रिश्तों में चुदाई का आनंद -2

indian sex stories अब में उसे अपनी जीभ से चोद रहा था, अब वो ज़ोर-जोर से मौन कर रही थी राहुल ययययययह क्या कर दिया? मेरी चूत में आग लग रही है, कुछ करो। अब में उसको लगातार सक कर रहा था और वो ज़ोर-जोर से चिल्ला रही थी और ज़ोर-जोर से मौन कर रही थी और अपने एक हाथ से मेरे सिर को अपनी चूत के ऊपर धकेल रही थी और अपने पैरो को कभी ऊपर, तो कभी दोनों जांघों को ज़ोर से दबा रही थी, जिससे कभी-कभी मेरी साँसे फूल जाती थी। फिर कुछ देर के बाद उसने अपनी चूत से पानी छोड़ दिया, तो में उसकी चूत का सारा का सारा पानी पी गया। अब वो मुझे देख रही थी और ज़ोर-जोर से हाँफ रही थी, जैसे वो कई मील से दौड़कर आई हो। फिर मैंने उसे सीधा लेटाया और उसकी गांड के नीचे एक तकिया लगाया और उसके दोनों पैरों को फैलाया और फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया।

अब जब मेरे लंड का सुपाड़ा ही उसकी चूत में गया था, तो वो ज़ोर-जोर से चिल्लाने लगी नहीं मुझे छोड़ दो, नहीं में मर जाऊंगगगगगगगी, अपनाआआआआ लंड बाहर निकाल लो। लेकिन मैंने उसे अनसुना करते हुए एक ज़ोर का धक्का लगाया, तो वो और ज़ोर से चिल्लाई। फिर मैंने उसके लिप्स पर किस करते हुए उसके मुँह को बंद किया और धक्के लगाते गया। तो अब वो छटपटा रही थी और अपने बदन को इधर से उधर करने लगी थी, लेकिन में नहीं माना और धक्के पर धक्के लगाते गया, अब उसकी आँखों से आँसू निकल रहे थे। फिर कुछ देर के बाद मेरा पूरा लंड उसकी चूत में चला गया, फिर में कुछ देर के लिए उसके ऊपर ही पड़ा रहा और वो कुछ देर के बाद शांत हो गई और मुझे गालियाँ देने लगी, साले तूने यह क्या कर दिया? अपना लंड बाहर निकालो, मुझे नहीं चुदवाना। तो में उसके बूब्स को सक करने लगा और अपने एक हाथ से उसके बालों और कानों के पास सहलाने लगा और कुछ देर के बाद मैंने उसके कानों को भी चूमना शुरू कर दिया। (दोस्तों आप लोगों को पता ही होगा कि अगर किसी लड़की या औरत को जल्दी जोश में लाना हो तो उसके कान को धीरे-धीरे चूसो और सक करो और फिर देखो कितनी जल्दी गर्म हो जाती है)

हाँ तो फिर कुछ देर के बाद वो फिर से गर्म हो गई, तो फिर मैंने धीरे-धीरे धक्के लगाने शुरू किए। तो पहले तो वो चिल्लाई, लेकिन कुछ देर के बाद मैंने पूछा कि मज़ा आ रहा है। तो वो बोली कि हाँ दीपक बहुत मज़ा आआआआ रहा है, हाईईईईईई और जोर-जोर से मौन करने लगी। फिर कुछ देर के बाद मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी, अब वो पूरी मस्ती में थी और मस्ती में मौन कर रही थी हाआआ दीपक, आआहहहह हाईईईईई और करो, बहुत मजा आ रहा है हाईईईईई। अब वो इतनी मस्ती में थी की पूरा का पूरा शब्द भी नहीं बोल पा रही थी। अब में अपनी स्पीड धीरे-धीरे बढ़ाता जा रहा था हाआअ राजा, हाईई और जोर से चोदो, आज मेरी चूत को फाड़ दो, आज कुछ भी हो जाए, लेकिन मेरी चूत को फाड़े बगैर मत झड़ना आआआआ और ज़ोर से चोदो, उूउउईईईईई माँ, अहहन्ननननणणना।

अब वो ऐसे ही मौन कर रही थी। फिर कुछ देर के बाद मैंने पाया की मेरा लंड पानी से भीग रहा है, अब वो पानी छोड़ने वाली थी। अब वो नीचे से अपनी कमर उठा-उठाकर चिल्ला रही थी और बड़बड़ा रही थी हाआअ और चोदो मेरी चूत को, आज मत छोड़ना, इसे भोसड़ा बना देना और फिर कुछ देर के बाद वो बोली कि में झड़ने वाली हूँ। अब में भी झड़ने के करीब पहुँच गया था क्योंकि हम लोग लगातार 15-20 मिनट से चुदाई कर रहे थे। फिर मैंने बोला कि हाआआ डार्लिंग में भी झड़ने वाला हूँ और फिर मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी, तो वो कुछ देर के बाद झड़ गई। अब में भी झड़ने के करीब आ गया था और फिर कुछ देर के बाद में भी झड़ गया। अब उसने मुझे कसकर अपनी बाहों में जकड़ लिया था और में भी उसके बूब्स के ऊपर पड़ा रहा। फिर कुछ देर के बाद उसने मेरा और मैंने उसकी चूत को साफ किया।

फिर थोड़ी देर के बाद हम लोग अपने-अपने कपड़े पहनने लगे और कुछ देर तक ऐसे ही एक दूसरे की बाहों में पड़े रहे। फिर हम लोग वहाँ 3 दिन रुके और अब हम लोगों को जब भी टाईम मिलता था, तो हम लोग सेक्स कर लिया करते थे। फिर उसके कुछ दिन के बाद उसकी शादी हो गई और वो अपने ससुराल चली गई ।।

Updated: October 30, 2018 — 11:07 pm
Meri Gandi Kahani - Desi Hindi sex stories © 2017 Frontier Theme
error: