सुरुचि की मोटी गाण्ड

hindi sex stories

सबसे पहले मेरी ओर से सभी चूतों और लौड़ों को मेरा नमस्कार। आज मैं आप सब लोगो के सामने अपनी एक सच्ची कहानी पेश करने जा रहा हूँ, आशा करता हूँ कि यह आप सबको पसंद आएगी।

loading...

कहानी लिखने से पहले मैं अपना परिचय देता हूँ !

मेरा नाम रमेश है, मैं राजस्थान में एक छोटे से कस्बे में रहता हूँ, दिखने में मैं साधारण सा नौजवान हूँ परन्तु एक नंबर का चुदक्कड़ हूँ। मुझे शुरू से ही नग्न फिल्में देखने और देख कर मुठ मारने का शौक रहा है इसलिए मेरा लण्ड काफी बड़ा और मोटा है।

अब मैं समय व्यर्थ न करते हुए कहानी पर आता हूँ ! यह कहानी मेरी और मेरी क्लासमेट सुरुचि की है।

बात उन दिनों की है जब मैं 19 साल का था और बारहवीं कक्षा में था। मेरी क्लास में एक लड़की पढ़ती थी जिसका नाम सुरुचि था। दिखने में वो काफी सेक्सी थी, तीखे नैन-नक्श गोरा बदन, मोटे-मोटे स्तन और मोटी ही गाण्ड ! एकदम क़यामत ! उसका फिगर होगा कोई 34-28-38 !

मुझे शुरू से ही वो काफी अच्छी लगती थी। मेरे घर के पास ही रहने के कारण हम दोनों में दोस्ती भी थी। मैं कक्षा में काफी होशियार था इसलिए वो कई बार मेरे घर मुझसे पढ़ने आ जाया करती थी। हम दोनों एक ही टीचर से गणित का ट्यूशन लिया करते थे, साथ ही पढ़ने जाया करते थे। ट्यूशन हमारे घर से तक़रीबन दो किलोमीटर की दूरी पर था तो वो भी मेरे साथ मेरी मोटरसाइकिल पर जाया करती थी।

मैं उसे काफी पसंद करता था और उसे चोदने का काफी मन करता था। परन्तु वो हमारे पड़ोस में रहती थी इसलिए मैंने परिवार की बदनामी के डर से कभी कोशिश नहीं थी, बस एक अच्छे से मौके की तलाश में था।

उन्हीं दिनों हमने एक नया घर लिया था जो हमारे ट्यूशन के रास्ते में ही था, उस घर में कोई नहीं रहता था। मैं वहाँ पढ़ा करता था।

एक बार जब ट्यूशन के लिए जा रहे थे, आधे रास्ते में ही पहुँचे थे कि तेज बरसात होने लगी। हमने रुकना ही उचित समझा तो मैं उसे हमारे नए घर में ले आया और उसे कमरे में ले गया।

मैंने वहाँ उसे बिठाया और तौलिया दिया। बरसात में उसके और मेरे कपड़े भीग चुके थे। सलवार कमीज़ में उसके स्तन साफ़ झलक रहे थे। मेरी नज़र ही नहीं हट रही थी उन पर से। मेरा लण्ड भी खड़ा हो चुका था, वो शायद उसने देख लिया था और उसे यह भी पता लग गया था कि मैं उसके स्तन निहार रहा हूँ। वो उन्हें छुपाने की नाकाम कोशिश करने लगी, मुझसे नज़रें चुराने लगी और इधर उधर रखी किताबें देखने लगी।

तभी अचानक से जोर से बिजली कड़की और वो उठ कर डर के मरे मुझसे लिपट गई !

मैंने भी उसे अपनी बाँहों में समां लिया। बहुत ही अच्छा लगा मुझे ! उसके बारिश में भीगने की वजह से कठोर हो चुके चुचूक मेरे शरीर में गड़ने लगे और मेरा लण्ड उसकी चूत में ठोकर मारने लगा।

वासना मुझ पर हावी होने लगी, मन कर रहा था कि बस वो ऐसे ही मेरी बाँहों में समाई रहे। पर थोड़ी देर में उसे होश आया और वो हटने लगी पर मैंने अपने हाथ से उसकी कमर पकड़ कर अपने से सटा लिया। वो छूटने की नाकाम कोशिश करने लगी। मैं उसका चेहरा निहारे जा रहा था, मैं उसके चेहरे पर आये हुए गीले बालों को पीछे करने लगा और उसके माथे को चूम लिया मैंने।

शायद उसे अच्छा लगा और उसने अपनी आँखें बंद कर ली। फिर मैं उसके गाल से टपकती हुई पानी की बूँदे पीने लगा। फिर जैसे ही मैंने अपने होंठ उसके होंठों पर रखे, उसे जैसे करंट सा लगा और वो मुझे छूटकर शरमाकर बिस्तर पर बैठ गई।

मैं भी उसके पास जाकर फिर से उसे चूमने लगा तो वो कहने लगी- यह गलत है !

पर मैंने उसे समझाया कि ऐसा तो ज़वानी में सब करते हैं।

और तभी उससे अपने प्यार का इज़हार कर दिया और मैंने उसे अपनी बाँहों में भर लिया। वो भी मुझे पसंद करती थी तो उसने कोई विरोध नहीं किया। मैं उसके गाल चूमने लगा और फिर उसके होंठ !

वो भी मेरा साथ देने लगी। मेरे हाथ अनायास ही उसके स्तनों पर चले गए, वो मस्त होने लगी। मैं ऊपर से ही उसके स्तन मसलने लगा। हम दोनों अभी भी एक दूसरे को प्यासों की तरह चूमे जा रहे थे। मैंने अपना हाथ उसके कुरते के अंदर डाल दिया और उसके स्तनों को स्पर्श किया जिससे वो और गर्म होने लगी।

फिर मैंने उसका कुर्ता उतार दिया और उसने भी मेरी टी-शर्ट उतार दी। मैं उसे बेसब्री से चूमे जा रहा था, कभी होंठ कभी गर्दन और फिर मैं उसके स्तन चूमने लगा। उस पर मदहोशी छाने लगी। मैं एक स्तन मुँह से चूस रहा था और दूसरे को अपने हाथ से मसल रहा था।

फिर मैं और नीचे गया और उसकी नाभि चूमने लगा। वो पागल होने लगी, अह्ह्ह अह्ह्ह की आवाजें निकालने लगी।

फिर जैसे ही मैंने उसके सलवार का नाड़ा खोलने की कोशिश की, उसने मुझे रोक दिया और कहा- मैं शादी से पहले किसी से सेक्स नहीं करुँगी।

मैंने उसे कहा- मैं सिर्फ चूत को प्यार से चूमूँगा और जब तक इजाजत नहीं होगी कभी ऐसा वैसा नहीं करूँगा।

वो मान गई।

मुझे तो उससे सेक्स करना था और मुझे पता था एक बार यदि मेरी जीभ का स्वाद इसकी चूत को लग गया तो यह चाहकर भी मुझे चोदने से रोक नहीं पायेगी।

मैंने उसकी सलवार नीचे कर दी और फिर उसकी पैंटी भी निकाल फेंकी। मैं पागल सा होने लगा। मैं पहली बार किसी की चूत देख रहा था और वो भी एक अक्षतनौवना की !

उसकी महक मुझे पागल करने लगी। मैंने सोचा कि यदि सीधे अपनी जीभ इसकी चूत में डाल दी तो यह जल्दी शांत हो जाएगी, तो मैं उसे तड़पाने लगा।

मैंने उसकी जांघों पर चुम्बन लिया और चूमते-चूमते धीरे धीरे उसकी चूत पर पहुँचने लगा।

वो बहुत गर्म हो गई। जैसे कि मैंने पोर्न फिल्मों में देखा था, मैंने उसके दाने पर हल्की सी जीभ लगाई तो उसके मुँह से सीत्कार निकल पड़ी।

मैं उसकी चूत के इर्द-गिर्द चूमने लगा, वो पागल होने लगी और मेरा मुँह पकड़कर अपनी चूत पर रख दिया।

मैं समझ गया था कि यह पूरी तरह गर्म हो चुकी है। मैंने अपना मुँह वहाँ से हटा लिया। वो पागल होने लगी। मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिए और अपना लण्ड उसकी चूत पर रगड़ने लगा। इस बार उसने कोई विरोध नहीं किया, वो कहने लगी- अब सब्र नहीं होता ! प्लीज़ रमेश, डाल दो !

आःह्ह्ह अह्ह्ह की आवाज़े निकलने लगी ! मेरे पास लुब्रीकेटेड निरोध थे, मैंने उसे अपने लण्ड पर चढ़ाया और उसकी चूत पर थूक कर उसमें अंगुली डालने लगा जिससे लण्ड को अंदर जाने में ज्यादा परेशानी न हो। मुझे पता था कि यह पहली बार चुदने जा रही है तो थोड़ी सावधानी बरतने की जरुरत थी।

मैं उसके ऊपर चढ़ कर धीरे धीरे लण्ड को रगड़ने लगा और साथ साथ उसे चूमे भी जा रहा था। फिर मैंने धीरे से अपना लण्ड उसकी चूत में पेल दिया। आधा लण्ड अंदर जा चुका था, उसके मुँह से चीख निकल पड़ी और आँखों में आँसू तैर आये। मैं उसके होंठ चूमता रहा और लण्ड में कोई हरकत न की ताकि इसका दर्द थोड़ा कम हो जाये नहीं तो मेरा सारा किया कराया ख़राब हो जाता और वो फिर मुझे कभी नहीं चुदवाती।

धीरे धीरे उसका दर्द कम होने लगा और वो अपनी गाण्ड उठा कर लण्ड को अंदर लेने लगी। मैं भी अब निश्चिन्त होकर उसे पेलने लगा। मैंने निरोध पहन रखा था इसलिए कोई डर नहीं था। तक़रीबन दस मिनट की चुदाई के बाद मेरा निकलने को हुआ, मैंने अपना लण्ड उसकी चूत में रहते हुए ही निकाल दिया। उसने भी तभी पानी छोड़ दिया।

हम दोनों पलंग पर एक साथ लेट गए। वो काफी खुश और संतुष्ट दिख रही थी। मैंने उसके गाल पर प्यारा सा चुम्बन ले लिया।

वो उसका पहली बार था तो मैंने एक बार करना ही उचित समझा। थोड़ी देर में बरसात बंद हो गई। हम दोनों ने बाथरूम में जाकर एक दूसरे को साफ किया और कमरा ठीक करके वापस घर की ओर चल दिए।

यह थी मेरी और उसकी पहली चुदाई !

उसके बाद हम अक्सर ट्यूशन बंक करके नये घर में चले जाते और सेक्स करते। एक बार उसकी एक सहेली ने उसे मेरे साथ नये घर में जाते हुए देख लिया और उसे सब पता लग गया। उसने अपनी सहेली को ब्लैकमेल किया और बोला कि सिर्फ एक शर्त पर वो हमारे घर वालों से कुछ नहीं कहेगी।

क्या थी वो शर्त और कैसे मैंने उसकी बाकी सहेलियों को अपने घर पर लाकर चोदा? कैसे मेरे दोस्तों ने मेरे साथ उन सभी चूतों का आनंद लिया?

Updated: April 8, 2018 — 12:41 am
Meri Gandi Kahani - Desi Hindi sex stories © 2017 Frontier Theme