सविता आंटी के मोटे चुतड

हेलो, मेरा नाम राजन है और मैं पंजाब से बिलोंग करता हु. मेरी ऐज १७ साल है और मेरी हाइट ५ फिट९ इंच है और मैं लुक में गुड और स्मार्ट बॉय हु. मेरे डिक का साइज़ है ६.५ इंच लॉन्ग और ३.८ इंच वाइड. ये स्टोरी मेरी और मेरी सेक्सी सविता आंटी की है. जो हमारे बहुत क्लोज है. उसकी ऐज ४२ साल की होगी. पर वो एक परी लगती है. वो बहुत ही गोरी है और उसके बूब्स बहुत बड़े और टाइट है और गांड तो बहुत ही ज्यादा बाहर को है और वो वाइड है. पूरा माल है वो. उसका फिगर ३८ – ३२ – ४०. उसका पति गोवेर्टमेन्ट जॉब करता है. उसके २ बच्चे है, जो फ्रोरेन में है. एक दिन की बात है, जब मैं सविता आंटी के घर बाहर था, क्योंकि उन्होंने कहा था, कि उन्हें मार्किट जाना है और मेरी माँ को कहा था, कि मुझे उनके घर भेज दे और मैं चले गया था. जब मैं उनके घर पंहुचा, तो आंटी ने एक टाइट सलवार सूट पहना हुआ था और उसके बूब्स और गांड एकदम कसे हुए थे. मेरा तो लंड खड़ा हो गया था पेंट में. मैं आंटी के बूब्स देखे जा रहा था. उन्होंने नोटिस कर लिया और फिर मैं उन्हें अपनी बाइक पर बैठा कर मार्किट ले गया और उसके बूब्स मेरे साथ टच होते गए. फिर उसने शौपिंग की और हम घर वापस आ गए.

फिर मैंने आंटी से कहा – आप स्कूटी क्यों नहीं सीख लेते हो? आंटी ने कहा – मुझे डर लगता है. मैंने कहा – चलो मैं सीखा देता हु. फिर वो मान गयी. उनके घर का लॉन काफी बड़ा है और मैंने उन्हें उनके घर पर जो एक्स्ट्रा स्कूटी पड़ी थी, उसको निकाला और कहा – आओ. वो स्कूटी पर बैठ गयी और मैंने एकदम उनके पीछे बैठ गया. मैंने उनको कहा – चलो अब स्कूटी स्टार्ट करो. आंटी ने स्टार्ट करी और फिर उसने कहा – मुझे डर लग रहा है. मैंने उसे कहा – चलो मैं भी आपको पीछे से पकड़ लेता हु. मैंने अपने आप को आंटी से चिपकाया और पीछे से हैंडल को पकड़ कर स्कूटी चलाने लगा. फिर हमने ब्रेक लगा दिए और आंटी का हेड आगे जाने लगा. मैंने उसको एकदम से संभाला और उसके बूब्स को प्रेस कर दिया. उसके मुह से हलकी सी चीख निकली अहहह्ह्ह्ह… फिर आंटी ने कहा – तू मुझे पीछे से पकड़ लेना. आंटी फिर से रेडी हो गयी और रेस देने लगी और एकदम से ब्रेक लगा दी. मैंने अपने हाथ आंटी के बूब्स पर रखे थे और ब्रेक लगते ही, मैं उनके बूब्स को प्रेस कर देता.. उनके मुह से हलकी सी अह्ह्ह्हह… निकल जाती. फिर वो बोलती – मैं स्कूटी चलाना नहीं सिख सकती. मैं कहता – आप कोशिश तो करो.

फिर हम वेसे करते और मेरा हाथ उसके बूब्स पर रहता, जो बहुत टाइट हो जाते और प्रेस कर देता. क्या मज़ा आ रहा था. मेरा लंड तो खड़ा होकर उसकी गांड से लग रहा था. मैं उसमे घुसने की कोशिश करता, जब भी वो ब्रेक लगाती और वो कुछ कहती ही नहीं थी. वो एकदम नार्मल बिहेव कर रही थी. मैंने अपने हाथ उसके बूब्स पर रखे होते और प्रेस कर देता. वो मोअन करने लगी थी अह्हह अहहाह अहः कह रही थी. ये क्या कर रहे हो? मैंने उसकी नैक पर किस किया और उसके एअर को बाईट करता रहा और कहा – आई लव यू. वो हैरान रह गयी और कहा – मुझमे तुम्हे क्या अच्छा लगता है? मेरी तो ऐज भी ४२ की है. मैंने उसके बूब्स जोर से प्रेस कर दिए और वो अहहाह अहः उईईइ करके चीख मार दी. मैंने कहा – मुझे तुम्हारे बूब्स बहुत पसंद है. फिर मैंने उसकी गांड दबा दी और कहा – तुम्हारी गांड बहुत भरी हुई है. मुझे तुम बहुत सेक्सी लगती हो. फिर उसने कहा – चलो, अन्दर चलते है. फिर हम दोनों रूम में चले गये और उसने रूम अन्दर से लॉक कर दिया.

फिर मैंने उसे जोर से पकड़ लिया और उसे किस करने लगा, समुच करने लगा. हम दोनों २० मिनट तक किस करते रहे और फिर मैंने उसकी सलवार कमीज़ उतार दी और वो पिंक ब्रा और पेंटी में थी. क्या बम लग रही थी वो. मैंने उसके बूब्स को चाटने लगा और ब्रा उतार दी. उसे चूसने लगा और एक हाथ से उसकी चूत को दबाने लगा. वो मोअन करने लगी अहहाह अहहाह अहहाह ओहोहोह्हो हहहम्म्म्म… फिर मैं उसको किस करता रहा.. उसकी नाभि पर आ गया. वो एक्साइट होने लगी. फिर मैंने उसकी पेंटी फाड़ दी और उसकी पिंक चूत थी और उस पर थोड़े से हेयर थे. मुझे बहुत अच्छे लगे. मैं उसे पागलो की तरह चाटने लगा अहः अहः.. वो अहहाह अहहाह ऊहोहोह अहाममम म्मम्म म्मम्म कर रही थी. फिर मैंने अपने कपड़े उतार दिए और वो मेरा लंड हाथ में लेकर हिलाने लगी और कहने लगी – तेरे अंकल का तो सुंडी सी है और ठीक से खड़ा भी नहीं होता. वो फिर मेरा ब्लोजॉब करने लगी. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. फिर हम ६९ करने लगे.. क्या आनंद था.

फिर मैं उसे तडपाने लगा और उसकी चूत को लिक्क करने लगा. वो तड़प रही थी और कहने लगी – इसमें अपना लंड डाल दो जल्दी से. फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रखा और धक्का मारा. मेरे लंड का टोपा बहुत मोटा है, जो उसकी चूत में मुश्किल से गया और वो चिल्लाने लगी अहहाह अहहाह अहहाह… फाड़ दी मेरी चूत.. मैंने और धक्का मारा और आधा लंड अन्दर चले गया और उसे किस करने लगा. फिर वो नार्मल हुई. फिर मैं उसके बूब्स को सक करने लगा और एक और धक्का मारा और सारा लंड अन्दर चले गया. वो अहः आहाहा अहहाह मर गयीईईईईई हहहः अहहाह ऊओहोहोहो हहहः आआ करने लगी. मैंने शॉट्स लगाने लगा और वो नीचे से अपनी गांड उठाने लगी. पुरे रूम में पच पच पच की आवाज़े होने लगी. वो ५ मिनट बाद झड गयी और उसका गरम माल मेरे लंड पर महसूस हुआ. मैं फिर और भी जोर से घस्से मारता रहा और वो २ बार झड़ चुकी थी. मैंने १५ मिनट के बाद उसको कहा – मेरा माल छूटने वाला है. उसने कहा – अन्दर ही छोड़ दे. मैंने अपनी स्पीड बड़ा दी और तेज – तेज उसको चोदने लगा. वो अहहाह अहः अहः ऊहोहोह करने लगी. मैंने अपना मस्त माल उसकी चूत में छोड़ दिया. उसकी पूरी चूत माल से भर गयी और मैं उसके ऊपर लेट गया.

फिर मैंने अपना लंड बाहर निकाला और उसकी चूत में से माल की बुँदे टपक रही थी. जो मुझे एक्साइट करने लगी. मैंने अपना लंड उसके मुह में डाल दिया और धक्के देने लगा. वो उसको चूसने लगी और फिर ५ मिनट में ही वो पहले जैसे या उस से भी बढ़ कर खड़ा हो गया. मैंने उसको घोड़ी बनाया. फिर मैंने उसकी व्हेअतिश गांड को खोला और उसके पिंक ब्राउन ऐसहोल को चाटने लगा. उसकी गांड पर एक भी बाल नहीं था और वो अहः अहः अहहाह अहः करने लगी. उसकी गांड का छेद बहुत टाइट था और मैंने उसमे फिंगर डाल दी और आगे पीछे करने लगा. उसने कहा – प्लीज मेरी गांड मत मारना. मैंने कभी भी नहीं मरवाई है. उसमे बहुत दर्द होता है. मैंने कहा – दर्द में ही तो एंजोयमेंट होता है और फिर मैंने खूब सारा आयल लिया और उसकी गांड पर लगाया और अपने लंड पर भी. आयल से चमक रही उसकी गांड किसी पोर्न स्टार के जैसी लग रही थी. मुझे अब रहा नहीं गया और मैंने अपना लंड उसके होल पर रखा और धक्का मारा. मेरा टोपा उसकी गांड में चले गया.

वो चिल्लाने लगी अहहाह अहहः ऊओहोहोहो मर गयीईईइ… प्लीज बाहर निकालो इसे हाहाह अहहाह ऊहोहोहोह ऊउईईइ माँआआआ… हहहः अहहाह… मैंने उसकी बात नहीं सुनी और एक और जोर का धक्का लगाया और मेरा आधा लंड अन्दर चले गया. वो चिल्लाती रही. मुझे अपने लंड पर दर्द महसूस होने लगा. फिर मैंने दर्द की परवाह ना करते हुए, एक और धक्का लगाया और मेरा सारा लंड अन्दर चले गया और जब वो नोमल हुई, तो मैं शॉट्स मारने लगा. अब उसे भी मज़ा आने लगा और वो पीछे को अपनी भारी गांड हिलाने लगी. वो अहः अहहाह ऊओहोहो हाहाह एस फक मी ऊऊह्ह्ह्ह अहहाह अहः अहः ऊओहोह्हो आममम अह्हहम फाड़ दी मेरी गांड.. हाहाह हाहाह किल डेट… हाहाहा. मैंने २० मिनट तक उसकी गांड मारी और अपना सारा माल उसकी गांड में छोड़ दिया. फिर मैंने २ बार और गांड और उसकी चूत मारी और उसके बाद मेरा लंड थोड़ा सूज गया और उसकी गांड भी सूज गयी थी और रेड हो गयी थी. उसने कहा – ऐसा मजा मुझे आज तक नहीं आया. तू असली मर्द है. फिर हम किस करने लगे और मैंने फिर अपने कपड़े पहने और घर चले आया.

फिर हम अब हर वीक में एक दिन रोज़ चुदाई करते है और अब उसकी गांड और भी बड़ी हो चुकी है. जब मैं उसे चोदता हु, उससे ठीक से चला भी नहीं जाता है और उसे भी मेरे साथ चुदाई में बड़ा मज़ा आता है. तो दोस्तों, कैसी लगी मेरी और मेरी आंटी की चुदाई की कहानी. प्लीज अपने कमेंट जरुर दीजियेगा.

Madhu

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *