी के साथ की ज़रूरत थी और वैसे भी दोस्तों एक बार अगर किसी लड़की को बॉयफ्रेंड की आदत पड़ जाए तो वो बहुत आसानी से नहीं छूटती है.

एक दिन उसने मुझसे कहा कि मुझे कहीं घूमने जाना है. मैंने यहाँ पर कभी कुछ नहीं देखा है और मुझे बाहर घूमना फिरना बहुत अच्छा लगता है. दोस्तों उसके मुहं से यह बात सुनकर में मन ही मन बहुत खुश था, क्योंकि मुझे भी उसके साथ घूमने फिरने का मौका चाहिए था और में बहुत दिनों से इस मौके की तलाश में था, लेकिन में थोड़ा भाव खाने नाटक करने के बाद मान गया और उसे में रविवार के दिन अपनी बाईक पर ले जाने के लिए उसके होस्टल के दरवाजे पर एकदम तैयार होकर उसके बताए ठीक समय पर पहुँच गया.

वो मुझे पहले से ही दरवाजे पर बाहर खड़ी मिली, शायद वो भी मेरी तरह मेरा इंतजार कर रही थी और उसको उस समय देखकर मेरा तो लंड एकदम तनकर खड़ा हो गया, क्योंकि उसने उस समय पीले कलर की गहरे गले वाली टॉप पहनी हुई थी, जिसमें से उसकी छाती के बीच की दरार साफ दिख रही थी और उसके वो बड़े आकार के उभरे हुए गोरे गोरे बूब्स बहुत ही टाईट दिख रहे थे, जिनको देखकर में अपने लंड के साथ साथ अब पागल हुआ जा रहा था. उसने नीचे काले रंग की जींस पहनी हुई थी. दोस्तों माँ कसम से वो उस बिल्कुल कयामत लग रही थी, मेरी नजर उस पर से बिल्कुल भी हटने को तैयार नहीं थी और मेरी इच्छा तो उसे अपने घर पर ले जाकर उसी समय उसकी जमकर चुदाई करने की हो रही थी, लेकिन में मजबूर था.

फिर मैंने कुछ देर बाद उसे घूरना बंद करके उससे कहा कि आज तो तुझे देखकर मेरा किसी दूसरी जगह जाने का मूड कर रहा है, तुझे देखकर तो मेरा मन अब कहीं और लगना ही नहीं चाहता और ना चाहते हुए भी मेरी नजर बार बार तुझ पर आकर अटक रही है और अब तू ही मुझे बता में क्या करूं? तो उसने एक शरारती स्माईल देकर मुझे पीठ पर धीरे से मारा और फिर उसने मुझसे बदमाश कहा और बाईक पर बैठते ही उसने तुरंत मेरे पैरों पर अपना एक हाथ रख दिया और अब वो मेरी कमर पर आगे की तरफ झुककर मुझसे बातें करने लगी, जिसकी वजह से मैंने महसूस किया कि उसके एकदम गोल, मुलायम बड़े आकार के बूब्स मेरी पीठ पर दबने लगे थे और अब उस वजह से मेरी तो सांसे बहुत तेज हो गई थी और फिर अपनी मंजिल पर पहुंचते ही मैंने अपनी बाईक को स्टेंड पर लगा दिया और फिर तुरंत उसके पास आकर मैंने उसका नरम मुलायम गोरा हाथ अपने हाथ में ले लिया और अब में उसका हाथ पकड़कर धीरे धीरे उसके साथ चलाने लगा था.

तभी वो अचानक से रुक गई और वो अब हंसते हुए मुझसे बोली कि क्यों मन में क्या चल रहा है? में देख रही हूँ कि तुम आज बहुत खुश नजर आ रहे हो, क्यों तुम्हारे इरादे तो मेरे लिए आज नेक है ना? तो मैंने उससे कहा कि मेरी गर्लफ्रेंड है, में उसके साथ कुछ भी करूं, लेकिन तुझे उससे क्या समस्या है? दोस्तों मैंने उससे इतना सब कुछ कहा, लेकिन उसने मुझसे कुछ भी ना कहा और मुझे उसकी उस हरकत को देखकर अब आगे बढ़ने का मौका मिल गया और मैंने आगे बड़ते रहने का निर्णय लिया.

फिर उससे यह बात कहते हुए मैंने अचानक से उसका हाथ छोड़ दिया और अब मैंने उसको अपने करीब खींचते हुए उसके एक हाथ को अपने कंधे पर हाथ डाल लिया और वो भी अब हंसते हुए मेरे साथ चलने लगी. फिर कुछ देर चलने के बाद दोस्तों मैंने उस सही मौके का पूरा पूरा फ़ायदा उठाते हुए तुरंत उसकी मटकती हुई कमर को पकड़ लिया और अपनी तरफ खींचकर अपने पास जिस टेबल पर में बैठा हुआ था. मैंने उसे भी बैठा दिया और वो लड़खड़ाती हुई मुझ पर आ गिरी और मैंने उसको अपना सहारा देकर बैठा दिया.

दोस्तों मैंने उसके साथ इतना सब कुछ आज पहली बार किया था, इसलिए में उस समय बहुत उत्साहित था और फिर से मैंने उसके कंधे पर अपना एक हाथ रख दिया और अब मैंने जानबूझ कर अपने हाथ को थोड़ा नीचे की तरफ सरका दिया, जिसकी वजह से अब मेरा हाथ उसके एक बूब्स पर था और माँ कसम दोस्तों में उसके बूब्स के निप्पल को भी उस समय महसूस कर रहा था. तभी मैंने धीरे से उसके बूब्स को छूकर सहला दिया तो उसने मेरे हाथ पर थप्पड़ मारा और शांत रह गई, लेकिन में अब थोड़ी ना शांत बैठने वाला था.

मैंने अपना काम जारी रखा तो वो अब मुझसे बोली कि चुपचाप बैठो ना क्या पागलों जैसी हरकते कर रहे हो? तब मैंने उससे कहा कि तुम बहुत सुंदर लग रही हो, तुमसे मेरी नज़र हट नहीं रही है, तुझे देखकर मेरे अंदर आग लग गयी है और अब उसे बुझाने के लिए थोड़ा सा तो करना चाहिए ना और तभी उसने मुझे दोबारा पागल कह दिया और वो एक बार फिर से हंसने लगी.

दोस्तों मुझे अब मेरी मंज़िल बहुत नज़दीक दिखाई दे रही थी. मैंने फिर से उसके कंधे पर अपना एक हाथ रखकर उसके बूब्स पर हाथ रखते हुए उससे कहा कि मनीषा तेरे बूब्स तो बड़े मस्त है यार, उन्हें एक दिन बहुत जमकर चूसना है और में उस दिन तेरा सारा दूध पी जाऊंगा और अब उसके तने हुए निप्पल को मैंने अपने अंगूठे से थोड़ा ज़ोर से दबा दिया, जिसकी वजह से उसने अचानक से अपने मुहं से आहहह की आवाज़ निकाली और अब वो मुझसे कहने लगी कि तुम चुपचाप बैठो, यह कोई मस्ती करने की जगह नहीं है, यहाँ पर सभी लोग आसपास घूम रहे है, थोड़ी तो शर्म करो.

फिर मैंने बूब्स का हाथ उठाकर नीचे उसकी जाँघ पर रख दिया और धीरे धीरे से उसे सहलाता गया और फिर मैंने सही मौका देखकर उसकी चूत पर कपड़ो के ऊपर से अपना हाथ रख दिया और धीरे धीरे सहलाने लगा, जिसकी वजह से उसकी सांसे फूल गयी थी, उसने मुझे मना किया. फिर में भी बिल्कुल शांत रह गया और तभी अचानक से उसने मुझसे कहा कि हम ग़लत कर रहे है, में यह सब नहीं कर सकती, मेरी इस दोस्ती का तुम आज बहुत ग़लत फ़ायदा उठा रहे हो और में तुमसे कुछ भी नहीं बोल रही हूँ तो तुम मेरे साथ कुछ भी करोगे क्या? तुझे तो सिर्फ़ मुझे चोदना ही है ना, तेरी दोस्ती देखने के लिए ही मैंने यह सब नाटक किया था.

दोस्तों उसके मुहं से यह सब कुछ सुनते ही मेरा माथा सटक गया और मैंने भी उससे सच सच कहा कि मुझे तो तू बहुत पहले से ही पसंद थी और मैंने कभी तुझे दोस्त जैसा नहीं समझा, क्योंकि तू माल ही ऐसी है तो तुझे चोदने वाला ही अहसास तो मुझे क्या हर किसी को आएगा ही ना, इसमें मेरी ग़लती क्या है? चल अब जाने दे और अब में भी चलता हूँ और मैंने उसे हमारे कॉलेज के दरवाजे पर छोड़ दिया और फिर मैंने उससे सॉरी बोलकर में वहां से निकल आया.

फिर उसके बाद में दो तीन दिन तक अपने कॉलेज ही नहीं गया. उसके बाद एक दिन उसने मुझे कॉल करके मुझसे पूछा कि तुम कॉलेज क्यों नहीं आ रहे हो? तो मैंने भी उससे झूठ कह दिया कि मेरी तबियत खराब है और में अगले दिन भी कॉलेज नहीं गया, वैसे भी वो मेरे एग्जाम के बाद का टाईम चल रहा था तो इसलिए कॉलेज में जाने में इतना मज़ा नहीं था और उसे मुझे किसी भी हाल में उसको एक बार जरुर चोदना था तो इसलिए मुझे थोड़ा सा नखरा तो दिखाना ही पड़ेगा ना और में करीब एक सप्ताह के बाद में अपने कॉलेज चला गया.

फिर उसने मुझसे हाए कहा, लेकिन मैंने जानबूझ कर उसकी तरफ बिल्कुल भी ध्यान नहीं दिया और अब में अपने दूसरे दोस्तों से बहुत हंस हंसकर बातें करने लगा. फिर वो कुछ देर बाद मेरे पास आकर खड़ी हो गई और उसने मुझसे कहा कि मुझे तुमसे कुछ बात करनी है और तुम अभी इसी वक्त मेरे साथ चलो. फिर में उसके साथ चला गया और हम दोनों पास ही की एक बेंच पर बैठ गये. तभी उसने मुझसे कहा कि प्लीज तुम मुझे माफ़ कर दो, मुझे तुम्हारा इस तरह से दिन नहीं दुखाना चाहिए था, लेकिन में बहुत मजबूर हूँ, हम ऐसे कभी नहीं कर सकते, क्योंकि मेरा एक बॉयफ्रेंड है.

फिर मैंने भी तुरंत उससे कहा कि अब जब तक तू मुझे अपना बॉयफ्रेंड नहीं कहती, में तब तक तुझ से बात नहीं करूँगा और फिर में वहां से निकल आया. उसी रात को उसने व्हाट्सअप पर हाए मेरे जानू क्या तुम अपनी गर्लफ्रेंड से बात नहीं करोगे? यह सब लिखकर मेरे एक मैसेज भेज दिया. मैंने उसे देखा जरुर, लेकिन मैंने उसका कोई भी जवाब नहीं दिया. फिर कुछ देर बाद उसने एक बार फिर से मैसेज किया कि मुझे बहुत बोर लग रहा है, प्लीज जानू तुम मुझसे बात करो ना.

फिर मैंने कहा कि हाँ ठीक है, लेकिन पहले हम कल कॉलेज में मिलते है बाय और में ऑफलाइन चला गया. फिर दूसरे दिन में अपने कॉलेज पहुंचकर अपने दोस्तों से बातें करने लगा. तभी उसने मुझे देख लिया और वो तुरंत मेरे पास आ गई और उसने मुझसे हाए कहा और मैंने भी उससे हैल्लो कहा. फिर वो मुझसे बोली कि चलो ना हम कोई फिल्म देखने चलते है, शायद उससे हम दोनों का मूड बिल्कुल ठीक हो जाएगा. अब मैंने भी कुछ देर सोचकर उससे कहा कि ठीक है और हम फिल्म देखने चले गये और हम दोनों वहां पर चले गये.

कुछ देर फिल्म देखने के बाद उसमे एकदम हॉट सीन चलने लगा था, जिसको देखकर मेरा लंड अब खड़ा होने लगा था और में धीरे धीरे जोश में आने लगा था. फिर मैंने तुरंत अपना एक हाथ उसकी गोरी, गरम, मुलायम जाँघ पर रखकर हल्के से मसलना शुरू किया, वो भी अब मुझे चोर नजर से देख रही थी और हमारे पास में कुछ लड़के बैठे हुए थे, वो उसके गोरे सेक्सी बदन को देखकर गलत गलत बातें बोलने लगे थे.

फिर हम दोनों आधी फिल्म देखकर ही बाहर आ गये. मैंने उसे अपनी बाईक पर पीछे बैठने को कहा और वो झट से मेरे पीछे बैठ गयी, में अपनी गाड़ी को सीधा अपने फ्लेट पर ले गया और वो चुपचाप मेरे पीछे बैठी रही. मैंने जब अपने रूम का दरवाजा खोला तो वो देखकर मुझसे बोली कि वाह यह तुम्हारा फ्लेट है, यह तो बहुत अच्छा है? तो मैंने उससे कहा कि यह मेरा नहीं किराए का है, लेकिन हमारे लिए बहुत है और इतना कहकर मैंने तुरंत उसके दोनों हाथों को पकड़कर दरवाजे से लगाकर उसे किस करना शुरू किया और किस करते वक्त मैंने अपना एक हाथ उसकी कमर में डालकर उसे वहां से घुमा दिया और फिर मैंने उसकी पीठ को दीवार से लगा दिया. उसके साथ यह सब करना अब मेरा एक सपना भी था और आज में कैसे भी अपने सपने को पूरा करना चाहता था, चाहे अब मुझे उसके साथ कुछ भी करना पड़े.

अब मैंने अपने दोनों हाथ उसके बूब्स पर रख दिए और बहुत धीरे धीरे दोनों बूब्स को में सहलाने लगा और उसके कान पर, गाल पर, गले पर में किस करने लगा और उसे चूमने, चाटने लगा और साथ साथ उसके बूब्स को ज़ोर ज़ोर से दबाने, निचोड़ने लगा था, जिसकी वजह से उसकी सांसे अब बहुत तेज हो रही थी और उसने अपने एक हाथ से मेरे सर के बालों को बहुत ज़ोर से दबा रखा था, वो पूरी तरह से जोश में आकर गरम हो चुकी थी और अब वो धीरे धीरे मोन करने लगी थी.

फिर मैंने तुरंत मौके का फायदा उठाते हुए उसका टॉप उतार दिया और उसकी ब्रा के ऊपर से ही उसके बूब्स को में काटने लगा था और अब मैंने एक हाथ उसकी पेंट में डाल दिया और फिर में अपनी दो उँगलियों को उसकी चूत में डालने लगा था और उसकी चूत को धीरे धीरे सहलाने लगा था, उसकी चूत तो अब तक जोश में आकर पूरी गीली हो चुकी थी और उस वजह से वो ज़ोर ज़ोर से उह्ह्हह्ह आअहह्ह्ह् करने लगी.

अब मैंने उसकी पेंटी को भी उतार दिया और में खुद भी पूरा नंगा हो गया. उसने मेरे लंड को देखा तो वो मुझसे बोली कि यह तो बहुत बड़ा है, में इसे कैसे ले सकती हूँ? नहीं में ऐसा नहीं कर सकती. अब तुम मुझे छोड़ दो, इससे मुझे बहुत दर्द होगा, में मर जाउंगी, प्लीज तुम मेरे बॉयफ्रेंड का तुमसे बहुत छोटा है, तुम्हारा तो बहुत मोटा है, मुझे तो इसको देखकर अब डर भी लगने लगा है. फिर मैंने उससे कहा कि आज तो तू मेरे केले का मज़ा चख ले और फिर मैंने उसे अचानक से बेड पर धकेल दिया और में अब उस पर टूट पड़ा. मैंने उसके दोनों बूब्स को हाथ में ले लिए और उसके एक पैर को मोड़कर ऊपर किया और मैंने अब उसकी चूत का रस से अपने लंड को नहलाया तो वो चमकने लगा था. फिर लंड को उसकी चूत के मुहं पर रख दिया और एक जोरदार धक्का लगा दिया, जिसकी वजह से मेरा लंड उसकी चूत को चीरता हुआ अंदर चला और वो एकदम ज़ोर से चिल्ला उठी.

मैंने तुरंत अपना एक हाथ उसके मुहं पर रख दिया और अब मैंने अपने धक्को को ज़ोर ज़ोर से बढ़ा दिया था और वो मुझे गाली देने लगी साले, कुत्ते, हरामी क्या तूने कभी किसी को चोदा नहीं क्या? उफ्फ्फ्फफ्फ् प्लीज थोड़ा आह्ह्हह्ह धीरे धीरे से चोद ना आईईईइ क्या तू आज मेरी चूत को फाड़ ही देगा क्या? स्सईईईईईईईइ माँ मुझे बहुत दर्द हो रहा है.

दोस्तों मैंने उसकी बिना सुने अपने धक्के लगातार जारी रखे और कुछ देर बाद मेरे साथ साथ अब वो भी बहुत मज़ा ले रही थी. करीब बीस मिनट के बाद में झड़ गया और मैंने अपना सारा वीर्य उसकी चूत के अंदर ही डाल दिया और मैंने महसूस किया कि वो तो अब तक करीब दो बार झड़ चुकी थी और वो अब बहुत थककर चूर हो चुकी थी, लेकिन फिर भी मैंने उसे उल्टा लेटा दिया और अब में उसकी गांड को चाटने लगा.

फिर उसे तुरंत समझ में आ गया कि अब उसकी गांड की बारी है और में अब उसकी गांड को भी चोदना, फाड़ना चाहता हूँ और उस दर्द की वजह से वो अब मुझसे ना ना करके मना करने लगी. उसने मुझे दो तीन बार धक्के देकर मुझे दूर हटाने की कोशिश भी की, लेकिन मैंने उसकी एक भी बात पर बिल्कुल भी ध्यान ना देते हुए उसे बहुत दबाकर रगड़ा और उसकी गांड को चाटकर साफ किया और उसकी चूत का रस अपने लंड पर लगा लिया और फिर अपने लंड को उसकी चूत पर रखा और फिर सही मौका देखकर मैंने तुरंत एक ज़ोर का धक्का लगा दिया, जिसकी वजह से मेरा लंड उसकी गांड को चीरता हुआ अंदर जा पहुंचा, लेकिन उसने थोड़ा सा अंदर जाते ही तहलका मचा दिया और वो अब मुझसे छूटने के लिए तड़पने लगी चीखने, चिल्लाने लगी, लेकिन मैंने उसकी कमर को बहुत कसकर पकड़ा हुआ था, जिसकी वजह से वो कुछ ना कर सकी.

फिर मैंने उसे एक और धक्का लगा दिया और तब मैंने महसूस किया कि उसकी गांड को मारना तो बहुत दूर की बात थी, उसको किसी ने छुआ तक भी ना था. मैंने पूरे ज़ोर से उसकी गांड मारी तो वो अब बस करो प्लीज, अब छोड़ दो मुझे, उफ्फ्फ्फ़ माँ में मर जाउंगी, मुझे बहुत दर्द हो रहा है करके लगातार चिल्ला रही थी. दोस्तों करीब 25 मिनट के धक्कों के बाद मैंने अपना लंड उसकी गांड से बाहर निकाल लिया और तुरंत उसके मुहं में डालकर मैंने उसको अपना सारा वीर्य पिला दिया और उसके तो अब तक पूरे होश ही उड़ गए थे और वो बिल्कुल बेहोश सी होकर बेड पर वैसे ही पड़ी रही और में भी उससे लिपटकर उसे अपनी बाहों में लेकर सो गया.

Updated: October 7, 2016 — 7:35 am
Meri Gandi Kahani - Desi Hindi sex stories © 2017 Frontier Theme
error: