सालियों को बदल के देखा -1

desi kahani: दोस्तों, अभी तक आप बीवियों की अदला बदली करते आयें है । सुनते भी आए है । समाज में बड़ा कामन है ।
क्या आप जानते है की उसी तरह सालियों की भी अदला बदली हो सकती है । अदला बदली का मतलब तुम मेरी साली चोदो मैं तुम्हारी साली चोदूं । कुछ लोग बीवी की चुदाई से ज्यादा मज़ा साली को चोद कर लेते है । ऐसी दशा में साली की अदला बदली करके चुदाई का दुगुना मज़ा लिया जा सकता है । और जब सालियों की शादी हो जाए तो वे बीवियों की अदला बदली में अपने आप सामिल हो जाएँगी . चलिए मैं आपको एक ऐसे व्यक्ति से मिलवाता हूँ जिसने अपने दोस्त की साली को चोदा और अपनी साली को दोस्त से चुदवाया वह भी आमने सामने अब सुनिए वे क्या बातचीत कर रहे है :-
कासिम अपने दोस्त से बोला :- यार, अली मेरा दिल तेरी साली पर आ गया है । उसके नाम से मेरा लौडा खड़ा हो जाता है । मैं चाहता हूँ की तुम अपनी साली को पटाकर ले आओ । मैं उसको मजे से चोदना चाहता हूँ । बदले में तू मेरी बीवी को चोद ले । मैं वादा करता हूँ की मेरी बीवी तुमको बड़े प्यार से अपनी बुर देगी । तेरा लौडा मस्त कर देगी । एकबार नही कई बार चुदवा लेगी तुमसे ।
अली ने जबाब दिया :- हां यार तुमने ठीक कहा , मैं तो तेरी बीवी को चोदने के चक्कर में पहले से ही था । वह जब चलती है तो मेरे लौड़े में सुरसुरी होने लगती है । लेकिन यार साली तो तेरी भी है । गदराये बदन वाली साली । उसकी चूत मुझे दिलवा दो न यार । बदले में तुम भी मेरी बीवी चोद लेना । मेरी बीवी लौडा खूब मन लगाकर चूसती है पूरा का पूरा मुह में घुसेड लेती है लंड । मज़ा आ जाएगा तेरे लंड को । रही मेरी साली शब्बो की बात तो मैं उसकी बुर तुमको दिलवा दूँगा । हां वह भी जवान हो गयी है । २२ साल की है चूंचियां बड़ी हो गयी है ।
कासिम :- अच्छा वो मेरी बीवी के मामा की लड़की नाजिया । हां यार तुमने खूब याद दिलाया । उसको तो मैं भूल ही चुका था । जवान तो हो गयी है बुर चोदी । चूंचियां बड़ी बड़ी हो गयी है उसकी । लांड तो मजे से चूसेगी वो । मैं वादा करता हूँ की वह तुम्हारा लौडा जरुर पकड़ेगी ।
अली अपने काम में लग गया । वह जल्दी से जल्दी इस काम को करना चाहता था क्योकि उसका मन कासिम की बीवी को चोदना था । उधार वादे के मुताब्बिक कासिम अपनी साली शब्बो को पटाने में लग गया । वह शब्बो को घुमाने ले जाने लगा। उससे मीठी मीठी बातें करने लगा । धीरे धीरे मजाक ज्यादा करने लगा । और आगे बढ़ा तो उससे अश्लील बातें करने की कोशिश करने लगा ।
एक दिन अली बोला :- शब्बो जानती हो साली को आधी घरवाली क्यों कहा जाता है ?
शब्बो :- नही मैं नही जानती । तुम बताओ न जीजा जी ।
अली :- देखो बीवी के साथ तो सब कुछ किया जाता है लेकिन साली के साथ आधा किया जाता है ।
शब्बो :- क्या किया जाता है जीजा जी , ठीक से बताओ न
अली :- मैं अगर बता दूँ तो तुम बुरा तो नही मानोगी ।
शब्बो :- मैं कहा बुरा मानने वाली । मैं बिल्कुल नाराज़ नही हूँगी , बताओ न
अली :- देखो बीवी को चोदा जाता है लेकिन साली को नही ।
शब्बो :- किसने कहा ये बात
अली :- चोदना जानती हो ?
शब्बो :- आप बड़े वो है जीजा जी , मुझसे पूंछते है , क्या आप नही जानते है ?
अली :- अरे मैं तो जनता ही हूँ लेकिन क्या तुम भी जानती हो ?
शब्बो :- हां मेरी सहेली कहती है हो सकता है । वो तो अपने जीजा से करवाती है । एक आप है जो ये वो कह रहे है । तुम्हारी जगह कोई और होता तो अब तक कर चुका होता ।
अली :- देखो, कर तो मैं भी दूंगा लेकिन पहले चोदने का मतलब बताओ ?
शब्बो :- अन्दर घुसेड़ना और क्या ।
अली :- क्या घुसेड़ना बोलो न साफ साफ ?
शब्बो :- (उसने अली के लंड पर हाथ रख कर कहा ) ये घुसेड़ना ।
अली :- ये क्या है, इसको क्या कहते है ?
शब्बो :- जीजा तुम इतने बड़े हो गए हो , तुम्हारी शादी हो गयी है । तुमको अपनी चीज का नाम नही मालूम है क्या ? तुम दीदी को क्या दे पावोगे ?
अली :- नाम तो मुझे मालूम है लेकिन मैं चाहता हूँ की तुमको भी मालूम हो जाए । बोलो क्या कहते इसे ?
शब्बो :- मुझे शर्म आ रही है । कैसे बताऊँ ?
अली :- बताओ न मेरी जान । एक बार तो बताओ मेरी प्यारी सी साली जी इसको क्या कहते है ?
शब्बो :-‘ लंड ‘ कहते है और क्या । बस सुन लिया मेरे मुह से ‘लंड’ लो और सुनो ‘ लंड ‘ ‘ लंड’ ‘लंड ‘
अली :- और क्या कहते है ?
शब्बो :- और ‘लौडा ‘ कहते है बस
अली :- और क्या कहते है ?
शब्बो :- अरे बाबा ‘लांड’ भी कहते है । बस अब खुश हो ।
अली :- हां अब मैं खुश हूँ ।
शब्बो :- खुश हो तो दिखाओ अपना लंड । मैं अभी देखना चाहती हूँ इसी वख्त और सुनो साली आधी नही पूरी घरवाली होती है । चोदना के माने है लौडा चूत में पेलना । अब पेलो अपना लंड मेरी चूत में तब जाने दूँगी । अली ने उस दिन शब्बो को मजे से चोदा । उधर कासिम नाजिया के चक्कर में घूम रहा था । एक दिन उसने कहा नाजिया , चलो तुमको फ़िल्म दिखा लायें । नाजिया तैयार हो गयी । कासिम उसे उस पिक्चर हाल में ले गया जहाँ बहुत कम लोग थे और जाकर पीछे बैठ गया । अगल बगल कोई नही था । पूरे हाल में ७/८ लोग ही थे । कासिम ने धीरे से अपना हाथ नाजिया की चूंचियों की तरफ़ बढाया । वह कुछ नही बोली । कासिम ने हाथ फेरना शुरू किया नाजिया ने ऐतराज़ नही किया । कासिम की हिम्मत बढ़ी उसने चूंचियां दबा दी । नाजिया कुछ नही बोली । कासिम और आगे बढ़ गया । तब तक उसका लंड खड़ा हो चुका था । उसने नाजिया का हाथ पकड़ कर पैंट के ऊपर से ही अपने लंड पर रखा और कान में कहा इसे पकड़ो ज़रा प्लीज । नाजिया ने लंड छुआ और हाथ फ़ौरन हटा लिया ।

Updated: July 7, 2019 — 10:40 pm
Meri Gandi Kahani - Desi Hindi sex stories © 2017 Frontier Theme
error: