शी वाज़ पर्फेक्ट्ली काइंड ऑफ माई ड्रीम गर्ल

desi kahani हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम विनीत है, में एक बार फिर से अपनी नई कहानी लेकर आया हूँ, में लुधियाना (पंजाब) का रहने वाला हूँ। में रेग्युलर रीडर हूँ, चलो अब टाईम वेस्ट ना करते हुए में सीधा स्टोरी पर आता हूँ। ये बात दीवाली की है, में काफ़ी दिनों से बिज़ी था और मेरा रुटीन बस यह था कि रोज-रोज ऑफीस और लेट नाईट घर बस। फिर मैंने दशहरे वाले दिन का ऑफ लिया और घूमने का प्लान किया और सोचा कि कहीं पर तो दशहरे का मेला होगा ही। तो में मूड बनाकर वैसे ही टाईम पास के लिए मेले में चला गया, वहाँ कम ही लोग थे लेकिन हाँ वहाँ ज्यादातर कपल्स थे। अब इधर उधर घूमते-घूमते बार-बार मेरी नज़र एक भाभी पर जा रही थी, अब वो भी बीच-बीच में मुझे देख रही थी शी वाज़ पर्फेक्ट्ली काइंड ऑफ माई ड्रीम गर्ल।

अगर में उसे शब्दों में बया करूँ तो उसके बाल उसके हिप्स को छू रहे थे, पर्फेक्ट्ली स्ट्रेट थे मानो पार्लर से तैयार हो कर आई हो, बड़ी-बड़ी आँखें और ऊपर से काजल, शी वाज़ आउट ऑफ दे वर्ल्ड एंड स्पेशली, उसके बूब्स कम से कम 38, कमर मुश्किल से 30 और उसके 40 साईज के हिप्स देखकर तो में पागल ही हो गया था। शी वाज़ हेल्थी, लेकिन उसकी बॉडी पर जितना भी फट था सब इतना हॉट था कि में पागल हो रहा था। वैसे तो मुझे कोई चान्स नहीं लग रहा था, वो मेला एक मौहल्ले में था और वहाँ ज्यादातर आस पास के लोग थे और पंगा लेना आसान नहीं था। लेकिन अब मैंने एक बार तो कोशिश करने की सोच ली थी। फिर में दो तीन बार उसके पास से गुज़रा और अपने फोन की तरफ इशारा करके उसका नंबर माँगा। पहले तो उसने कुछ रेस्पॉन्स नहीं दिया, लेकिन फिर लगभग एक घंटा उसके आगे पीछे फिरने के बाद उसने मेरा नंबर ले लिया और जल्दी-जल्दी अपने फोन में सेव करके मिस कॉल दे दी। में बता नहीं सकता कि उस टाईम में कितना खुश हुआ था।

फिर अगले दिन मॉर्निंग में उसकी कॉल आई, उसने अपना नाम नेहा बताया एंड शी इज वेरी बोल्ड लेडी। फिर मैंने उससे बोला कि तुम्हारा मेरा या तो कुछ पुराना है या कुछ नया होने वाला है, बताओं तुम्हें क्या लगता है? तो उसने बोला कि जो पुराना था वो बीत गया अब कुछ नया करेगें और रीलेशन लाईफ लंबी चलाएँगें, तो में मान गया और एग्ज़ाइटेड भी हो गया। सॉरी दोस्तों में आपको बताना तो भूल ही गया कि उसके एक छोटा बेबी भी था, जो कि 1 साल का है। फिर हमने कुछ हफ़्ते फोन पर, वाट्स अप पर रेग्युलर बात की। तो उससे मुझे पता लगा कि उसके पति की जॉब चली गयी है और वो सारा टाईम उसी चक्कर में परेशान इधर उधर घूमता रहता है और उसे कहीं बाहर जाने नहीं देता है। तो मैंने नेहा को मिलने को काफ़ी फोर्स किया, पहले तो वो टालती रही।

फिर एक दिन अचानक उसने मुझे कॉल की और बोली कि क्या में उसे कल चंडीगढ़ छोड़कर आ सकता हूँ? उसे अपनी बहन के यहाँ जाना था। तो में मान गया और अगले दिन सुबह 6 बजे निकलने का फाइनल हुआ। अब अगले दिन में तैयार हो कर बस स्टैंड पर अपनी कार लेकर चला गया और वो वहाँ कुछ देर में पहुँच गयी और उसका पति उसे बस में बैठाकर चला गया। अब उसके पति के जाते ही वो बस से उतरी और मुझे कॉल करके पूछा कि कहाँ हो? तो मैंने उसे अपनी लोकेशन बताई और वो अपने बेबी के साथ वहाँ आ गयी और फिर हम कार में चंडीगढ़ के लिए निकल गये। उस दिन उसने पजामी सूट पहना था और में बता नहीं सकता कि वो उसमें कितनी हॉट दिख रही थी, शी वाज़ वेरिंग ए लो नेक टॉप, जिसमें से उसकी क्लीवेज अच्छे से नज़र आ रही थी और पजामी इतनी टाईट मानो अभी फट जाए।

अब हम जैसे ही लुधियाना से बाहर हुए, तो उसका बेबी सो गया। मेरी कार में एक चाइल्ड सीट भी है तो मैंने उसके बेबी को वहाँ आराम से लेटाया और उसको अपनी जांघो पर सिर रखकर लेटने को बोला। तो वो कुछ इस तरह लेटी की उसका गाल मेरे लंड पर और उसके बूब्स मेरे हाथ से टच होने लगे। अब पहले तो हम इधर उधर की बातें करने लगे, लेकिन फिर उसके गाल के कारण मेरा लंड हार्ड होने लगा। अब उसे भी यह पता लग गया था, अब वो जानबूझ कर मस्ती में मेरे लंड पर अपने गाल को दबाने लगी थी। फिर मैंने कार को एक सुरक्षित जगह देखकर रोका और उसकी सीट नीचे लेटाकर उसके ऊपर आ गया। अब वो बोलने लगी कि कोई देख लेगा, चलो प्लीज बाद में कर लेना, तो मैंने कहा कि कोई नहीं देखेगा बस दो मिनट।

अब में उसके ऊपर लेटा और उसके माथे पर एक किस किया, तो वो इंप्रेस हो गयी और अपने आपको सुरक्षित महसूस करने लगी। फिर धीरे-धीरे मैंने उसके गालों पर दोनों साईड किस किया, शी इज बिकमिंग कंफर्टबल। फिर मैंने इधर उधर देखा तो कोई नहीं था, तो मैंने उसके लिप्स पर अपने लिप्स टच किए और हल्के-हल्के अपनी जीभ को उसके लिप्स पर रब करने लगा। अब वो एग्ज़ाइटेड हो रही थी, फिर मैंने धीरे से उसके लोवर लिप को अपने मुँह में डाला और हल्के से सक करने लगा। अब वो भी धीरे-धीरे मेरे अपर लिप को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी थी। फिर मैंने धीरे-धीरे उसकी कमर को सहलाना चालू किया, अब हम दोनों अपने होश में नहीं थे। फिर अचानक पास से एक ट्रक निकला, तो वो घबरा गयी और उसने मुझे उठने को बोला। फिर मैंने दुबारा कार चलानी शुरू की और उसे अपनी गोद में सिर रखकर लेटा लिया। अब वो पूरे रास्ते मेरे लंड पर कभी गाल दबाती, तो कभी अपने लिप्स से हल्के-हल्के किस करती। अब ऐसे ही पता ही नहीं चला कि कब चंडीगढ़ आ गया, अब मेरा मन उसे छोड़कर जाने का बिल्कुल भी नहीं हो रहा था।

में : जान प्लीज अभी छोड़कर ना जाओं, प्लीज कहीं घूमने चलते है ना।

नेहा : जान दिल तो मेरा भी नहीं है, लेकिन प्लीज़ आज नहीं फिर कभी चलते है।

में : जान कल की फ़िक्र करूँगा तो आज बुरा मान जाएगा।

नेहा : अच्छा जी, तो फिर बोलो कहाँ चलना है घुमने? या सीधा कोई होटल ले ले किराये पर।

में : नेकी और पूछ-पूछ।

फिर नेहा हँसने लगी और मैंने अपनी कार सीधी एक होटल में पार्क की और एक रूम लेकर उसे और उसके बेटे को रूम में लेकर आ गया। फिर उसने अपने पति को कॉल करके कहा कि वो पहुँच गयी है और अपनी सहेली के घर है, फिर यहाँ से दीदी के घर जाएगी। फिर अचानक से उसका बेबी उठ गया और फिर वो उसे दूध पिलाने लगी। अब मैंने उसके बूब्स उस टाईम फर्स्ट टाईम देखे थे, क्या मस्त बूब्स थे उसके? फिर उसका बेबी दूध पीकर सो गया। फिर उसने बोला कि विनीत कुछ पीने को ही मंगा लो, मुझे बियर और वाईन पसंद है। तो मैंने कहा कि ओके जी अभी मँगाता हूँ, वैसे तो में कम पीता हूँ लेकिन जब कोई हसीन लड़की कहे तो में ना नहीं करता। फिर जब तक बियर और वाईन आई तब तक वो फ्रेश हो कर नाइटी पहनकर बाहर आ चुकी थी। फिर हमने बियर के ग्लास भरे और दोनों बैठकर पीने लगे। अब चार ग्लास पीने के बाद वो और हॉट होने लगी थी, अब उसे बियर चढ़नी शुरू हो गयी थी। फिर मैंने उसकी कमर में हाथ डाला, तो वो सीधा ही मेरी बाहों में सिमट गयी और अपने आपको पूरी तरह से मेरे हवाले कर दिया।

फिर मैंने धीरे-धीरे उसकी कमर को सहलाते हुए उसकी नाइटी को उसकी कमर से ऊपर करके उसकी कमर पर अपना हाथ रख दिया और उसकी नंगी कमर को सहलाने लगा और अपना दूसरा हाथ उसकी गर्दन पर ले जा कर गर्दन से कानों तक रब करने लगा। अब वो पूरी तरह से एग्ज़ाइटेड होने लगी थी, फिर मैंने दूसरी साईड गर्दन पर किस करनी शुरू की और धीरे से उसकी गर्दन को अपने मुँह में लेकर सक करने लगा और उसकी टॉप के अंदर अपना हाथ डालकर उसके बूब्स को दबाने लगा, उसके बूब्स बिल्कुल कॉटन की तरह थे। फिर मैंने उसके लिप्स को अपने लिप्स में लिया और काफ़ी देर करीब 15 मिनट तक हम एक दूसरे को चूसते रहे। अब हम दोनों ही आउट ऑफ कंट्रोल हो चुके थे तो मैंने उसकी टॉप और स्कर्ट उतार फेंकी। अब वो मेरे सामने सिर्फ़ ब्रा और पेंटी में थी, दोस्तों में आपको क्या बताऊँ वो उस समय क्या लग रही थी? अब मैंने देर ना करते हुए उसकी ब्रा खोली और उतारकर फेंक दी और उसके बूब्स पर टूट पड़ा, अब में बारी-बारी से उसके दोनों बूब्स को चूस रहा था। फिर उसने मेरी भी टी- शर्ट उतारकर फेंक दी और उसने मेरी जींस का हुक अपने दातों से खोलकर मेरी पेंट की चैन नीचे कर दी और फटाफट मेरी जीन्स उतारकर फेंक दी ।।

अब हम दोनों बेड पर थे और अब हम दोनों ने सिर्फ़ अंडरवेयर पहन रखी थी। फिर मैंने उसको कस कर अपनी बाहों में लिया और उसके पूरे चेहरे को धीरे-धीरे लीक करने लगा और अपने हाथों को उसकी कमर पर, हिप्स पर ज़ोर-ज़ोर से रब करने लगा। अब वो पूरी तरह से पागल होने लगी थी और ज़ोर-ज़ोर से आवाज़ें निकालने लगी और मेरी अंडरवेयर को उतारकर फेंक दी। फिर मैंने भी जल्दी-जल्दी उसकी पेंटी उतारी और फिर हम 69 पोजिशन में आ गये। अब हम दोनों एक दूसरे को फुल फिलिंग देने लगे थे, अब वो मेरे लंड को चूस, चाट रही थी और में भी उसकी चूत को चाट रहा था और अपनी जीभ को उसकी चूत में अंदर डाल रहा था और उसकी चूत में अपनी एक उंगली डालकर अंदर बाहर कर रहा था। अब ऐसा हमारे बीच 30 मिनट तक चला, फिर हम दोनों ने एक दूसरे को चूसा और हम दोनों एक साथ एक दूसरे के मुँह में ही झड़ गये।

फिर मैंने उसे उल्टा लेटने को बोला और उसके पेट के नीचे दो तकिये रखकर उसके कूल्हों को ऊँचा कर लिया और उसकी गांड के छेद पर अपने लंड को रखकर एक ज़ोर का झटका दिया, तो मेरा लंड आधा ही अंदर गया और वो बहुत ज़ोर से चीखी। फिर मैंने एक और ज़ोर का झटका दिया और मेरा पूरा लंड उसकी गांड के अंदर चला गया। फिर मैंने उसकी कमर को पकड़कर उसे थोड़ा और ऊँचा किया और ज़ोर- ज़ोर से उसकी गांड को फुक करने लगा। अब वो पागल होती जा रही थी और अब में उसके कूल्हों पर ज़ोर-ज़ोर से थप्पड़ भी मार रहा था और उसकी चुदाई के पूरे-पूरे मज़े ले रहा था। अब 15 मिनट तक उसकी गांड चोदने के बाद मैंने उसे नीचे लेटाया और उसके दोनों पैरो को पूरा खोलकर अपने कंधो पर रख दिया और उसकी चूत पर अपने लंड को रब करने लगा। अब वो बिना पानी की मछली जैसे तड़पने लगी थी और मेरे लंड को अपनी चूत के अंदर खीचने लगी, तो मैंने अपनी पूरी जान लगाकर एक झटका दिया तो मेरा पूरा लंड उसकी चूत के अंदर चला गया।

अब में उसे तेज-तेज फुक करने लगा था, अब में उसकी चूत को ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा था। अब वो भी अपनी कमर उठा-उठाकर चुदने लगी और अब हम दोनों चुदाई का पूरा-पूरा मज़ा लेने लगे थे। फिर मैंने उसकी चूत को 20 मिनट तक चोदा और फिर वो मेरे ऊपर आ गयी और मेरे लंड को तेज-तेज अपनी चूत के अंदर बाहर करने लगी। अब पूरी रफ़्तार से मेरा लंड तेज-तेज उसकी चूत के अंदर बाहर जा रहा था और पूरे रूम में बस पच-पच चप-चप की आवाज़ें गूँज रही थी। अब एग्ज़ाइट्मेंट अपनी पूरी चरम सीमा पर था और दुबारा हम दोनों का काम एक साथ हो गया। अब हम दोनों एकदम निढाल हो कर एक दूसरे के ऊपर गिर गये और कब हमारी आँख लग गई पता ही नहीं चला। फिर 4 घंटे के बाद उसका बेबी उठा, तो हमारी आँख खुली। फिर उसने मुझसे बोला कि वो सारी ज़िंदगी मेरी रखेल बनकर रहेगी और उसने मुझे बताया कि जो सुख मैंने उसे दिया उसके लिए वो पिछले 4 साल से तड़प रही है और अब वो मेरे साथ रीलेशन में आ कर बहुत खुश है।

Updated: January 7, 2019 — 11:50 pm
Meri Gandi Kahani - Desi Hindi sex stories © 2017 Frontier Theme
error: