तुम मेरी गांड भी मारोगे जान-1

desi kahanai हेलो दोस्तो मेरा नाम सूरज ठाकुर है. आप सब रीडर्स को हैपी न्यू ईयर मुबारक हो कैसे है में आप सब लोग के लिये आशा करता हूँ आपको न्यू ईयर में काफ़ी चूत और लंड मिले तो मैं आपने बारे मे कुछ बता देता हूँ मै अमरावती मे रहने वाला लड़का हूँ और मैं एक मिड्ल फेमिली का हूँ ये स्टोरी मेरी और मेरे फ्रेंड की माँ की है.

मैं एक बहुत सीधा और शर्मीला लड़का हूँ और मेरे दोस्त हमेशा मुझे इस बात के लिये डाटते रहते है मेरा एक बेस्ट फ्रेंड हे अमोल जिसकी फेमिली एक महाराष्ट्रिया है अमोल वो मुझे हमेशा इस बात के लिये डाटता रहता है बोलता रहता है तू इतना सीधा है तो तेरा क्या होगा भाई अमोल की जनरल स्टोर की शॉप है अमोल के पापा मंगेश एक गावं में इम्प्लॉय है और उसकी माँ अनुराधा एक हाउस वाइफ है पर टाइम पास करने के लिए आंटी स्टोर मे बैठती है.

अमोल के पापा मम्मी बहुत अच्छे लोग है हमेशा मेरे बारे मे पूछते रहते है वो मुझे अपने बेटे जैसा ही मानते है मैं हमेशा अमोल से मिलने उसके घर जाता हूँ अगर वो घर पर नही होता है तो उसके स्टोर पर मिलने जाता हूँ कभी कभी अगर वो स्टोर मे नही होता है तो उसकी माँ से टाइम पास करने के लिये बाते करता हूँ पर आज तक मैने उसकी माँ के बारे मे कुछ ग़लत नही सोचा था पर उसकी माँ बहुत सुंदर है उसके बूब्स 32 के साइज़ के है और उनकी गांड बहुत बड़ी है 38 की होगी और उनके बाल बहुत बड़े है.

अब मैं अपनी स्टोरी पर आता हूँ ये एक सच्ची स्टोरी है बात मेरे बर्थ डे के एक महीने पहले की है मैं अमोल से मिलने के लिये उसके घर गया था मुझे पी.सी के लिये कुछ काम था तो पर उसके घर गया तो उसके घर पर लॉक था तो मैं उसके स्टोर पर गया अमोल वहा भी नही था. तो मैं आंटी से बात करने लगा आंटी से पूछा “अमोल कहा गया है उसका फोन भी स्विच ऑफ आ रहा है” तो आंटी ने जवाब दिया “अमोल तो बाहर गावं गया है और कल वापस आने वाला है” तो मैंने अनु आंटी से कहा “तो मैं चलता हूँ” तो आंटी बोलने लगी थोड़ी देर रुक जा में भी बहुत बोर हो रही हूँ.

मैं अनु आंटी से बात करने लगा अनु मेरे परिवार के बारे मे और क्लास के बारे मे पूछ रही थी तो मैने भी जल्दी जवाब दिया. अनु पूछ रही थी की “सूरज तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड नही है क्या” तो मैने कहा “नही आंटी मुझे ये सब पसंद नही है जो मेरे परिवार वाले मेरे लिये लड़की देखेगे मैं उसी से शादी करूगां तो अनु ने कहा “अमोल तेरे बारे मे जो बताता है वो सब सच है तू बहुत सीधा है पर गर्लफ्रेंड रखना कोई बुरी बात नही है आज कल तो सब के पास कोई ना कोई गर्लफ्रेंड होती है अब देख अमोल की गर्लफ्रेंड है तो हम उससे कुछ नही बोलते है आज के ज़माने में ये सब चलता है बेटा अचानक अनु की साड़ी का पल्लु गिर गया और मुझे उनकी क्लीवेज (बूब की बीच जगह) दिख गयी तो अनु ने जल्दी से पल्लु ठीक किया और मैने अनु आंटी से कहा मैं चलता हूँ और में वहा से निकल गया पर मेरे घर जाने तक मुझे अनु के बूब ही दिख रहे थे

मैने खुद पर बहुत कंट्रोल किया पर मुझसे नही हुआ तो मैने घर जा कर मूठ मारी तो पूरा दिन मुझे अनु के बूब ही दिख रहे थे कुछ दिनो के बाद अनु मेरे घर मेरी मम्मी से बात करने आई उस टाइम मैं नहा रहा था नहाने के टाइम मुझे अनु के बूब याद आ रहे थे तो मेरा लंड खड़ा होते जा रहा था मैने तो टावल पहना और बाहर आ गया मुझे नही पता था अनु मेरे रूम मे बैठी है मैंने अपने रूम मे जाते ही टावल निकाल दिया टावल निकलते ही अनु ने मुझे देख लिया और चिल्लाई बेशर्म टावल पहन ले तुझे पता नहीं है क्या में यहा बैठी हूँ” तो मैने जल्दी से टावल पहन लिया पर मेरे गाल शर्म के मारे लाल हो गये थे तो अनु उठी और डोर का लॉक ओपन करने लगी तो मुझे उनकी नाभी (पेट का सेंटर पॉइंट) दिखा तो मेरा लंड फिर से खड़ा होने लगा मैंने खुद पर कंट्रोल किया और डोर ओपन करने मे हेल्प करने लगा.

मैं अनु के पीछे से डोर ओपन करने मे हेल्प कर रहा था तो मेरा लंड अनु की गांड को लग रहा था मैने डोर ओपन कर के दिया और अनु वहा से जाने लगी अनु ने जाते टाइम मेरी तरफ देखा और मुझे गाल पर किस करके चली गयी मुझे कुछ समझ मे नही आ रहा था अनु ने ऐसा क्यों किया मैं अनु से पूछना भी चाहता पर टाइम ही नहीं मिला फिर कुछ दिन ऐसे ही निकल गये 16 तारीख की शाम को मैं अमोल से मिलने घर गया तो अंकल ने कहा वो और अनुराधा स्टोर मे गये है तो मैं वहा चला गया अमोल से मिला और अनु को देखता ही रह गया अनु ने काले कलर की साड़ी पहनी थी और बाल खुले थे.

मेरी नज़र अनु के बूब पर ही थी अनु मेरी और देख कर स्माइल कर रही थी अमोल ने कहा तेरा ध्यान कहा है तू कुछ दिनो से कुछ अलग ही रहने लगा है मैने उसकी बात पर ध्यान नही दिया और कहा चल ना तो अमोल ने कहा की मुझे कैमरा लेना है तो अनु ने कहा कैमरा क्यों ले रहा है तो अमोल ने कहा कल सूरज का बर्थ डे है इसलिये और में बोलने लगा “सॉरी सूरज कल मेरा बैंक का पेपर है तो मुझे नागपुर जाना होगा” तो मैने कहा कल तो बकरा ईद है कल तेरा कौनसा पेपर” है तो अमोल ने मुझे आँख मारी मैं समझ गया की वो अपनी गर्लफ्रेंड को लेकर कही बाहर जा रहा होगा.

Updated: August 27, 2019 — 10:10 pm
Meri Gandi Kahani - Desi Hindi sex stories © 2017 Frontier Theme
error: